वैज्ञानिकों की चेतावनी: बच्चों को मोबाइल-कंप्यूटर के ज्यादा इस्तेमाल से रोकें वरना इस समस्या के हो जाएंगे शिकार

स्कूल की पढ़ाई हो या ऑफिस का काम, कोरोना काल में सबकुछ ऑनलाइन हो गया। लिहाजा लोगों का स्क्रीन टाइम पहले की तुलना में कहीं ज्यादा बढ़ गया। सरल शब्दों में स्क्रीन टाइम का मतलब किसी व्यक्ति द्वारा लैपटॉप, डेस्कटॉप, स्मार्टफोन और टेलीविजन जैसे स्क्रीन वाले डिवाइस पर बिताया जाने वाला अधिक समय होता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम कई प्रकार के गंभीर रोगों का कारण बन सकता है।
हाल ही में हुए एक अध्ययन में वैज्ञानिकों ने बताया कि बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम कई तरह की समस्याओं को जन्म दे रहा है। विशेषकर कम उम्र के बच्चों में यह गंभीर मोटापे की समस्या का कारण बन सकता है। मोटापे को कई गंभीर रोगों जैसे हृदय रोग और डायबिटीज का मुख्य कारक माना जाता है।

बच्चों में बढ़ गया है मोटापे का खतरा
वैज्ञानिकों ने हालिया अध्ययन में बताया है कि 5-10 साल की उम्र के बच्चे, जिनका स्क्रीन टाइम इन दिनों काफी बढ़ गया है, उनमें एक साल बाद वजन बढ़ने की संभावना काफी अधिक देखी जा रही है। अध्ययन में पाया गया कि सभी प्रकार के स्क्रीन पर बिताया गया प्रत्येक अतिरिक्त घंटा उच्च बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हो सकता है। ऐसे में माता-पिता को बच्चों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।

गंभीर रोगों को जन्म दे सकती है मोटापे की समस्या
जर्नल ‘पीडियाट्रिक ओबेसिटी’ में प्रकाशित अध्ययन के निष्कर्ष में वैज्ञानिकों ने बताया है कि अगर इस बात को गंभीरता से नहीं लिया गया तो मोटापे की यह समस्या बच्चों के लिए भविष्य में गंभीर रोगों का कारण बन सकती है। अध्ययन की शुरुआत में अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त बच्चों का जो आंकड़ा 33.7 प्रतिशत था वह एक साल बाद बढ़कर 35.5 प्रतिशत हो गया है। वयस्कता के शुरुआती आयुवर्ग वाले बच्चों में भी इस तरह की समस्या ज्यादा देखी गई है।

बढ़े हुए स्क्रीन टाइम का मोटापे से क्या संबंध?
सैन फ्रांसिस्को स्थित कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय में बाल रोग के सहायक प्रोफेसर और अध्ययन के मुख्य लेखक जेसन नागाटा कहते हैं, ‘बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम स्वाभाविक रूप से शारीरिक गतिविधियों को कम कर देता है। इसके अलावा मोबाइल-टीवी पर कुछ देखते वक्त कुछ खाने की इच्छा होती है, जिससे आप ओवरइटिंग के शिकार हो जाते हैं। ऐसे में शारीरिक गतिविधियों में पहले से कमी और ऊपर से कुछ न कुछ खाते रहने की आदत मोटापे का कारण बन जाती है। हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि यह अध्ययन इस बात पर और अधिक शोध की आवश्यकता पर जोर देता है कि स्क्रीन टाइम युवाओं के भविष्य में कैसे प्रभावित कर सकता है?

 

 

यह भी देखे:-

UP Panchayat Election 2021: मुलायम सिंह की भतीजी को भाजपा ने दिया टिकट, देखिए मैनपुरी की सूची
केंद्र सरकार की ट्विटर को आखिरी चेतावनी, नए IT नियम माने या परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहे
यूपी: माध्यमिक विद्यालय खुलने का नियम बदला, अपर मुख्य सचिव ने दिए निर्देश
लापरवाही से गई बिजली कर्मचारी की जान
सिटी हार्ट अकादमी स्कूल में मनाया गया दीपावली महोत्सव, हुए विभिन्न कार्यक्रम।
इतनी सस्ती नहीं... टैक्स चोरी मामले में IT रेड पर तापसी पन्नू ने तोड़ी चुप्पी, आरोपों का ऐसे दिया जव...
समाजसेवी नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान महासचिव रश्मि पांडेय को मिला नेशनल जय हो अवार्ड 2019
UP: मेडिकल स्टोर पे मास्क न लगाने पे नही मिलेगी दवा, रेलवे वसूलेगा जुर्माना
क्रिसमस के रंग में रंगे ग्रेटर नोएडा के  स्कूल, स्टूडेंट बने सांता क्लॉज  , देखें झलकियाँ
टोक्यो ओलंपिक में खेल रही थी एथलीट, घर लौटते ही मिली बहन की मौत की खबर, निकल पड़े आंसू
चीन का मुद्दा पीएम मोदी ने अमेरिका में उठाया , आस्ट्रेलिया और जापान से की चर्चा
मेट्रो में बढ़ने वाले हैं कोच : मिलेगा अधिक यात्रियों को सफर का मौका
कोरोना के मामले में दुनियाभर के रिकॉर्ड ध्वस्त, एक दिन में 3.15 लाख नए केस के साथ भारत ने अमेरिका को...
नेचुरोपैथी डे ( प्राकृतिक चिकित्सा दिवस ) पर सम्मति द्वारा नि:शुल्क परामर्श
Weather Alert: उत्तर भारत में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना
दिल्ली : स्कूलों में शिक्षकों के 12,065 रिक्त पद भरने की प्रक्रिया शुरू