कोरोना वायरस तेजी से बढ़ते मामलों की बड़ी वजह: लोगों की लापरवाही, सुस्त टीकाकरण और रूप बदलता कोरोना

नई दिल्ली, प्रेट्र। देश में कोरोना के मामलों में बेहद तेज बढ़ोतरी क्यों हो रही है, इसका कोई सीधा जवाब नहीं है। हालांकि, शीर्ष विज्ञानियों का कहना है कि कोरोना वायरस के बदलते स्वरूप, चुनाव एवं अन्य सार्वजनिक कार्यक्रमों के चलते बड़ी आबादी का संक्रमण के खतरे की जद में आना और सावधानी बरतने में लापरवाही मामलों में तेज वृद्धि के लिए खासतौर पर जिम्मेदार है। वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि यह संक्रमण की दूसरी लहर है जोकि पहली लहर के मुकाबले अधिक तेजी से बढ़ रही है।

प्रोटोकॉल का पालन नहीं करना, सुस्त टीकाकरण जिम्मेदार हैं तेजी से बढ़ते मामलों की बड़ी वजह

विषाणु विज्ञानी शाहिद जमील और टी जैकब जॉन का मानना है कि कोरोना संबंधी प्रोटोकॉल का पालन नहीं करना और सुस्त टीकाकरण अभियान तेजी से बढ़ते मामलों के लिए प्रमुख रूप से जिम्मेदार हैं। साथ ही लोगों को यह बताया जाना भी बेहद जरूरी है कि टीकाकरण के बावजूद उन्हें कोरोना बचाव संबंधी नियमों का सख्ती से पालन करना चाहिए।

वायरस का स्वरूप और टीके की परस्पर क्रिया महामारी का भविष्य तय करेगी

जमील का कहना है कि अगले कुछ महीनों में वायरस के स्वरूप और टीके की परस्पर क्रिया भारत और विश्व में महामारी का भविष्य तय करेगी।

पहली लहर के बाद बड़ी संख्या में ऐसे लोग थे जिनके संक्रमण की चपेट में आने का जोखिम अधिक था

हरियाणा में अशोका विश्वविद्यालय के त्रिवेदी जीव विज्ञान संस्थान के निदेशक जमील ने कहा, ‘मामलों में बढ़ोतरी की तीव्रता इस बात को दर्शाती है कि पहली लहर के बाद बड़ी संख्या में ऐसे लोग थे जिनके संक्रमण की चपेट में आने का जोखिम अधिक था।’

पहली लहर के समाप्त होने के बाद लोगों ने सावधानी बरतना कम कर दिया

जमील ने कहा, ‘तथ्य यह है कि संक्रमण की पहली लहर के समाप्त होने के बाद लोगों ने सावधानी बरतना कम कर दिया और कोविड प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया जोकि निश्चित तौर पर मामलों में उछाल का एक कारण है।’

नियमों का पालन नहीं किया जाना कोरोना संक्रमण की नई लहर की प्रमुख वजह 

तमिलनाडु के क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज में विषाणु विज्ञान के प्रोफेसर टी जैकब जॉन ने कहा कि कोरोना बचाव नियमों का पालन नहीं किया जाना संक्रमण की नई लहर की एक प्रमुख वजह में शुमार है।

दूसरी लहर की वजह: टीकाकरण किए बिना स्कूल और कॉलेज खोल दिए गए

जॉन ने कहा, ‘बचाव नियमों में कमी की शुरुआत केंद्र सरकार ने की, जिसका सभी राजनीतिक दलों, सभी धार्मिक समूहों और बड़े स्तर पर आम जनता ने अनुसरण किया। सभी कर्मचारियों का टीकाकरण किए बिना स्कूल और कॉलेज खोल दिए गए। यह भी दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार साबित हुआ।’

महामारी के दौरान चुनाव की योजना सावधानी से बनाई जानी चाहिए थी

उन्होंने कहा, ‘जहां भी संक्रमण के मामले बढ़ रहे थे, वहां सख्ती से नियम लागू किए जाने चाहिए थे। हालांकि, चुनाव के चलते कोई नेता ऐसा नहीं चाहता था। महामारी के दौरान चुनाव की योजना बेहद सावधानी से बनाई जानी चाहिए थी।’

वायरस का बदलता स्वरूप दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार

विज्ञानियों का यह भी मानना है कि वायरस का बदलता स्वरूप भी संक्रमण की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार है।

 

यह भी देखे:-

पेट्रोल की बढ़ती कीमत कांग्रेस सरकार की विफलता मानते थे प्रधानमंत्री
'राजीव गांधी खेल रत्न अवार्ड' अब होगा 'मेजर ध्यानचंद खेल रत्न अवार्ड- PM मोदी
कन्या विद्यालय में विज्ञान प्रदर्शनी मेले का हुआ आयोजन
गौतमबुद्ध नगर : ग्रेडिंग सिस्टम में फेल होने वाले 11 पुलिस चौकी प्रभारी लाइन हाज़िर
यूपी : थम गई कोरोना की रफ्तार, 20 जिलों में केस शून्य, 226 नए मामले, सीएम ने दिए ये निर्देश...
कासना व ग्रेटर नोएडा थाना का नाम बदला, जानिए अब क्या होगा पढ़ें पूरी खबर
Kisan Andolan: किसान आंदोलन में अब हर कोई नहीं हो सकेगा शामिल, राकेश टिकैत ने किया 'शर्त' का एलान
महाशिवरात्रि महोत्सव: कैलाश बोले बगड़ बम्मबम... श्रोताओं ने कहा ...बम लहरी
गौतम बुद्ध नगर कोरोना अपडेट : बढ़ रहे हैं मरीजों की संख्या , अब तक 10 की मौत
भारत में जैविक उत्पादों का सबसे बड़ा व्यापार मेला बायोफैच 2019 आरंभ
दिल्ली : सरकारी स्कूलों में छठी से नौवीं के ऑनलाइन दाखिले शुरू, दिशा-निर्देश जारी
ग्रेटर नोएडा के मुबारकपुर में तीन मंजिला इमारत गिरी
IPL 2021 MI vs RCB Match LIVE: मुंबई की बल्लेबाजी शुरू, रोहित और लिन क्रीज पर
त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव: पहले चरण में 18 जिलों में चुनाव संपन्न, पढ़ें- कहां हुआ कितना मतदान
शर्मनाक: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान बोले- तालिबानी आम नागरिक, अमेरिका ने वहां सब बर्बाद कर ...
आशंका : दिल्ली सहित मेट्रो शहरों पर हो सकता है आतंकी हमला, टारगेट किलिंग का अंदेशा