किसान आंदोलन : 7 महीने बाद आज किसान लेंगे सबसे बड़ा कदम, जानें पूरी रिपोर्ट

नई दिल्ली, एजेंसियां। केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे किसान संगठन आज देश भर के राजभवनों का घेराव करेंगे और राज्यपालों और राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपेंगे। बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के विरोध प्रदर्शन के सात महीने पूरे हो गए हैं। उऩ्होंने दिल्ली और हरियाणा के बीच सिंघू बॉर्डर पर अपना आंदोलन शुरू किया था। राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर अन्य दो विरोध स्थल टिकरी और गाजीपुर हैं। इस दौरान दिल्ली-गाजियाबाद की सीमा यूपी गेट पर किसानों का ट्रैक्टर मार्च भी होगा।

दिल्ली मेट्रो के तीन स्टेशन बंद रहेंगे

समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार किसानों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो ने शनिवार को येलो लाइन पर तीन मुख्य स्टेशनों को चार घंटे के लिए बंद करने का फैसला किया है। डीएमआरसी ने बताया कि दिल्ली पुलिस की सलाह के अनुसार सुरक्षा कारणों से येलो लाइन के तीन मेट्रो स्टेशन, विश्वविद्यालय, सिविल लाइन और विधानसभा कल सुबह 10:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक लोगों के लिए बंद रहेंगे।

पिछले साल 25 नवंबर से प्रदर्शन कर रहे किसान

भारतीय किसान संघ के एक प्रवक्ता ने कहा कि किसान फिर से भारी संख्या में गाजीपुर सीमा पर अपनी ताकत का प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान तीन केंद्रीय कानूनों को रद करने की मांग को लेकर पिछले साल 25 नवंबर से प्रदर्शन कर रहे हैं। 26 जून को किसानों के प्रतिनिधि विभिन्न राज्यों के राज्यपालों को ज्ञापन सौंपेंगे। दिल्ली का राज निवास सिविल लाइंस इलाके में स्थित है।

कई दौर की वार्ता के बाद भी नहीं टूटा गतिरोध

किसान नए कृषि कानूनों को वापस लेने और उनकी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी के लिए एक नया कानून बनाने की मांग को लेकर पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। इसे लेकर किसानों और सरकार के बीच कई दौर की वार्ता हुई, पर गतिरोध नहीं खत्म हुआ। सरकार ने आखिरी बार 22 जनवरी को किसान नेताओं के साथ बातचीत की थी। दिल्ली में किसानों द्वारा 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के हिंसक हो जाने के बाद दोनों पक्षों के बीच बातचीत रुक गई थी।

कृषि कानून विरोधी आंदोलन में तोड़फोड़ की आशंका

खुफिया एजेंसियों ने दिल्ली पुलिस और सीआइएसएफ को किया अलर्ट। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ के इशारे पर कृषि कानून विरोधी आंदोलन में खलल डाल सकते हैं उपद्रवी। खुफिया एजेंसियों को आशंका है कि प्रदर्शनकारी सुरक्षा बलों को उकसा सकते हैं ताकि स्थितियां हाथ से बाहर निकल जाएं। इस अलर्ट के मद्देनजर सुरक्षा बलों ने पुख्ता इंतजाम किए हैं।

यह भी देखे:-

IMD की चेतावनी, 5-6 नवंबर तक काफी खराब हो सकती है हवा
ममता की हुंकार: भाजपा को सत्ता से बेदखल करने तक 'खेला होबे', तानाशाही पर आमादा है केंद्र सरकार
फैसला: ब्लैग फंगस अब यूपी में भी महामारी घोषित, मुख्यमंत्री योगी ने जारी किए निर्देश
योगी सरकार का बयान- UP में अभी लॉकडाउन, नाइट कर्फ्यू पर विचार नहीं, होली पर बाहर से आने वालों की होग...
सात माह से चल रहा धरना खत्म, ग्रेनो में गंगाजल लाने पर काम शुरू
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने गुलिस्तानपुर के पंचायतघर को अवैध कब्जे से मुक्त कराया
अहमदाबाद से आए डायबीटीज़ विजय रथ को जिलाधिकारी गौतमबुध नगर सुहास एल वाई ने झंडी दिखाकर किया राजघाट क...
गाजियाबाद के राजनगर में डकैती की घटना से पूरे इलाके में सनसनी
व्हीलचेयर पर दिखा मुख्तार अंसारी, मोहाली कोर्ट में पेशी के दौरान पंजाब सरकार पर लगाया फंसाने का आरोप
आधा दर्जन चोरी की बाइक के साथ बदमाश गिरफ्तार
आईआईटी बीएचयू को पहला स्थान: शैल इको मैराथन में मिली बड़ी उपलब्धि, 8250 यूएस डालर का मिला पुरस्कार
खतरे की घंटी : कोरोना 'निगल' रहा है बच्चों की सेहत, लंबे समय से घर में रहते हुए चिड़चिड़े
एसएससी ने सीजीएल परीक्षा और स्किल टेस्ट तिथि की घोषित, अगस्त और सितंबर में होगी एग्जाम
12 जुलाई को होगी ऑल इंडिया स्कालरशिप परीक्षा, विस्तृत जानकारी के लिए पढ़ें पूरी खबर 
देश में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 18 हजार मामले, 193 लोगों की मौत
हॉकी: मनप्रीत से लेकर श्रीजेश तक, जानें कौन हैं ये धुरंधर जिन्होंने 41 साल के सूखा को किया खत्म