हवा से बातें करेगी शक्तिशाली मिसाइल अग्नि प्राइम, परीक्षण की तैयारियां पूरी

अग्नि 4 मिसाइल जिसकी मारक क्षमता 4000 किलोमीटर है तथा अग्नि 5 मिसाइल यानी कि जिसकी मारक क्षमता 5000 किलोमीटर की है उनकी खूबियों को इस अत्याधुनिक मिसाइल अग्नि प्राइम में शामिल किया गया है। इस मिसाइल को डीआरडीओ ने विकसित किया है, अग्नि 1 का अत्याधुनिक रूप कहे जाने वाला अग्नि प्राइम नामक मिसाइल (Agni Prime Missile) के परीक्षण की सारी तैयारियां मानो पूरी कर ली गई है। आज यानी कि सोमवार को दोपहर 12 बजे के आसपास इस नए किस्म के मिसाइल का परीक्षण किया जाएगा। इसे लेकर में डीआरडीओ के वैज्ञानिकों और अधिकारियों ने तैयारी पूरी कर ली है।

जानें मिसाइल की खूबियां 

इस मिसाइल को डीआरडीओ ने विकसित किया है इस मिसाइल में अग्नि 4 मिसाइल जिसकी मारक क्षमता 4000 किलोमीटर है तथा अग्नि 5 मिसाइल यानी कि जिसकी मारक क्षमता 5000 किलोमीटर की है उनकी खूबियों को इस अत्याधुनिक मिसाइल अग्नि प्राइम में शामिल किया गया है।

अग्नि प्राइम मिसाइल की मारक क्षमता 1000 से 1500 किलोमीटर है लेकिन यह मिसाइल अत्याधुनिक साजो सामान से सुसज्जित है इस मिसाइल के परीक्षण हो जाने से भारत के मिसाइल बेड़े में एक और जहां नयी मिसाइल शामिल होगी वहीं दूसरी ओर भारत के रक्षा ताकत में इजाफा होगा।

भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा रक्षा विभाग की ओर से तथा डीआरडीओ की ओर से यानी की रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के वैज्ञानिकों द्वारा समय-समय पर बालेश्वर के चांदीपुर के एल सी 1 एल सी 2 और एल सी 3 नामक परीक्षण केंद्र तथा अब्दुल कलाम द्वीप के एल सी 4 परीक्षण केंद्र से समय-समय पर छोटे-छोटे रॉकेट से लेकर विभिन्न प्रकार के मिसाइलों और भारी-भरकम मिसाइलों जिसमें बैलेस्टिक मिसाइल और क्रूज मिसाइल दोनों प्रकार के मिसाइल शामिल हैं का परीक्षण किया जाता रहा है।

मिसाइल के क्षेत्र में भारत पूरे विश्व में मील का पत्थर

सूत्रों की माने तो यह परीक्षण आने वाले दिनों में और बड़ी तादाद में किए जाने की संभावना है। इस परीक्षण को देखते हुए विश्व के कई देश नाराजगी जाहिर कर सकते हैं लेकिन भारत अपनी ताकत अपनी क्षमता को बढ़ाने के उद्देश्य से आज विश्व के मानचित्र पर अपना एक नया चेहरा उजागर कर चुका है। मुख्यतः मिसाइल के क्षेत्र में भारत आज पूरे विश्व में मानो मील का पत्थर साबित हो चुका है आज भारत जितनी भी मिसाइलों का परीक्षण कर रहा है। अधिकांश मिसाइलें स्वदेशी ज्ञान कौशल से बने हुए हैं मेक इन इंडिया के तहत आज भारतीय वैज्ञानिक विदेशी देशों पर निर्भर ना करके खुद अपने परिश्रम से अपने देश में अपना मिसाइल निर्माण करने में लगे हैं। इनमें से कई मिसाइलों की चाहत आज विश्व बाजार में हो चुकी है। विश्व के कई देश भारतीय मिसाइलों को खरीदने की चाह रखने लगे हैं।

यह भी देखे:-

ग्रेटर नोएडा पहुंचेंगे डीजीपी ओपी सिंह
VIDEO NEWS >> CLICK
अगर आप एयरटेल कस्टमर हैं , तो अच्छी खबर है
यथार्थ अस्पताल में गर्भवती महिलाओं के लिए विशेष प्रोग्राम "किलकारी" का उद्घाटन
ग्रेनो प्राधिकरण के सीईओ ने सेक्टर बीटा वन का किया दौरा, ग्रेनो को देश का सर्वश्रेष्ठ बनाने में निवा...
गौतमबुद्धनगर ; वांटेड गैंगस्टर को थाना नाॅलेज पार्क पुलिस ने दबोचा
चिंता: कोविशील्ड को वैक्सीन पासपोर्ट की मान्यता नहीं, यह टीका लगवाने वाले नहीं जा सकेंगे यूरोप
एनआईईटी संस्थान में मिस इंडिया खादी 2018 फैशन शो का आयोजन
योगी जी को फिर चुने, हम यूपी को नंबर एक राज्य बना देंगे -अमित शाह
ग्रेटर नोएडा : जेल में बंद किसानों का बयान , जेल में करेंगे भूख हड़ताल
20 वीं मंजिल से कूदकर व्यक्ति ने की आत्महत्या
ग्रेटर नोएडा सेक्टर- 36 आरडब्लूए ने सराहनीय कार्य करने पर कासना कोतवाली प्रभारी जितेंद्र कुमार को सम...
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल
चलती ट्रेन में चढ़ने की कोशिश में महिला का फिसला पैर, आरपीएफ के कांस्टेबल ने बचाई जान
पीएम मोदी ने लोगों से की टीका उत्सव मनाने की अपील,
गौतमबुद्ध नगर : एसएसपी अजय पाल शर्मा ने थाना प्रभारियों में किया फेरबदल