पाकिस्तान से जान बचाकर भारत आए थे मिल्खा, एशियाई खेलों में लहराया था परचम

उड़न सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह का निधन हो गया। वे 19 मई को कोरोना संक्रमित हुए थे। उसके बाद उन्हें मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। हालत में सुधार होने के बाद परिजनों के आग्रह पर उन्हें घर पर शिफ्ट कर दिया गया था। इससे पहले उनकी पत्नी का भी निधन हो गया था। मिल्खा सिंह का जन्म 20 नवंबर, 1929 के दिन पाकिस्तान के गोविंदपुरा गांव में हुआ था। उनके कुल 12 भाई-बहन थे, लेकिन उनका परिवार भारत-पाक विभाजन की त्रासदी का शिकार हुआ, उस दौरान उनके माता-पिता के साथ आठ भाई-बहन भी मारे गए। परिवार में मिल्खा सहित के केवल चार लोग ही जिंदा बचे थे । इस त्रासदी के बाद मिल्खा अपनी बहन के साथ भारत आ आए और बाद में भारतीय सेना में शामिल हुए थे।

एशियाई खेलों में मनवाया लोहा

एशियाई खेलों में उन्होंने 4 बार स्वर्ण पदक जीता। इसके अलावा  मिल्खा ने 1958 राष्ट्रमंडल खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था। उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन हालांकि 1960 के रोम ओलंपिक में था जिसमें वह 400 मीटर फाइनल में चौथे स्थान पर रहे थे। वह 0.1 सेकंड के अंतर से कांस्य पदक से चूक गए थे। उस दौड़ में पहले चार स्थान पर रहने वाले धावकों ने विश्व रिकॉर्ड तोड़ा था। यानी मिल्खा विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के बावजूद ओलंपिक पदक से वंचित रह गए थे।  उन्होंने 1956 और 1964 ओलंपिक में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया। वह पाकिस्तान में भी काफी लोकप्रिय थे और वहीं से उन्हें उड़न सिख की उपाधि मिली थी। 1958 में टोक्यो में आयोजित एशियाई खेलों में 200 मीटर, 400 मीटर की स्पर्धाओं और राष्ट्रमंडल में 400 मीटर की रेस में स्वर्ण पदक जीते। उनकी सफलता को देखते हुए, भारत सरकार ने 1959 में पद्मश्री से सम्मानित किया। अपने जीवन में उन्होंने कुल 81 में से 77 रेस जीती थी।

यह भी देखे:-

योगी का आत्मविश्वास: बोले- साढ़े चार साल में बदली यूपी की तस्वीर, हम फिर सरकार बनाएंगे
लॉक डाउन के बाद किसान एकता संघ करेगा आईएएस अधिकारी रानी नागर के समर्थन में आन्दोलन
अन्ना सत्याग्रह के मंच से उठा किसानों का मुद्दा, किसान व महिलाएं हुए शामिल
सोसायटियों के इनर्ट वेस्ट और गांव व सेक्टरों का कूड़ा उठाने का इंतजाम जल्द
काशी विश्वनाथ मंदिर: ज्ञानवापी परिसर का सर्वेक्षण कराए जाने की अदालत से मिली मंजूरी
बच्चों पर भी पड़ सकता है कोरोना का गहरा प्रभाव, जानिए क्या हैं इसके प्रमुख लक्षण
खड़ी गाड़ियों से करते थे डीजल चोरी, दादरी पुलिस ने दबोचा
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे सीतापुर
भ्रष्ट और बेईमान बिल्डरों की सही जगह हवालात में ही है – अन्नू खान, अध्यक्ष नेफोमा
गौतमबुद्ध नगर में कोरोना से संक्रमित 1  मरीज की मौत, जानिए आज क्या है कोरोना का हाल,
गौतमबुधनगर में फिर बड़ा कोरोना के पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा
सावधानी बरतने के अलावा और कोई आसान उपाय नहीं, बेकाबू न होने पाए कोरोना की दूसरी लहर
हत्या, लूट और अपहरण कर फरार चल रहा बदमाश पुलिस एनकाउंटर में घायल
वाराणसी में हादसाः काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में जर्जर मकान गिरा, दो मजदूरों की मौत, सात घायल
फर्जी पुलिसकर्मी बनकर एक प्रतिष्ठित डॉक्टर को लगातार ब्लैकमेल और वसूली करने वाले बदमाश पुलिस ने गिरफ...
पीएम मोदी 13वीं ब्रिक्स समिट की अध्यक्षता करेंगे, 9 सितंबर को वर्चुअली आयोजित होगा सम्मेलन