डॉ. पांडा बोले: कोरोना की दूसरी लहर से पहले चेताया गया था, किसी ने नहीं दिया ध्यान

देश में कोरोना की दूसरी लहर बहुत तेज है। इसके बारे में पहले ही सरकार को चेताया गया था लेकिन किसी ने ध्यान ही नहीं दिया। लोगों की लापरवाही और चुनावी राज्यों की हालत पर भी रिपोर्ट दी थी।

आईसीएमआर के संक्रामक रोग प्रमुख ने कहा, जनता और नेता दोनों जिम्मेदार, राज्यों ने कम कर दी जांच
यह खुलासा आईसीएमआर के संक्रामक रोग प्रमुख डॉक्टर समीरन पांडा ने किया है। उन्होंने कहा कि अनलॉक के बाद लोगों का व्यवहार बदलने लगा था लोग कोरोना और नियमों के प्रति बेपरवाह हुए।

सरकार को बार-बार चेतावनी देते रहे वैज्ञानिक, पांच चुनावी राज्यों को लेकर भी बोला गया
दुर्भाग्य यह है कि देश के राजनेता इसमें उनके सहयोगी बने और आज उसका परिणाम पूरी दुनिया देख रही है। एक तरफ सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में लोगों को बताया जा रहा है। लेकिन वहीं चुनावी राज्यों में मंत्री सांसद, विधायक, कार्यकर्ता इत्यादि इन नियमों को तोड़ रहे हैं। चुनाव की घोषणा होने के बाद राज्यों को सतर्क किया था लेकिन वहां के सिस्टम ने देश के संक्रामक रोग विशेषज्ञ की सलाह को दरकिनार कर दिया।

दूसरी लहर को रोकना जनता के हाथ में
डॉक्टर पांडा के अनुसार, इस स्थिति के जिम्मेदार हम सभी हैं। इसमें किसी एक को दोष नहीं दिया जा सकता है। अगर इस लहर को रोकना है तो नेता-जनता दोनों को सावधान होना पड़ेगा। नहीं तो भविष्य में क्या होने वाला है? यह कोई नहीं जानता।

चेतावनी दी तो राज्यों ने जांच ही कम कर दी
आईसीएमआर ने दूसरी लहर आने से पहले राज्य सरकारों को बार-बार चेतावनी दी थी। जिन पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव चल रहे हैं, वहां की स्थिति को लेकर भी उन्होंने बताया चेताया था लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया बल्कि कोरोना की जांच और कम कर दी।

चुनावी मंच पर होनी थी चर्चा
डॉक्टर पांडा का मानना है कि अगर चुनावी मंच से प्रचार के साथ कोरोना नियमों को लेकर जागरूकता पर जोर दिया जाता तो शायद आबादी का कुछ हिस्सा इसे समझ सकता।

चुनाव के लिए कम किया कोरोना
बंगाल में पिछले साल अगस्त में 9,91,457 में सैंपल की जांच हुई थी जो मार्च में घटकर 6,12,284 रह गई। असम में जहां अगस्त के दौरान 8.36 लाख जांच हुई थी। वहीं चुनाव की घोषणा होते जांच दर घटने लगी और पिछले महीने केवल 2.14 लाख जांच हुई। इसलिए वहां कोरोना के केस पता नहीं चले। तमिलनाडु में चुनाव होते शुरू होते ही 20 से घटकर 13 लाख सैंपल पर जांच का आंकड़ा आ गया।

 

यह भी देखे:-

Unnao Case: शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पुष्टि, दोनों लड़कियों के शरीर में मिला जहरीला पदार्थ
ग्रेटर नोएडा : आईटीबीपी स्थापना दिवस परेड का आयोजन, केन्द्रीय गृह मंत्री ने ली परेड की सलामी, आईटीबी...
सपा नेता श्याम सिंह भाटी ने स्थानीय विधायक पर लगाया गुमराह करने का आरोप
एलआईटी में संविधान दिवस के अवसर पर गोष्ठी का आयोजन
Covid India Updates: देश के 18 जिलों में 4 हफ्ते से बढ़ रहे मामले: स्वास्थ्य मंत्रालय
कोरोना: Monoclonal Antibody Therapy हो सकती है कारगर, 12 घंटे में ही ठीक हुए मरीज
1 अप्रैल से इन बैंकों मे बदल जायेंगे नियम, कहि इनमें आपका बैंक तो नही!
संकलन:नए-नए नैरेटिव समाज में लेकर आने वाले वामपंथ के स्वरूप कितने हैं ...पढ़िए विस्तार से
हैप्पी बर्थडे ख़ेसारी लाल यादव: दिल्ली की सड़कों पे लिट्टी चोखा बेचने वाले से भोजपुरी सुपरस्टार बनने त...
मुंबई एयरपोर्ट पर चलते-चलते सोनू सूद से शख्स ने मांगी मदद, एक्टर बोले- ‘डिटेल्स भेज.. मैं देखता हूं'
कमाने वाली संतान नहीं है दुनिया में तो माता पिता को मिलेगी आजीवन पेंशन, जानें क्या है  EPFO पेंशन स्...
इंडिया एक्सपो सेंटर, ग्रेटर नोएडा में शुरू हुआ एचजीएच इंडिया का 11वां संस्करण
आई.ई.सी. काॅलेज में ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ का आयोजन
कहीं बारिश तो कहीं हीट वेव का अलर्ट,मौसम लेने वाला है करवट, जानें पूरा हाल
सुरक्षाबलों ने पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड अब्दुल गाजी को घेरा, सेना के 4 जवान शहीद
योगी मंत्रिमंडल विस्तार: सियासी हलचल तेज, यूपी भाजपा अध्यक्ष और महामंत्री संगठन दिल्ली पहुंचे