बुरे फंसे सिद्धू, सोनिया राहुल भी हुए नाराज, कैप्टन का रास्ता साफ

चंडीगढ़, कांग्रेस आलाकमान की लाख कोशिशों के बावजूद पंजाब कांग्रेस का घमासान शांत नहीं हुआ है। पेंच कैप्टन अमरिदंर सिंह और विधायक नवजोत सिंह सिद्धू के बीच फंसा है। इस बीच कांग्रेस नेतृत्व ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह को आगे करने का फैसला लिया किया। सिद्धू के साथ नाराजगी के चलते सोनिया,राहुल व प्रियंका गांधी वॉड्रा भी फिलहाल सिद्धू की हिमाकत करने से पीछे हट गए हैं। गांधी परिवार के दम पर कैप्टन को खुली चुनौती देने उतरे सिद्धू हाल की बयानबाजी के चलते पंजाब कांग्रेस की सियासी पिच पर आउट हो गए हैं।

सिद्धू 21 जून को प्रदेश कांग्रेस में सुलह कराने के लिए गठित तीन सदस्यीय कमेटी के समक्ष भी पेश नहीं हुए। इसके बजाय 20 जून को वह अपने पटियाला निवास पर पूरा दिन मीडिया को इंटरव्यू देते रहे। करीब दो साल बाद इंटरव्यू में खुलकर कैप्टन पर निशाना साधने वाले सिद्धू ने इंटरव्यू के लिए ऐसा समय चुना जिसके अगले दिन ही उन्हें दिल्ली दरबार की पेशी में हाजिर होना था। सिद्धू के इस रवैये से नाराज कांग्रेस आलाकमान ने भी सिद्धू को पंजाब कांग्रेस से अलग थलग करने का मन बना लिया है।

21 जून को तीन सदस्यों की कमेटी के सामने पहुंचे कैप्टन ने पंजाब विधाानसभा चुनाव की तैयारियों पर लंबी चर्चा की, लेकिन सिद्धू के मीडिया इंटरव्यू पर कैप्टन ने कड़ी नाराजगी जताई। कैप्टन ने नाराजगी जताते हुए कहा कि सिद्धू की  ऐसी बयानबाजी से कांग्रेस को पंजाब में नुकसान हो रहा है। राज्य के प्रभारी और सुलह कमेटी के सदस्य हरीश रावत ने भी सिद्धू की बयानबाजी को गलत ठहराते हुए कहा, “सिद्धू में काबिलियत है पर कांग्रेस में धेर्य रखने का फल मिलता है”। रावत ने उम्मीद जताई कि जल्द ही सब ठीक हो जाएगा।

रावत के बयान से साफ है पार्टी नेतृत्व सिद्धू की सार्वजनिक बयानबाजी पर अब और छूट नहीं देने के मूड में नहीं है। अब सिद्धू की क्या भूमिका रहेगी, ये फैसला भी कैप्टन और कमेटी के सदस्यों को ही करना है। हालांकि, कैप्टन को सभी को साथ लेकर पंजाब के मुद्दों को सुलझाने के लिए बनाई गई कमेटी को नेतृत्व ने चुनाव तक विस्तार दे दिया है।

मल्लिकार्जुन खड़गे, जयप्रकाश अग्रवाल और प्रभारी हरीश रावत की कमेटी अब कैप्टन के साथ चुनावी मुद्दों, कमेटियों और रणनीति बनाने पर काम करेगी। मंगलवार को कमेटी के साथ कैप्टन की चार घंटे तक हुई बैठक के बाद नेतृत्व ने साफ तौर पर असंतुष्ट नेताओं को संदेश दिया है कि पंजाब में कैप्टन ही पंजाब की अगली चुनावी पारी खेलेंगे।  हालांकि, कमेटी के सदस्य चुनाव प्रचार में सिद्धू को भी आगे रखने के पक्षधर हैं। इस सिद्धू साफ कर चुके हैं कि वे खुद को शौ पीस की तरह कांग्रेस के चुनाव प्रचार में प्रयोग नहीं होने देंगे। इधर बुधवार की बैठक में भी पंजाब की चुनावी रणनीति पर चर्चा की जाएगी।

यह भी देखे:-

120 सालों में देखी गई दूसरी बार सबसे गर्म फरवरी, भयंकर गर्मी को रहिये तैयार
ग्रेटर नोएडा वेस्ट की समस्याओं को लेकर नेफोमा टीम ने की प्राधिकरण के सीईओ से मुलाकात
लॉकडाउन संकट : ग्रेटर नोएडा के सामाजिक कार्यकर्ताओं में सेवा का जज्बा काबिले तारीफ
लापता हुई तीन बच्चियों को पुलिस ने सकुशल बरामद किया
व्यापारियों को मिलेगी हर संभव मदद : डॉ अशोक वाजपेयी
टीकाकरण : मेट्रो शहरों में चेन्नई अव्वल, दिल्ली-मुंबई को पीछे छोड़ा
एनजीटी के नियमों का उलंघन कर रहे बिल्डर का दो प्लांट सीज
हवाई सफर में कोरोना गाइंडलाइस न मानने वालों को उतार दिया जाएगा: DGCA की चेतावनी
दिल्ली-एनसीआर: वायु गुणवत्ता सूचकांक में मामूली सुधार, 'गंभीर' से 'बहुत खराब' श्रेणी में पहुंचा एक्य...
हरियाणा कैबिनेट बैठक में कई अहम फैसलों पर लगी मोहर, हॉकी खिलाड़ियों को नौकरी व 2.5-2.5 करोड़ मिलेंगे
कल का पंचांग, 29 नवम्बर 2022, जानिए शुभ एवं शुभ मुहूर्त
बाबतपुर एयरपोर्ट पर शारजाह से आए यात्री के पास से मिला सोना
किसान आंदोलन या उपद्रव, आखिर क्या है माजरा !
भारत को मिलने वाली हैं 4 नई वैक्सीन, हर दिन 1 करोड़ लोगों के टीकाकरण की तैयारी: डॉ. वीके पॉल
महाराष्ट्र में मिनी लॉकडाउन हुआ सख्त, 4 घंटे ही खुलेंगी किराना और फल-सब्जियों की दुकानें; जानिए नए न...
चीन के निशाने पर है फाइव फिंगर के साथ लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश, तिब्बती नेता ने बताया 'ड्रैगन' का प्...