कोरोना का खतरनाक रूप: मरीजों को बढ़ी सांस की तकलीफ, बहुरूपिये वायरस ने बदले लक्षण

कोरोना की दूसरी लहर के बीच देश में सोमवार सुबह एक दिन में रिकॉर्ड 2.73 लाख संक्रमित मिले हैं। वहीं, 1600 से ज्यादा की मौत हो गई। पांच दिन से रोज दो लाख से ज्यादा नए संक्रमित आ रहे हैं।

 

इस बीच, एक अध्ययन में वायरस के लक्षणों में भी बदलाव की पुष्टि हुई है। बच्चे और युवा भी संक्रमित हो रहे हैं। अब सांस की दिक्कत ज्यादा होने से मरीजों में ऑक्सीजन की ज्यादा आवश्यकता पाई गई। हालांकि, मृत्युदर में कोई अंतर नहीं पाया गया। दोनों समय 70 प्रतिशत संक्रमित 40 पार के थे।

 

आईसीएमआर और नीति आयोग के देश के 40 अस्पतालों में भर्ती 9,485 मरीजों पर हुए अध्ययन में खुलासा हुआ कि पहली लहर के दौरान 54.9 फीसदी में कम से कम एक बीमारी पहले से थी। अब ऐसे लोगों की संख्या घटी है। अब 48.6 फीसदी मरीजों में ही पहले से एक बीमारी है। यानी 50 फीसदी से अधिक संक्रमितों को पहले से कोई बीमारी नहीं है। पाया गया कि पहले अस्पताल में भर्ती 87.4 फीसदी मरीजों में लक्षण थे, लेकिन अब भर्ती मरीजों में लक्षण वाले 74 फीसदी हैं। यानी बिना लक्षण वाले मरीज भी घबराहट से भर्ती हो रहे हैं। सितंबर से नवंबर 2020 के बीच देश में पहली लहर थी। इस साल मार्च-अप्रैल में दूसरी लहर आई है।

पुरुष संक्रमितों की संख्या बढ़ी
पहली लहर के 7600 और दसूरी में भर्ती 1885 मरीजों पर यह अध्ययन हुआ है। पहली लहर में 64.5 फीसदी पुरुष मरीज थे, लेकिन अब 63.8 हैं। अब महिलाएं भी अधिक संक्रमित हो रही हैं। पिछली बार के 0-19 वर्ष की आयु के 4.2 फीसदी मरीज थे, जो बढ़कर 5.8 फीसदी हो चुके हैं। 20-39 वर्ष आयुवर्ग के मरीजों की संख्या भी 23.7 फीसदी से बढ़कर 25.5 फीसदी हो चुकी है। हालांकि 40 वर्ष या उससे अधिक आयु का प्रतिशत 72.2 फीसदी से घटकर 69.8 फीसदी हो गया है।

अब 54 फीसदी मरीजों को ऑक्सीजन जरूरी
नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल का कहना है कि पहले सांस लेने में मरीजों को इतनी दिक्कत नहीं थी। 41.7 फीसदी को सांस में दिक्कत थी, अब 47.5 फीसदी हो चुके हैं। मरीजों में तेजी से सांस लेने के लक्षण घटे हैं।
कफ, गले में दर्द, सूंघने की क्षमता न होने, कमजोरी, थकान व मांसपेशियों में दर्द के लक्षण कम, जोड़ों में दर्द के लक्षण भी कम।
दूसरी लहर में सबसे ज्यादा ऑक्सीजन की जरूरत, क्योंकि नए स्ट्रेन से सांस में दिक्कत हो रही है। पहले 41.1 फीसदी को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी, अब संख्या 54 फीसदी से ज्यादा है।
वेटिंलेटर की जरूरत वाले रोगियों में कमी आई है। पहले 37.3 फीसदी को वेंटिलेटर की जरूरत पड़ी थी, तो अब 27.8 फीसदी को है।

यह भी देखे:-

EARTHQUAKE : जम्मू-काश्मीर से लेकर दिल्ली-एनसीआर तक काँपी धरती 
रेमदेसीविर इंजेक्शन ब्लैक करता हुआ एक गिरफ्तार, 105 वायल्स रेमदेसीविर इंजेक्शन, 1 लाख 54 हज़ार कैश बर...
वायु प्रदूषण रोकने के लिए ऐक्शन में आया ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण, आठ जोन में बांटकर प्रदूषण रोकने का ख...
बिसरख धाम पहुंचे महामंडलेश्वर स्वामी प्रबोधानंद गिरी जी महाराज, जल्द होगा हिन्दू रक्षा सेना ईकाई का ...
किडनी ट्रांसप्लांटेशन के नाम पर धोखाधड़ी करने वाला डॉक्टर गिरफ्तार, उसके साथी की है तलाश
प्लेटफार्म टिकट की कीमत में तीन गुना बढ़ोतरी, रेलवे ने बताया- आखिर क्‍यों उठाया गया ये कदम
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने की 9 राज्यों/UTs के स्वास्थ्य मंत्री के साथ बैठक, ब्लैक फंगस व म्यूटेंट...
लखनऊ: कल्याण सिंह की हालत गंभीर, पीजीआई में भर्ती, सीएम योगी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लिया हाल...
महिला स्वास्थ्य जाँच शिविर का आयोजन
रोटरी क्लब ने गलगोटिया यूनिवर्सिटी में आयोजित किया रक्तदान शिविर
कोरोना स्ट्रेन: गृह मंत्रालय ने कोविड-19 के लिए दिए नए दिशानिर्देश, जानें क्या है नए नियम
सोशल मीडिया के दुरुपयोग को रोकने के लिए आज फेसबुक व गूगल के साथ संसदीय स्थायी समिति (IT) की बैठक
यूपी : अल्पसंख्यकों से जुड़ी पांच संस्थाओं के सीएम ने नामित किए अध्यक्ष और सदस्य
संकलन:नए-नए नैरेटिव समाज में लेकर आने वाले वामपंथ के स्वरूप कितने हैं ...पढ़िए विस्तार से
कांग्रेस पार्टी के सबसे संकटपूर्ण दौर में ही युवा पीढ़ी के चेहरे होने लगे तितर-बितर
बच्चे की मौत के मामले में जांच के आदेश