148 वर्ष के बाद बना शनि जयंती पर सूर्य ग्र्रहण का अदभुत संयोंग, जानें कुछ और बातें

नई दिल्‍ली । आज शनि जयंती और सूर्य ग्रहण दोनों ही एक साथ हैं। ये एक दुर्लभ संयोग है जो करीब 148 वर्ष के बाद बना है। ये मौजूदा वर्ष का पहला सूर्य ग्रहण है। भारत में यूं भी ग्रहण का धार्मिक महत्‍व कुछ ज्‍यादा ही है। भारत की बात करें तो आज यानी 10 जून को पड़ने वाला सूर्य ग्रहण केवल अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में ही दिखाई देगा। ये दोपहर 1.42 बजे शुरू होकर शाम 6.41 बजे खत्म हो जाएगा। दुनिया के दूसरे हिस्‍सों में इस सूर्य ग्रहण को देखा जा सकेगा। यूरोप और एशिया, ग्रीनलैंड, उत्तरी अमेरिका, उत्तरी कनाडा और रूस के कुछ हिस्‍सों में ये दिखाई देगा। ग्रीनलैंड रूस और कनाडा में ये पूरा यानी वलयाकार दिखाई देगा और यहां के निवासी रिंग ऑफ फायर के अदभुत नजारे को देख सकेंगे। वहीं यूरोप और उत्तर एशिया के अधिकतर भाग में केवल आंशिक सूर्य ग्रहण ही दिखाई देगा।

आपको बता दें कि रिंग ऑफ फायर का नजारा उस वक्‍त दिखाई देता है जब चंद्रमा पूरी तरह से सूरज के आगे आकर उसकी रोशनी को ढक लेता है। इसके बाद जब धीरे-धीरे सूरज उसके पीछे से निकलता है तो उससे निकलने वाली चमक किसी हीरे की अंगूठी की तरह दिखाई देती है। इसको ही रिंग ऑफ फायर कहते हैं। गौरतलब है कि सूर्य ग्रहण उस वक्‍त होता है जब धरती और सूरज के बीच में चंद्रमा आ जाता है और ये तीनों एक ही सीध में होते हैं।

भारत में सूर्य ग्रहण के धार्मिक महत्‍व की बात करें तो ये वट सावित्री व्रत, शनि जयंती और ज्येष्ठ अमावस्या के दिन लग रहा है। इसका अर्थ है कि धार्मिक तौर पर इस दिन चार बड़ी चीजें हो रही हैं। हालांकि भारत में ग्रहण को अच्‍छा नहीं माना जाता है। इसलिए ही इस दिन कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। शनि जयंती पर ग्रहण का योग करीब 148 साल बाद बन रहा है। अब से पहले इस तरह का संयोग 26 मई 1873 को हुआ था। हालांकि इस सूर्य ग्रहण में सूतक नहीं मान्‍य हैं।

ऐसा इसलिए है क्‍योंकि भारत में ये दिखाई नहीं दे रहा है और जहां पर दिखाई दे भी रहा है कि वहां पर आंशिक रूप से ही दिखाई दे रहा है। सूतक वहां पर मान्‍य होते हैं जहां पर ग्रहण दृष्टिगोचर होता है। ग्रहण के समय में खाना बनाना या खाना शुभ नहीं माना जाता है। इसके अलावा इस दिन नए व मांगलिक कार्य भी नहीं किए जाते हैं। ग्रहण के समय मूर्ति को छूना भी शुभ नहीं माना जाता है और न ही तुलसी के पौधे को हाथ लगाना अच्‍छा माना जाता है। ज्‍योतिष के अनुसार ग्रहण के समय सोने से भी बचने की सलाह दी जाती है।

यह भी देखे:-

सबका साथ सबका विकास : जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह ने नागरिकों का धन्यवाद
दीपावली: रामलला के दरबार पहुंचे मुख्यमंत्री योगी, अयोध्या पहुंचकर सीएम ने दी दिवाली की बधाई
International Yoga Day: हमें स्ट्रेस से स्ट्रेंथ और नेगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है यो...
राजस्थान गुर्जर आरक्षण के समर्थन में अखिल भारतीय गुर्जर परिषद ने किया प्रदर्शन
GIMS ग्रेटर नोएडा के डाक्टरों के अथक प्रयास से एक और कोरोना मरीज स्वस्थ, जानिए कैसे किया उपचार
लूट कर भाग रहे बदमाशों को पब्लिक ने दबोचा, फिर किया ये हाल ... पढ़ें पूरी खबर
Up Election 2022 : गौतमबुद्ध नगर , जानिए 11 बजे तक का मतदान प्रतिशत
Tokyo Olympic 2020 Day 7 Live: बॉक्सर सतीश, बैडमिंटन स्टार सिंधु क्वार्टर फाइनल में, पुरुष हॉकी टीम ...
कोरोना में होम्योपैथी भी हो रही कारगर, चिकित्सक दे रहे यह सलाह
मई और जून में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों को मुफ्त अनाज उपलब्ध कराएगी सरकार
कृषि कानून के विरोध में बीकेयू ने बन्द किया ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे, वाहनों की लगी लंबी कतार
पानी को प्रसाद की तरह इस्तेमाल करना होगा -पीएम मोदी , लॉन्च किया जल जीवन मिशन मोबाइल ऐप
अस्तौली गाँव के मुख्य मार्ग पर जलभराव से ग्रामीण परेशान, स्कूली बच्चें भी गंदे पानी के बीच निकलने को...
COVID 19: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन
अटल जयंती पर भाजपा दनकौर मंडल ने किसान सम्मलेन का आयोजन किया 
WHO अगले सप्ताह कोवैक्सीन को मंजूरी देने पर करेगा अंतिम फैसला