ओलंपिक में कुछ ऐसी रही है भारत की हिस्ट्री, कहां है सुधार की जरूरत, इस बार कितने मेडल की उम्मीद? पढ़ें रिपोर्ट

टोक्यो ओलंपिक काउंटडाउन की शुरुआत हो चुकी है। खेलों की इस महाप्रतियोगिता में अपना जलवा दिखाने के लिए भारत के सभी खिलाड़ी तैयार हैं। एक साल देरी से हो रहे इस ओलंपिक में भारत के 126 खिलाड़ी हिस्सा लेने के लिए टोक्यो जा रहे हैं। ये खिलाड़ी 18 खेलों की 69 प्रतिस्पर्धाओं में हिस्सा लेंगे। बता दें कि भारत पहली बार इतनी बड़ी संख्या में अलग-अलग खेलों में भाग लेगा। भारत को इस साल अपने खिलाड़ियों से बड़ी उम्मीदे हैं। वहीं ओलंपिक में भारत के प्रदर्शन की बात करें को तो अब तक हमने कुल 28 मेडल जीते हैं।

116 सालों के ओलंपिक इतिहास में जीते 9 गोल्ड मेडल

साल 1900 से 2016 तक भारत ने ओलंपिक में अब तक कुल 28 पदक अपने नाम किए हैं। इनमें नौ गोल्‍ड, सात सिल्‍वर और 12 कांस्‍य यानी ब्रॉन्‍ज मेडल शामिल हैं। भारत ने अब तक के ओलंपिक इतिहास में सबसे ज्‍यादा मेडल हॉकी में लिए हैं। हमने हॉकी में 11 मेडल जीते हैं- आठ गोल्‍ड, एक सिल्‍वर और दो ब्रॉन्‍ज मेडल। जबकि निशानेबाजी में भारत ने चार पदक जीते हैं। इसके अलावा भारत ने कुश्ती में पांच, बैडमिंटन और मुक्केबाजी में दो-दो तथा टेनिस और वेटलिफ़्टिंग में एक-एक पदक अपने नाम किया है।

पिछले रियो ओलंपिक में भारत का प्रदर्शन निराशाजनक रहा था और उसे केवल एक सिल्वर मेडल और एक कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा था। भारत के लिए बैडमिंटन में पीवी सिंधु ने सिल्वर मेडल और कुश्ती में साक्षी मलिक ने कांस्य पदक जीता था। इस साल भारत बैडमिंटन, कुश्ती, मुक्केबाजी और निशानेबाजी में पदक का प्रबल दावेदार है।

भारत के मुकाबले अब तक 20 गुना पदक जीत चुका है चीन

वहीं अगर भारत के पड़ोसी देश चीन की बात करें, जिसकी जनसंख्या लगभग भारत के बराबर है तो उसका प्रदर्शन ओलंपिक में काफी बढ़िया रहा है। चीन अब तक ओलंपिक में 546 मेडल जीत चुका है।  224 गोल्ड, 166 सिल्वर और 156 ब्रोंज। वहीं भारत ने अब तक कुल 28 पदक ही जीते हैं।  जिनमें 9 गोल्ड हैं। इसके अलावा 40 लाख आबादी वाला देश क्रोशिया भी मेडल के मामले में भारत से आगे है।  क्रोशिया ने अब तक 33 मेडल अपने नाम किए हैं।  इन सब से यह तो साफ है कि खेल के क्षेत्र में हम थोड़ा पीछे हैं।

इस बार 17 मेडलों की है उम्मीद

पिछले ओलंपिक में भारत ने 118 खिलाड़ी भेजे लेकिन इस बार 126 खिलाड़ी टोक्यो गए हैं। ओलंपिक विश्लेषक ग्रेसनोट्स का अनुमान है कि इस बार भारत ओलंपिक में निशानेबाजी में आठ पदक, मुक्केबाजी में चार, कुश्ती में तीन और तीरंदाजी और भारोत्तोलन में एक-एक पदक जीतेगा। ऐसी उम्मीद की जा रही है कि भारत बैडमिंटन, कुश्ती, मुक्केबाजी और निशानेबाजी में  मेडल हासिल करेगा और इस ओलंपिक में भारत का शानदार प्रदर्शन देखने को मिलेगा।

यह भी देखे:-

यमुना एक्सप्रेसवे : डिवाइडर से टकराई कार, महिला की मौत
गौतमबुद्धनगर कोरोना अपडेट: कोरोना मरीजों का आंकडा 400 के पार
नासा की भविष्यवाणी: 2030 में चांद पर होगी हलचल और धरती पर आएगी विनाशकारी बाढ़
कोरोना संक्रमित ध्‍यान दें... खान-पान में इन चीजों का करें प्रयोग, बिना जरूरत अस्‍पताल में न हों भर्...
अखिलेश यादव का भाजपा से सवाल, कहां है वे इंतजाम जिनका बयान प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री देते रहते हैं
विशाल गौतम विश्व हिन्दु महासंघ अधिवक्ता प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष नियुक्त 
पाँच बच्चों की माँ ने प्रेमी के साथ मिलकर अपने दूसरे पति की हत्या की, आरोपी महिला, प्रेमी समेत चार ल...
श्री धार्मिक रामलीला कमेटी में आई दरार, हुई दो फाड़, जानिए क्यों
योजेम्स एनसीआर ओपन टेनिस चैम्पियनशिप का समापन
कोरोना से जंग जारी : पीएम मोदी आज रात 8 बजे करेंगे समीक्षा बैठक, इन मुद्दों पर भी हो सकती है चर्चा
द इंडिया इंटरनेशनल हॉस्पिटैलिटी एक्सपो 2020 का शुभारम्भ 
रूसी राष्ट्रपति पुतिन बोले- पीएम मोदी और शी सीमा विवाद सुलझाने में सक्षम, नहीं है तीसरे की जरूरत
सामाजिक संस्था नेफोमा का संकल्प कोई भूखा न रहे के तहत आज 55 वे दिन असहाय 600 मजदूरों, महिलाओं, बच्चो...
दिल्ली का उभरता सितारा, बाल कलाकार दिव्यांशु 
मिशन: तकनीकी गड़बड़ी के कारण इसरो ने टाला जीआईसैट-1 का प्रक्षेपण
कोरोना से हुए अन्धकार को दूर करना है, 5 अप्रैल को मनाएं प्रकाशोत्सव : पीएम मोदी