बंगाल चुनाव के बाद भड़की हिंसा के क्या हैं कारण? सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र, राज्य और चुनाव आयोग को भेजा नोटिस

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को केंद्र, तृणमूल कांग्रेस सरकार और भारत के चुनाव आयोग (ईसीआई) को एक याचिका पर नोटिस जारी किया है। याचिका में पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद की हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) से कराने की मांग की गई थी। न्यायमूर्ति विनीत सरन की अध्यक्षता वाली पीठ ने उस याचिका पर केंद्र, पश्चिम बंगाल सरकार और चुनाव आयोग से जवाब मांगा है। आपको बता दें कि इसमें चुनाव के बाद हुई हिंसा में पीड़ितों और उनके परिवारों के लिए मुआवजे की मांग की गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस के जवाब के लिए इन सभी पक्षकारों को चार सप्ताह का समय दिया है। हालांकि याचिका में राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी पक्षकार बनाया गया था, लेकिन उन्हें कोई नोटिस नहीं जारी किया गया। लखनऊ की वकील रंजना अग्निहोत्री ने पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हिंसा की निष्पक्ष जांच कराने के लिए विशेष जांच दल गठित करने की मांग भी न्यायालय से की है। इससे पहले इस याचिका पर दो बार सुनवाई तब टल गयी थी, जब न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी और अनिरुद्ध बोस ने एक-एक करके खुद को मामले की सुनवाई से अलग कर लिया था।

याचिका में 2 मई, 2021 से पश्चिम बंगाल में हुई चुनाव के बाद हुई हिंसा के कारणों और कारणों की जांच के लिए शीर्ष अदालत के नियंत्रण और निर्देश के तहत एक एसआईटी गठित करने और इस तरह की हिंसा के लिए जिम्मेदार व्यक्तियों का पता लगाने का निर्देश देने की मांग की गई है। दोषियों के खिलाफ कानून के अनुसार उचित कार्रवाई की मांग की गई है।

हिंदू फ्रंट फॉर जस्टिस, अधिवक्ता रंजना अग्निहोत्री और जितेंद्र सिंह द्वारा दायर याचिका में दावा किया गया है कि विधानसभा चुनावों के दौरान विपक्षी राजनीतिक दल भाजपा का समर्थन करने के लिए टीएमसी के कार्यकर्ताओं द्वारा पश्चिम बंगाल के हजारों निवासियों को आतंकित, दंडित और प्रताड़ित किया जा रहा है। आपको बता दें कि हाल ही में बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे घोषित किए गए थे।

याचिका में कहा गया है, “याचिकाकर्ता पश्चिम बंगाल के उन हजारों नागरिकों के हितों की वकालत कर रहे हैं जो ज्यादातर हिंदू हैं और बीजेपी का समर्थन करने के लिए मुसलमानों द्वारा उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। वे हिंदुओं को कुचलना चाहते हैं ताकि आने वाले वर्षों में सत्ता उनकी पसंद की पार्टी के पास बनी रहे। “

आपको बता दें कि दो मई को नतीजे आने के बाद से राज्य के विभिन्न हिस्सों में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के समर्थकों के बीच कथित रूप से झड़प के बाद कई हिंसक घटनाओं की सूचना मिली थी, जिसमें कम से कम 16 लोग मारे गए थे। पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा के बाद कई याचिकाएं दायर की गईं और शीर्ष अदालत ने सरकारों से जवाब मांगा था।

यह भी देखे:-

मिशन 2022: योगी के चेहरे पे लड़ा जाएगा चुनाव, पीएम ने लगा दी मुहर, पढें पूरी रिपोर्ट
देखें VIDEO, ग्रेनो के एक्सपो मार्ट में एलईडी एक्सपो 2018 का शुभारम्भ
बाईक सवार बदमाशों ने सुपरवाइजर को लूटा
यूनाइटेड कॉलेज  में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का आयोजन 
आज का पंचांग, 10  अगस्त 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
ब्रिटेन में हिंदुओं पर हमले के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई के लिए विहिप ने प्रधानमंत्री लिज ट्रस को लिख...
CORONA UPDATE : गौतमबुद्ध नगर में 81 साल के व्यक्ति समेत 7 ने जीती कोरोना से जंग
छात्रा आत्महत्या मामला : परिजनों ने स्कूल गेट पर किया प्रदर्शन, लगाया जाम
भारतीय रेलवे ने इन मीडिया रिपोर्ट का किया खंडन, ट्रेन संचालन पर कहा .... पढ़ें पूरी खबर
बोरे में मिला अज्ञात महिला का शव
वर्चुअल मीटिंग में भारतीय मूल के सेशेल्‍स के राष्‍ट्रपति ने पीएम मोदी को 50 हजार कोविशील्‍ड वैक्‍सीन...
जीतो (JITO) फरीदाबाद अध्याय की स्थापना समारोह ताज विवांता में आयोजित
कोबरा कमांडो राकेश्वर सिंह मनहास ने बताई नक्सलियों की कैद में रहे उन छह दिनों की कहानी, आप भी जानें
India Coronavirus Update: पिछले 24 घंटों में 10,929 नए मामलों के साथ 392 लोगों की मौत
सिटी हार्ट एकेडमी स्कूल में बड़ी धूमधाम से मनाया गया रक्षाबंधन पर्व
किसानों का देशव्यापी भारत बंद शुरू, प्रदर्शनकारियों ने ब्लॉक किया गाजीपुर बॉर्डर