किसान आंदोलन : 7 महीने बाद आज किसान लेंगे सबसे बड़ा कदम, जानें पूरी रिपोर्ट

नई दिल्ली, एजेंसियां। केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे किसान संगठन आज देश भर के राजभवनों का घेराव करेंगे और राज्यपालों और राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपेंगे। बता दें कि दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के विरोध प्रदर्शन के सात महीने पूरे हो गए हैं। उऩ्होंने दिल्ली और हरियाणा के बीच सिंघू बॉर्डर पर अपना आंदोलन शुरू किया था। राष्ट्रीय राजधानी की सीमाओं पर अन्य दो विरोध स्थल टिकरी और गाजीपुर हैं। इस दौरान दिल्ली-गाजियाबाद की सीमा यूपी गेट पर किसानों का ट्रैक्टर मार्च भी होगा।

दिल्ली मेट्रो के तीन स्टेशन बंद रहेंगे

समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार किसानों के विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो ने शनिवार को येलो लाइन पर तीन मुख्य स्टेशनों को चार घंटे के लिए बंद करने का फैसला किया है। डीएमआरसी ने बताया कि दिल्ली पुलिस की सलाह के अनुसार सुरक्षा कारणों से येलो लाइन के तीन मेट्रो स्टेशन, विश्वविद्यालय, सिविल लाइन और विधानसभा कल सुबह 10:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक लोगों के लिए बंद रहेंगे।

पिछले साल 25 नवंबर से प्रदर्शन कर रहे किसान

भारतीय किसान संघ के एक प्रवक्ता ने कहा कि किसान फिर से भारी संख्या में गाजीपुर सीमा पर अपनी ताकत का प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान तीन केंद्रीय कानूनों को रद करने की मांग को लेकर पिछले साल 25 नवंबर से प्रदर्शन कर रहे हैं। 26 जून को किसानों के प्रतिनिधि विभिन्न राज्यों के राज्यपालों को ज्ञापन सौंपेंगे। दिल्ली का राज निवास सिविल लाइंस इलाके में स्थित है।

कई दौर की वार्ता के बाद भी नहीं टूटा गतिरोध

किसान नए कृषि कानूनों को वापस लेने और उनकी फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी के लिए एक नया कानून बनाने की मांग को लेकर पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर डेरा डाले हुए हैं। इसे लेकर किसानों और सरकार के बीच कई दौर की वार्ता हुई, पर गतिरोध नहीं खत्म हुआ। सरकार ने आखिरी बार 22 जनवरी को किसान नेताओं के साथ बातचीत की थी। दिल्ली में किसानों द्वारा 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के हिंसक हो जाने के बाद दोनों पक्षों के बीच बातचीत रुक गई थी।

कृषि कानून विरोधी आंदोलन में तोड़फोड़ की आशंका

खुफिया एजेंसियों ने दिल्ली पुलिस और सीआइएसएफ को किया अलर्ट। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आइएसआइ के इशारे पर कृषि कानून विरोधी आंदोलन में खलल डाल सकते हैं उपद्रवी। खुफिया एजेंसियों को आशंका है कि प्रदर्शनकारी सुरक्षा बलों को उकसा सकते हैं ताकि स्थितियां हाथ से बाहर निकल जाएं। इस अलर्ट के मद्देनजर सुरक्षा बलों ने पुख्ता इंतजाम किए हैं।

यह भी देखे:-

एयरटेल के डिस्ट्रीब्यूटर से कि 7 लाख की लूट
आम जनता को महंगाई की मार, आज फिर बढ़ा पेट्रोल-डीजल का दाम, जानें अपने शहर का रेट
श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में नया दावा, आगरा के लाल किले में दबा है मंदिर का विग्रह
ग्रेटर नोएडा : एडब्लूएचओ सोसाइटी में गरबा नवरात्री डांडिया उत्सव की तैयारी जोरों पर
सैलरी नहीं मिलने पर आत्मदाह का प्रयास 
एमिटी ग्रेनो:तनाव एवं प्रतिस्पर्धा भरे जीवन में अध्यात्म के महत्व पर हुई चर्चा
अब ATM कार्ड के बिना भी निकाल सकते हैं पैसा, QR कोड स्कैन कर हो जाएगा काम
सुहाग के गीत व नृत्य के साथ  गौड सिटी 1 मे महिलाओं ने ऑनलाइन मनाया हरियाली तीज त्यौहार
Terror Alert News: खुफिया एजेंसियों ने दिया दिल्ली पर आतंकी हमले का इनपुट
यूपी: शैक्षणिक सत्र 2021-22 में फीस नहीं बढ़ा सकेंगे प्रदेश के स्कूल, आदेश जारी
अजब-गजब मंजर : दूल्हे का चेहरा देखते ही भागी दुल्हन बिना दुल्हन ही लौटी बारात फिर हुआ ये जानें पूरा ...
जम्मू-कश्मीर: सांबा में लगातार दूसरे दिन दिखे चार संदिग्ध ड्रोन, आर्मी कैंप के पास नजर आए
Investiture Ceremony at Ryan International School
उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने जेवर विधायक के आवास पर की कार्यकर्ताओं से मुलाकात, कहा "भारतीय जनता पार...
अब संस्‍कृत में सुनिए तेरी आख्या का यो काजल, बीएचयू के दिव्‍यांग छात्र का वीडियो वायरल
अपहरण व रिश्वत मांगने के आरोप साइबर थाने का कांस्टेबल समेत 2 गिरफ्तार, दारोगा समेत पाँच कांस्टेबल फ...