कोविड संक्रमितों की संख्या के आधार पर जिलाधिकारी लें नाइट कर्फ्यू का फैसला, अफसरों से बोले सीएम योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण के लिए जारी दिशा निर्देशों का हर हाल में अनुपालन कराएं। जिलों में कोविड केस की संख्या का आकलन कर नाईट कर्फ्यू का निर्णय डीएम अपने स्तर से लें लेकिन यह स्थिति आने से पहले जिला प्रशासन ऐसी व्यवस्था बनाए, जिससे कोई भी सार्वजनिक आयोजन, विवाह समारोह या अन्य कार्यक्रम रात 9 बजे तक सम्पन्न कर लिए जाएं।

 

इसके लिए लोगों को जागरूक किया जाए और उन्हें शासन की ओर से निर्धारित मानकों का अनुपालन करने को प्रेरित किया जाए। सीएम योगी शनिवार को बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में कोरोना नियंत्रण, कोविड टीकाकरण और इंसेफेलाइटिस उन्मूलन के संबंध में मंडलीय समीक्षा बैठक ने की।

 

उन्होंने कहा कि कोरोना का यह दूसरा फेज भी पहले चरण की भांति भले ही चुनौतीपूर्ण है लेकिन सामूहिक प्रयासों से इस पर काबू पाने के लिए प्रदेश सरकार प्रतिबद्ध है। कोरोना जांच और टीकाकरण के लिए पर्याप्त संसाधन उपलब्ध हैं।

जिलाधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि जांच और टीकाकरण में किसी को भी दिक्कत न आए। कोविड मरीजों के इलाज के लिए डेडिकेटेड कोविड अस्पतालों में बेड की संख्या में कोई कमी नहीं आनी चाहिए और भर्ती मरीजों को सभी सुविधाएं मिलनी चाहिए।
कोरोना से बचाव को प्रेरित करें और सद्भावनापूर्वक कार्रवाई भी करें
उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि कोरोना से बचाव के कार्यक्रमों में किसी भी स्तर पर लापरवाही अक्षम्य होगी। सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ न होने देना, सामाजिक दूरी का अनुपालन और मास्क के प्रयोग की अनिवार्यता पर लगातार नज़र रखी जाए। इसके लिए सद्भावनापूर्वक प्रवर्तन की कार्रवाई भी की जाए।

उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना से बचाव के लिए स्वच्छता पर भी विशेष ध्यान देने की हिदायत दी। सीएम योगी ने कहा सभी जिलों के डीएम और सीएमओ कोरोना के संबंध में नियमित समीक्षा करें, जांच और टीकाकरण पर फोकस करते हुए कोरोना का फैलाव रोकने की दिशा में ठोस कार्यवाही करें।
इंसेफेलाइटिस खात्मे के कगार पर, फिर भी बचाव और इलाज के इंतजाम रखें मुकम्मल
सीएम योगी ने इंसेफेलाइटिस उन्मूलन के प्रयासों की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि दृढ़ इच्छाशक्ति से किए गए समन्वित प्रयासों से इंसेफेलाइटिस अब खात्मे के कगार पर है। फिर भी इससे बचाव और इलाज में कोई लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बचाव और इलाज के मुकम्मल इंतज़ाम पर ध्यान रखें। ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता को लेकर जागरूकता अभियान जारी रहे। मुख्यमंत्री को बताया गया कि इंसेफेलाइटिस प्रभावित मंडल के सभी गांवों में शौचालय की व्यवस्था है।

यह भी देखे:-

बसपा नेता व बाईक बोट कंपनी के खिलाफ मुकदमा दर्ज, जानिए क्या है मामला
सीबीएसई, आईसीएसई 12वीं बोर्ड परीक्षा: आज सभी याचिकाओं पर होगी सुनवाई, आ सकता है बड़ा फैसला
खड़ी गाड़ियों से करते थे डीजल चोरी, दादरी पुलिस ने दबोचा
चुनावी हलचल: असम और बंगाल में पीएम मोदी की रैलियां, तमिलनाडु में रहेंगे योगी आदित्यनाथ
एनकाउंटर केस में पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की अर्जी कोर्ट ने की ख़ारिज , एक बदमाश ने क...
Corona Vaccine: 28 अप्रैल से 18 वर्ष से अधिक उम्र वाले करा सकेंगे वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन, जान...
दिल्ली: पहले दिन आठ बजे तक 4.5 लाख यात्रियों ने मेट्रो में की यात्रा, कश्मीरी गेट बस अड्डे पर कम पड़...
एसटीएफ के हत्थे चढ़े एमबीसीएस में प्रवेश दिलाने वाले ठग
नई पारी की शुरुआत: मंत्री संभाल रहे अपने मंत्रालय का कार्यभार, अनुराग ठाकुर और अश्विनी वैष्णव ने किय...
स्पोर्ट्स इंडिया अवार्ड 2019 में राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को किया गया सम्मानित
धरती माँँ की सुनो पुकार बंद करो ये अत्याचार ....
4 सप्ताह बढ़ जाएगी गर्भपात की सीमा, विधेयक को राज्यसभा ने भी दी मंजूरी
Coronavirus India: देश में कोरोना के 35 हजार से अधिक मामले, 97.65 फीसद पहुंचा रिकवरी रेट
Ind vs SL 1st ODI: धवन की कप्तानी पारी, भारत ने श्रीलंका को पहले वनडे में 7 विकेट से हराया
ग्रेटर नोएडा : कोरोना वायरस के संदिग्ध चीनी नागरिक ने खुद को फ्लैट में किया बंद, अस्पताल में भर्ती
एलोपैथी विवाद: बाबा रामदेव के खिलाफ आज देश भर में डॉक्टरों का प्रदर्शन