148 वर्ष के बाद बना शनि जयंती पर सूर्य ग्र्रहण का अदभुत संयोंग, जानें कुछ और बातें

नई दिल्‍ली । आज शनि जयंती और सूर्य ग्रहण दोनों ही एक साथ हैं। ये एक दुर्लभ संयोग है जो करीब 148 वर्ष के बाद बना है। ये मौजूदा वर्ष का पहला सूर्य ग्रहण है। भारत में यूं भी ग्रहण का धार्मिक महत्‍व कुछ ज्‍यादा ही है। भारत की बात करें तो आज यानी 10 जून को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण केवल अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में ही दिखाई देगा। ये दोपहर 1.42 बजे शुरू होकर शाम 6.41 बजे खत्म हो जाएगा। दुनिया के दूसरे हिस्‍सों में इस सूर्य ग्रहण को देखा जा सकेगा। यूरोप और एशिया, ग्रीनलैंड, उत्तरी अमेरिका, उत्तरी कनाडा और रूस के कुछ हिस्‍सों में ये दिखाई देगा। ग्रीनलैंड रूस और कनाडा में ये पूरा यानी वलयाकार दिखाई देगा और यहां के निवासी रिंग ऑफ फायर के अदभुत नजारे को देख सकेंगे। वहीं यूरोप और उत्तर एशिया के अधिकतर भाग में केवल आंशिक सूर्य ग्रहण ही दिखाई देगा।

आपको बता दें कि रिंग ऑफ फायर का नजारा उस वक्‍त दिखाई देता है जब चंद्रमा पूरी तरह से सूरज के आगे आकर उसकी रोशनी को ढक लेता है। इसके बाद जब धीरे-धीरे सूरज उसके पीछे से निकलता है तो उससे निकलने वाली चमक किसी हीरे की अंगूठी की तरह दिखाई देती है। इसको ही रिंग ऑफ फायर कहते हैं। गौरतलब है कि सूर्य ग्रहण उस वक्‍त होता है जब धरती और सूरज के बीच में चंद्रमा आ जाता है और ये तीनों एक ही सीध में होते हैं।

भारत में सूर्य ग्रहण के धार्मिक महत्‍व की बात करें तो ये वट सावित्री व्रत, शनि जयंती और ज्येष्ठ अमावस्या के दिन लग रहा है। इसका अर्थ है कि धार्मिक तौर पर इस दिन चार बड़ी चीजें हो रही हैं। हालांकि भारत में ग्रहण को अच्‍छा नहीं माना जाता है। इसलिए ही इस दिन कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। शनि जयंती पर ग्रहण का योग करीब 148 साल बाद बन रहा है। अब से पहले इस तरह का संयोग 26 मई 1873 को हुआ था। हालांकि इस सूर्य ग्रहण में सूतक नहीं मान्‍य हैं।

ऐसा इसलिए है क्‍योंकि भारत में ये दिखाई नहीं दे रहा है और जहां पर दिखाई दे भी रहा है कि वहां पर आंशिक रूप से ही दिखाई दे रहा है। सूतक वहां पर मान्‍य होते हैं जहां पर ग्रहण दृष्टिगोचर होता है। ग्रहण के समय में खाना बनाना या खाना शुभ नहीं माना जाता है। इसके अलावा इस दिन नए व मांगलिक कार्य भी नहीं किए जाते हैं। ग्रहण के समय मूर्ति को छूना भी शुभ नहीं माना जाता है और न ही तुलसी के पौधे को हाथ लगाना अच्‍छा माना जाता है। ज्‍योतिष के अनुसार ग्रहण के समय सोने से भी बचने की सलाह दी जाती है।

यह भी देखे:-

ABVP के द्वारा "जल बचाओ जीवन बचाओ" अभियान की पहल
टीएमसी मतलब ट्रांसफर माई कमिशन, हम कहते हैं डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर,बंगाल में बोले पीएम मोदी
बदमाशों ने की आॅटो रिक्शा चालक से लूटपाट
गलगोटिया इंजिनियरिंग एनटेरेंस ऐग्जाम, 11 राज्यों के 22 शहरों में आयोजित
EMI में लोगों को मिलेगी राहत, RBI ने किए कई बड़े एलान, पढ़िए
ग्रेटर नोएडा से जमात-उल-मुजाहिदीन के दो आतंकवादी गिरफ्तार, बम ब्लास्ट में शामिल होने का शक
ग्रेटर नोयडा का डॉक्टर करा रहा था कार चोरी
Covid-19: पुरानी दिल्ली के युवाओं के प्रयासों से बची 700 लोगों की जान, जोखिम में जान डालकर कर रहे मद...
राहुल गांधी का ट्विटर पर बड़ा कदम, इन 50 लोगों को किया अनफॉलो, क्या है तैयारी?
चीन पर एक और वार, लोकप्रिय ऑनलाइन गेम पब्जी समेत 118 चीनी ऐप्स बैन
जी.एल बजाज प्रबन्धन संस्थान को मिला अवार्ड ऑफ एक्ससलेंस का सम्मान
उच्च प्राथमिक विद्यालय उटरावली में मासिक बैठक सामाजिक विज्ञान का हुआ आयोजन
Corona virus: क्या दोबारा कोरोना संक्रमण संभव है? यहां जानिए ऐसे ही कुछ सवालों के जवाब
सपा कार्यकर्ताओं ने स्मृति ईरानी को चीन द्वारा किए गए हमले पर चूड़ियां भेजी गई 
Dhara- 144 in Noida : नोएडा-ग्रेटर नोएडा में अब 30 जून तक बढ़ी धारा- 144, कर्फ्यू भी लगाया गया
डीजीपी करेंगे थाने का उद्घाटन व पौधारोपण