अलकायदा के संदिग्ध आतंकियों की सीरियल ब्लास्ट के बाद यह थी प्लानिंग, तैयार था पूरा नक्शा

यूपी में सीरियल ब्लास्ट करने के बाद मिनहाज, मुशीर व उसके अन्य साथियों को किस रास्ते से और किस साधन से भागना है, यह सब कमाण्डर ने तय कर रखा था। उसने बाकायदा भागने के रास्ते का नक्शा तैयार कर लिया था और इस बारे में मिनहाज को जल्दी ही बताने को कहा था। कमाण्डर ने मिनहाज से पूरी साजिश का खुलासा नहीं किया था। इस आपरेशन की पूरी जानकारी देने के लिये ही वह आने वाला था।

माना जा रहा है कि आपरेशन के एक-दो दिन पहले ही वह साजिश का खुलासा मिनहाज व मुशीर से करता। इस मुलाकात के दौरान ही यह भी तय होना था कि मानव बम से विस्फोट कराया जायेगा तो कौन मानव बम बनेगा। अगर मानव बम वाला प्लान कैंसिल होता है तो विस्फोट कैसे और कहां किया जायेगा, यह भी मुलाकात के दिन ही तय किया जाना था।

आतंकी गतिविधियों में लिप्त होने के आरोप में पकड़े गये मिनहाज व मुशीर से रिमाण्ड के तीसरे दिन भी कई घंटे तक पूछताछ की गई। एटीएस के अफसरों का कहना है कि ये लोग खुलकर कुछ नहीं बोल रहे हैं। सवालों के अजीबोगरीब जवाब देकर टीम को उलझा रहे हैं। एक ही सवाल को कई बार घुमा-फिरा कर पूछने से कई तथ्य सामने आ रहे हैं। एक अधिकारी ने बताया कि मिनहाज व मुशीर के कुछ दस्तावेजों से भी काफी जानकारी मिली है। साथ ही अब तब की पूछताछ में कमाण्डर से जुड़े कई तथ्य उसने बताये थे।

ट्रैवेल एजेन्सियां सम्पर्क में थी

मिनहाज ने एटीएस अफसरों को बताया कि विस्फोट तो कई जगह करने की साजिश रची गई थी। पर, अंतिम समय पर ही इसकी पूरी जानकारी दी जानी थी। कुछ वीडियो के जरिये टिप्स दी गई थी। यह भी बताया गया था कि साजिश के बाद उन्हें भागने के लिये गाड़ियां ट्रैवेल एजेन्सी के जरिये मिलनी थी। यह ट्रैवेल एजेन्सी लखनऊ की हैं अथवा किसी अन्य जगह की। इस बारे में मुशीर व मिनहाज को नहीं बताया गया था।

नक्शा नहीं जलाया गया

मिनहाज ने पूछताछ में गैराज के अंदर किसी तरह का नक्शा जलाये जाने की बात को गलत बताया। उसने कहा कि अभी नक्शा उसे उपलब्ध ही नहीं कराया गया था। यह जरूर कहा कि कमाण्डर ने आपरेशन को लेकर कई तरह के नक्शे तैयार किये थे, जो जल्दी ही उन लोगों को दिये जाने वाले थे। दोनों कमाण्डर को उत्तर प्रदेश की पूरी भौगोलिक जानकारी थी।

नौकरी के नाम पर कई युवा सम्पर्क में

एटीएस के एक अधिकारी के मुताबिक मिनहाज कई युवाओं के सम्पर्क में था। उसकी बैट्री की दुकान पर अक्सर अलग-अलग जगह से लोग आते रहते थे। वह इन्हें जल्दी ही नौकरी दिलाने की बात कहता था। माना जा रहा है कि मिनहाज इस बहाने से ही उनसे मित्रता बढ़ाता था और यह पता करने की कोशिश करता था कि इनमें कौन उसके लिये ज्यादा मुफीद रहेगा।

यह भी देखे:-

हृदय की जांच कराएं मुफ्त , यथार्थ अस्पताल द्वारा नि:शुल्क जांच शिविर कल 25 अगस्त को
देखें VIDEO, जानिए क्यों दोस्तों ने मिलकर किया दोस्त का क़त्ल
बड़ी कार्यवाही : लेबर सेस जमा नहीं कराने पर आम्रपाली ग्रुप दो अधिकारी अरेस्ट
पृथ्वी दिवस पर बोधि तरु इंटरनेशनल स्कूल   के बच्चों ने "पेड़ पौधो को मत करो नष्ट, सांस लेने में होगा ...
ग्रेटर नोएडा में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को अनिवार्य रूप से लागू करे प्राधिकरण : गोल्डन फेड...
बनारस में प्रियंका: एजेंडे में कृषि कानून और लखीमपुर कांड, किसान न्याय रैली को करेंगी संबोधित
मंजूरी: ऑस्ट्रेलिया में भारत के स्वदेशी टीके कोवाक्सिन को मिली हरी झंडी, बिना रोक-टोक होगी यात्रा
'आप' किसान प्रकोष्ठ के नोएडा महानगर में कपिल यादव बने अध्यक्ष व हर्ष नंबरदार महासचिव
MLC शिक्षक चुनाव में श्रीचंद शर्मा ने दर्ज किया शानदार जीत
कोरोना संकट : संक्रमण की नई लहर मई मध्य तक पहुंच सकती है अपने चरम पर
कोरोना के मामले में उछाल: चुनावी राज्यों में दिशा-निर्देशों की धज्जियां उड़ाने का दुष्परिणाम
पीएम मोदी की सभा मे सीएम का विरोध करने जाने से ऐडवोकेट रविन्द्र भाटी को पुलिस ने रोका
दूसरी लहर के थमने पर कई राज्यों ने दी पाबंदियों में ढील, अनलॉक होने लगेगी जिंदगी
मोदी सरकार की एक नई आवास योजना, अब हर गरीब के सर पर होगी छत
ब्रेकिंग न्यूज़:दिल्ली-एनसीआर में फिर भूकंप के झटके, एक हफ्ते में दूसरी बार कांपी धरती
ग्रेटर नोएडा : धरने पर पहुंचे राकेश टिकैत, 18 जून को होने वाले अधिवेशन में हो सकता है बडा फैसला