सही मास्क सबसे जरूरी: वॉल्व वाले मास्क का न करें इस्तेमाल, यहां जानें कौन कितना प्रभावी

कोरोना वायरस पिछले साल के मुकाबले बड़ी ही तेजी से देशभर में फैल रहा है। हर दिन कोरोना से संक्रमित होने वाले नए मरीजों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। ऐसे में हर किसी को दो गज की दूरी और मास्क पहनने की सलाह दी जा रही है। लेकिन लोगों के मन में एक सवाल घूम रहा है और वो ये कि कौन सा मास्क हमारे लिए सही है? वो कौन सा मास्क है जो हमें कोरोना वायरस से बचाव करने में मदद कर सकता है। तो चलिए जानते हैं इस बारे में।

कितने तरह के होते है मास्क?
सबसे पहले ये जानना जरूरी है कि मास्क आखिर कितने तरीके के होते हैं, तो यहां आपको बता दें कि मास्क दो तरह के होते हैं। एक सर्जिकल मास्क और दूसरा फैब्रिक यानी कपड़े से बना मास्क। जहां सर्जिकल मास्क का इस्तेमाल डॉक्टर, नर्स और अस्पताल में काम करने वाले लोग करते हैं, तो वहीं, कपड़े से बने मास्क का इस्तेमाल आम लोग कर रहे हैं।

कौन सा मास्क कितना सुरक्षित?
वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन यानी डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, एन95 मास्क को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सबसे सही माना जाता है। ये मास्क बारीक कणों को मुंह और नाक में जाने से रोकता है। आप जानते हैं कि इस मास्क का नाम एन95 क्यों पड़ा क्योंकि ये मास्क हवा में मौजूद 95 प्रतिशत कणों को रोकने में सक्षम है।

वहीं, सामान्य सर्जिकल मास्क भी लगभग 89.5 प्रतिशत तक कणों को रोकने में सक्षम माना जाता है। एन95 और सर्जिकल मास्क दोनों ही हेल्थ केयर वर्कर्स के लिए होते हैं। दूसरी तरफ आम लोग जिस फैब्रिक मास्क का इस्तेमाल करते हैं, वो भी बारक कणों को लगभग 94 प्रतिशत तक रोकता है।

क्या है मास्क पहनने का सही तरीका?
वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन ने मास्क पहनने का सही तरीका बताया है। उनके मुताबिक, मास्क पहनने से पहले और उतारने के बाद हमेशा अपने हाथों को साफ करना चाहिए, मास्क से अपनी नाक, चिन और मुंह को अच्छे ढकना है, मास्क को उतारने के बाद एक प्लास्टिक के बैग में रखें और कपड़े के मास्क को हर दिन धोना चाहिए जबकि मेडिकल मास्क को कूड़े में डाल देना चाहिए। इसके अलावा डब्ल्यूएचओ ने इस बात पर भी जोर दिया है कि वॉल्व वाले मास्क का इस्तेमान नहीं करना चाहिए।

स्रोत और संदर्भ:
https://www.who.int/emergencies/diseases/novel-coronavirus-2019/advice-for-public/when-and-how-to-use-masks

अस्वीकरण नोट:  यह लेख वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन यानी डब्ल्यूएचओ के आधार पर तैयार किया गया है। लेख में शामिल सूचना व तथ्य आपकी जागरूकता और जानकारी बढ़ाने के लिए साझा किए गए हैं। किसी भी तरह की बीमारी के लक्षण हों अथवा आप किसी रोग से ग्रसित हों तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

यह भी देखे:-

COVID-19 : नहीं थम रहा कोरोना का कहर, पिछले 24 घंटे में आए रिकॉर्ड करीब 47 हजार नए केस, मौतों की संख...
यूपी में किस तरह दहशत फैलाने का था प्लान : संदिग्ध आतंकियों से पूछताछ के लिए दिल्ली गई एटीएस
गलगोटिया यूनिवर्सिटी में "राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020: ए गेटवे टू एकेडमिक एक्सीलेंस" पर दो दिवसीय सेम...
केंद्र की सख्ती के बाद नरम पड़े ट्विटर के तेवर, कहा- नए नियमों को मानने के लिए तैयार
सबका साथ सबका विकास : जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह ने नागरिकों का धन्यवाद
दिल्ली- हावड़ा रूट पर ट्रेन हादसा होने से टला
गलगोटियाज यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड टूरिज्म के डीन प्रो० डॉ० राजीव मिश्रा सम्मानित
भीषण गर्मी में पानी सप्लाई का प्रेशर घटा, सेक्टर वासी परेशान, प्राधिकरण बेपरवाह
सम्मति वेल्बीइंग सेन्टर, ग्रेटर नॉएडा को सीजीएचएस की मान्यता
कानपुर सेंट्रल स्टेशन : ट्रेन मे थे लगभग 1.40 करोड़ रुपये, पंचायत चुनाव मे थी खपाने की योजना, जीआरपी...
आज का पंचांग, 17 जून 2020, जानिए शुभ व अशुभ मुहूर्त
अनुच्छेद-370 को लेकर विपक्ष की भूमिका दुर्भाग्यपूर्ण: सुधांशु त्रिवेदी
ग्रेटर नोएडा: ईस्टर्न पेरीफेरल हाईवे पर ट्रक ने ट्रक को मारी पीछे से टक्कर
लखनऊ में आज आठ ब्लाकों में पड़ेंगे वोट, सात में सपा व भाजपा के बीच सीधी टक्कर
राष्ट्रीय युवा महोत्सव में पद्मश्री गायिका मालिनी अवस्थी ने छेड़ी तान
पति-पत्नी के झगड़े में पति की मौत