इटली की सहायता से आईटीबीपी में स्थापित हुआ ऑक्सीजन प्लांट 

ग्रेटर नोएडा। लखनावली गांव के पास स्थित इंडियन तिब्बत बार्डर पुलिस (आईटीबीपी) शिविर में संचालित सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्स (सीएपीएफ) रेफरल अस्पताल के लिए इटली के सहयोग से ऑक्सीजन प्लांट बृहस्पतिवार को शुरू कर दिया गया। एक साथ सौ जवानों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने का यह प्लांट मात्र 48 घंटे में लगाकर चालू कर दिया गया। इटली के भारत में राजदूत विन्सेंजो डी लुका ने सादे समारोह में बटन दबाकर ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया। यह प्लांट प्राकृतिक ऑक्सीजन से ही उत्पादन और आपूर्ति करने में सक्षम है।

आईटीबीपी के प्रवक्ता वीके पांडे ने बताया कि वर्ष 2018 में यहां 200 बेड के अस्पताल का संचालन शुरू हुआ था। अस्पताल में पैरा मिलिट्री, केंद्रीय सशस्त्र बल, सीबीआई, एनएसजी आदि जवानों, सेवानिवृत्त जवानों और उनके परिजन का उपचार किया जाता है। हाल ही में देश को कोरोना से लड़ने में मिल रही मदद की कड़ी में इटली ने ऑक्सीजन प्लांट लगाया है। यह प्लांट इटली से हवाई मार्ग से और दिल्ली से सड़क मार्ग से मंगलवार को यहां लाया गया। प्लांट के साथ इटली के कंपनी के मैकेनिक आदि भी पहुंचे। जिन्होंने मात्र 48 घंटे में प्लांट लगाकर चालू कर दिया।

इधर, लुका बृहस्पतिवार दोपहर 12 बजे यहां पहुंचे उन्होंने कहा कि प्राकृतिक ऑक्सीजन से ही उत्पादन और आपूर्ति करने में सक्षम इस संयंत्र से एक समय में 100 मरीजों को हाई स्पीड ऑक्सीजन मुहैया कराई जा सकती है। इस अवसर पर आईटीबीपी के एडीजी मनोज सिंह रावत ने राजदूत से कहा कि इस संयंत्र की स्थापना के लिए बल उनका आभारी है। वहीं, रेफरल अस्पताल के आईजी मेडिकल डीसी डिमरी ने कहा कि इस प्लांट की स्थापना से अस्पताल की मैन्युअल ऑक्सीजन पर से निर्भरता कम हो जाएगी और मरीजों को सीधे उनके बेड पर आवश्यकतानुसार ऑक्सीजन उपलब्ध होगी। इस मौके पर अस्पताल और इटली के दूतावास और संबंधित कंपनी के अधिकारी भी मौजूद थे।
इटली के 17 पर्यटकों के उपचार को नहीं भूले
लुका ने कहा कि पिछले वर्ष मार्च में इटली के पर्यटक राजस्थान आने के दौरान कोरोना संक्रमित हो गए थे। उनका इलाज दिल्ली में आईटीबीपी के मेडिकल सेटअप पर किया गया था, यह उन्हें हमेशा याद रहेगा। उन्होंने कहा कि भारत से दोस्ती और एकजुटता हमेशा जारी रहेगी।

सामान्य स्पीड से 200 मरीजों को उपलब्ध हो सकती है ऑक्सीजन

प्रवक्ता ने बताया कि यह प्लांट हाई स्पीड से सौ मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराता है, लेकिन नॉर्मल स्पीड से दो सौ मरीजों को भी ऑक्सीजन उपलब्ध करा सकता है। फिलहाल रेफरल अस्पताल के लिए ही पूर्ण रूप से इस प्लांट की आवश्यकता है, लेकिन रेफरल अस्पताल की जरूरत पूरी होने पर अन्य अस्पताल को भी इससे ऑक्सीजन उपलब्ध कराने पर विचार किया जा सकता है।

 

यह भी देखे:-

ट्रेन के आगे कूदकर युवक ने दी जान
यमुना में रोपे गए 59 हज़ार पौधे
"नारी शिक्षा" पर विचार गोष्ठी का आयोजन 
दादरी कोतवाली मे शांति समिति (पीस कमेटी) व सभ्रांत व्यक्तियों की हुई बैठक, विभिन मुद्दों पर विस्तृत ...
यमुना एक्सप्रेसवे पीसीआर में कैंटर ने मारी टक्कर
GIMS  में नवरात्र के दौरान महिला सशक्तीकरण एवं सुरक्षा सम्बंधी जागरूकता कार्यक्रम  का आयोजन 
ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन ने डीएम से मुलाकात कर सौंपा ज्ञापन
ग्रेटर नॉएडा प्राधिकरण के स्ट्रीट लाइट के कमजोर खम्भे है जानलेवा , अभी हादसा टला:-
बुआजी करें अब आराम- चंद्रशेखर, भीम आर्मी प्रमुख ने मायावती को दी सलाह
सात फेरों का घोटाला , डीएम ने दिए जांच के आदेश , दोषियों के खिलाफ दर्ज होगी FIR
बिजली की अघोषित कटौती को लेकर भारतीय किसान यूनियन की महापंचायत
भाजपा गौतमबुद्ध नगर ईकाई ने केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए भेजा रहत सामग्री
आईआईएमटी की बैचलर इन जर्नलिज्म एंड मास कॉम्युनिकेशन की छात्रा ने सीसीएसयू में किया टॉप
दवाई से ज्यादा फायदा पहुंचाती है फिजियोथेरेपी:विजय धवन
रक्तदान से कैंसर व अन्य बीमारियों का खतरा हो जाता है कम: डा.धीरज भार्गव
कुछ बात है कि हस्ती मिटती नही हमारी, सदियों रहा है दुश्मन दौर-ए-जमां हमारा