डेल्टा प्लस वैरिएंट का टीके पर प्रतिकूल प्रभाव डालने का कोई वैज्ञानिक डाटा उपलब्ध नहीं : डॉ. वीके पॉल

नई दिल्ली, प्रेट्र। कोविड टास्क फोर्स के प्रमुख और नीति के आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने सोमवार को कहा कि किसी भी कोरोना ​​लहर के लिए तारीख बताना अनुचित होगा क्योंकि कोरोना वायरस का व्यवहार अप्रत्याशित है। प्रभावी तरीके से महामारी की प्रतिक्रिया देश को किसी भी महत्वपूर्ण प्रकोप से दूर रखने में मदद कर सकती है।

कोरोना की एक और लहर कई कारकों पर निर्भर

वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट के बारे में बढ़ती चिंताओं के बीच डॉ. वीके पॉल ने कहा कि यह स्थापित करने के लिए अब तक कोई वैज्ञानिक डेटा नहीं है कि नया संस्करण अत्यधिक संक्रामक है या टीके की प्रभावकारिता को कम करता है। पॉल ने कहा कि एक और लहर का आकार कई कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें कोविड के प्रति उपयुक्त व्यवहार, टेस्ट और रोकथाम रणनीतियों और टीकाकरण दरों के संदर्भ में समग्र अनुशासन शामिल है।

महामारी की लहर की तारीख तय करना उचित नहीं

इसके अलावा वायरस का अप्रत्याशित व्यवहार महामारी की गतिशीलता को भी बदल सकता है। ऐसे परिदृश्य में उनका जटिल कारक संक्रमण और प्रकोप की श्रृंखला निर्धारित करेगा। उन्होंने कहा कि किसी भी लहर का होना या न होना हमारे अपने हाथ में है। मेरे विचार से किसी भी लहर के लिए कोई तारीख तय करना उचित नहीं है।

अनॅलाक में हमें कोविड को लेकर करना होगा प्रोटोकाल का पालन

पिछले कुछ दिनों में दूसरी कोरोना की लहर के चरम के दौरान दैनिक मामले चार लाख से घटकर लगभग 50,000 हो गए हैं और देश के कई हिस्सों में अनलॉक प्रक्रिया या प्रतिबंध हटाने का काम चल रहा है। ऐसे में पॉल ने कहा कि अगर हम दृढ़ और अनुशासित और प्रभावी तरीके से महामारी को प्रतिक्रिया देते हैं तो हमें किसी भी महत्वपूर्ण प्रकोप से दूर होने की स्थिति में होना चाहिए।

डेल्टा प्लस वैरिएंट के बारे में है प्रारंभिक जानकारी

वर्तमान में तीन वैक्सीन भारत बायोटेक द्वारा कोवैक्सिन, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) द्वारा कोविशील्ड और रूस के स्पुतनिक V का उपयोग भारत में टीकाकरण अभियान के लिए किया जा रहा है। डेल्टा प्लस वैरिएंट के बारे में पूछे जाने पर पॉल ने कहा कि इसके बारे में वैज्ञानिक ज्ञान अभी प्रारंभिक चरण में है। तथाकथित डेल्टा प्लस वैरिएंट डेल्टा संस्करण का एक अतिरिक्त म्यूटेशन को प्रदर्शित करता है। चूंकि यह एक नया वैरिएंट है, वैज्ञानिक ज्ञान अभी भी प्रारंभिक चरण में है।

और जानकारी की प्रतीक्षा करें

क्या डेल्टा वैरिएंट में यह अतिरिक्त म्यूटेशन बढ़ी हुई संक्रमण क्षमता या बीमारी की अधिक गंभीरता से जुड़ा है या टीके के प्रभाव को कम करता है पर उन्होंने बताया कि टीका की प्रभावी होने पर कोई प्रतिकूल प्रभाव वर्तमान में स्थापित नहीं है और हमें इस बारे में और जानकारी आने की प्रतीक्षा करनी चाहिए। हमें इन पहलुओं का व्यवस्थित रूप से अध्ययन करने की प्रतीक्षा करनी चाहिए।

यह भी देखे:-

पति राज कुंद्रा के विवाद पर शिल्पा शेट्टी ने तोड़ी चुप्पी, एक्ट्रेस ने जारी किया बयान, जानिए क्या कह...
पीपीई किट-मास्क बनाने की फैक्टरी में भीषण आग, 14 झुलसे
ब्रेकिंग न्यूज़ : देश में लॉकडाउन बढाया गया
Auto Expo – The Motor Show 2018 commences with exclusive media preview
जिलाधिकारी कार्यालय पर वकीलों का प्रदर्शन, जानिए वजह
यूपी के लिए राहत की खबर, 22 जिले ऐसे हैं, जहां सक्रिय केसों की संख्या 100 से भी कम
बिभर्ते व विओम ने डीसीडीसी डायलिसिस सेंटर में खुशियों के रंग बांट कर मरीजों संग मनाई होली
आने वाला समय होगा हाइब्रिड और डिजिटल, बदलेगा काम करने का तरीका, जानें कैसे
ज़ायकोब-डी: जल्दी ही भारत को मिल जाएगी छठवीं वैक्सीन, जानिए इस टीके के बारे में सबकुछ विस्तार से
जनसुनवाई में सीईओ से मिले उद्यमी, मांगी जमीन
पेड़ से लटकी मिली लाश, जांच में जुटी पुलिस
दिल्ली : कोवाक्सिन की एक डोज ले चुके लोगों को ही लगेगी दूसरी डोज
एसएसपी धर्मेंद्र सिंह की प्रेस कांफ्रेंस - केन्याई छात्रा के साथ नहीं हुई मारपीट
ग्रेटर नोएडा:-फर्जी कॉल सेंटर पर पुलिस की छापेमारी, 55 कम्प्यूटर सिस्टम पुलिस ने किए बरामद
एनटीपीसी दादरी में नुक्कड़ नाटक के मंचन द्वारा रोड सेफ्टी हेतु जागरुकता कार्यक्रम
आजाद समाज पार्टी के प्रत्याशी मोहित भाटी को मिल रहा है समर्थन