कोरोना की तीसरी लहर में बच्‍चों के संक्रमित होने की आशंका पर विशेषज्ञों की राय, जानें- क्या कहा

नई दिल्ली। देश में तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने और कोरोना के गंभीर संक्रमण का सामना करने की चर्चा जोरों पर है और कई राज्यों ने इससे निपटने की तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। लेकिन विशेषज्ञों और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने के ठोस वैज्ञानिक संकेत नहीं हैं। इसके लिए वे पहली और दूसरी लहर के बीच समानता की दलील देते हुए तीसरी लहर के अलग होने की आशंका को निराधार बता रहे हैं।

दूसरी लहर में भी बच्चों में संक्रमण बहुत कम

तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने के बारे में पूछे जाने पर एम्स के निदेशक डा. रणदीप गुलेरिया ने कहा कि पहली और दूसरी लहर का डाटा देखें तो पाते हैं कि बच्चे बहुत कम संक्रमित होते हैं और अगर हुए भी हैं तो लक्षण हल्के (माइल्ड) ही रहे हैं। उन्होंने कहा कि अभी तक ऐसा कोई संकेत नहीं है कि तीसरी लहर में संक्रमण बच्चों में ज्यादा होगा और वह भी गंभीर (सीवियर) होगा। बच्चों में कोरोना के कम संक्रमण या माइल्ड संक्रमण का कारण बताते हुए उन्होंने कहा कि इसके पीछे एक वैज्ञानिक तर्क यह दिया जा रहा है कि कोरोना वायरस जिस रिसेप्टर के सहारे कोशिका से जुड़ता है, वह बच्चों में कम होता है।

बच्चों के ज्यादा संक्रमित होने की आशंका नहीं

उन्होंने कहा कि अभी तक हुए म्यूटेशन के बावजूद कोरोना वायरस कमोवेश समान बना हुआ है। जाहिर है रिसेप्टर के अभाव में बच्चों के ज्यादा संक्रमित होने की आशंका नहीं है। डा. गुलेरिया के अनुसार जो लोग बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आशंका जता रहे हैं, उनका कहना है कि चूंकि बच्चों में अभी तक यह हुआ नहीं है इसीलिए अगली लहर में उनको ज्यादा संक्रमण हो सकता है। लेकिन अभी तक इसका कोई संकेत नहीं है।

मृत्युदर के मामले में भी अधिक आयु और गंभीर बीमारी वाले ज्यादा

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने भी पहली और दूसरी लहर के समान रूप से विभिन्न आयु वर्ग के लोगों को प्रभावित करने की पुष्टि करते हुए कहा कि संक्रमण का जो पैटर्न पहली लहर में था, वही दूसरी लहर में भी पाया गया है। यह भी देखा गया है कि पहली लहर के समान ही दूसरी लहर में भी 60 साल से अधिक उम्र और गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों की मृत्युदर अधिक रही है। डा. गुलेरिया ने भी कहा कि पिछले डेढ़ महीने में एम्स दिल्ली में कोरोना के कारण हुई मौतों के आडिट में पाया गया कि आयुवर्ग और गंभीर बीमारी के मामले में वह पहली लहर के समान ही रही है।

यह भी देखे:-

सड़क सुरक्षा को लेकर डीजीपी और परिवहन प्रमुख सचिव ने की बैठक
दादरी पुलिस ने पकड़ा अवैध शराब का जखीरा, दो गिरफ्तार
फ्लैट बायर्स के हितों के लिए नेफोमा ने पीएम मोदी को लिखा पत्र
LIVE: गुजरात में बड़ी जीत की ओर BJP, गांवों में भी पहुंची 'आप', कांग्रेस पस्त
ग्रेटर नोएडा : इंजीनियर के साथ हुई लूट की घटना में चौकी प्रभारी सहित 6 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर
गौतम बुद्ध नगर कोरोना अपडेट, जानिए
विपक्षी सांसदों का स्पीकर को पत्र, कहा- गाजीपुर बॉर्डर पर भारत-पाक सीमा जैसे हालात
मशहूर कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव का निधन
खिलौना मेले का उद्घाटन, मोदी बोले- बच्चों के विकास में खिलौनों की भूमिका को समझें माता-पिता व अध्याप...
HC का बयान- यौन उत्पीड़न की झूठी शिकायत करना बना चलन, शिकायतकर्ता पर लगाया ₹30000 का जुर्माना
दिल्लीवासियों को अभी गर्मी से नहीं मिलेगी राहत, उत्तर भारत में जल्द बदलेगा मौसम
महावीर जयंती पर जैन समाज ग्रेटर नोएडा के तत्वावधान में निकाली गई श्री जी की शोभायात्रा
सेक्टर डेल्टा टू की मूलभूत समस्याओं को लेकर ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के जीएम एके अरोड़ा को आर डब्लू ए ...
पंजशीर पर कब्जे का जश्न मना रहे तालिबानी, अब पूरे अफगानिस्तान पर हमारा नियंत्रण
Social Media : सोशल मीडिया पर निगरानी जरूरी, अभिव्यक्ति को खतरा नहीं
एस्टर पब्लिक स्कूल में वार्षिक खेल सांस्कृतिक महोत्सव, बच्चों ने दिखाई प्रतिभा