BJP Foundation Day- 4 दशकों में बीजेपी ने लगातार छूईं नई ऊंचाइयां :चेतन

(विशेष संकलन चेतन वशिष्ठ):6 अप्रैल 1980 को बीजेपी की स्थापना की गई थी. 04 दशकों में बीजेपी ने लगातार नई ऊंचाइयां छूईं. पहले अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में बीजेपी ने 90 के दशक के आखिर में सरकार बनाई. अब पिछले 06 सालों से नरेंद्र मोदी बीजेपी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार के प्रधानमंत्री हैं. वैसे इसके मूल में भारतीय जनसंघ है, जिसकी नींव डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने रखी थी.

बीजेपी की सक्सेस स्टोरी जानने के लिए हमें भारतीय जनसंघ के बारे में जानना होगा. जनसंघ ने साल 1952 के आम चुनावों में फाइट किया. कांग्रेस की जबरदस्त लहर के बावजूद इसकी झोली में तीन सीटें आईं. दूसरे आम चुनाव साल 1957 में चार सीटें हासिल कीं. इससे संघ का हौसला थोड़ा बढ़ गया.

साल 1962 में हुए तीसरे लोकसभा चुनाव में सीटों का आंकड़ा दहाई में पहुंचते हुए 14 हो गया. इसकी लोकप्रियता लगातार बढ़ती रही और चौथे लोकसभा चुनाव साल 1967 में इसकी सीटों की संख्या 35 हो गई. साल 1971 में इसकी सीटें पहली बार घटकर 22 रह गईं. इसके बाद पीएम इंदिरा गांधी द्वारा (1975-1976) में आपातकाल लागू कर दिया गया. फिर उन्हें हराने के लिए जनसंघ सहित कई पार्टियों ने विलय कर जनता पार्टी बनाई. इसने 1977 में हुए छठे आम चुनाव में रिकार्ड 295 सीटों पर कब्जा कर कांग्रेस को पहली बार सत्ता से बेदखल कर दिया. हालांकि आपसी कलह की वजह से यह सरकार ज्या‍दा नहीं चली.

साल 1980 में हुए लोकसभा चुनाव में इसकी सीटें सिर्फ 31 रह गईं और पार्टी बिखर गर्इ. इसके बाद जनसंघ की विचारधारा के नेताओं नें भारतीय जनता पार्टी का गठन किया. लेकिन, 1984 में हुए चुनावों में बीजेपी को सिर्फ 2 सीटों पर संतोष करना पड़ा. नौवीं लोकसभा के लिए 1989 में हुए चुनाव में इसे 85 सीटें हासिल हुईं. इसी प्रकार 1991 में 120, 1996 में 161, 1998-99 में 182 और 2009 के चुनाव में 116 सीट मिलीं.

भारतीय जनता पार्टी, भारतीय जनसंघ की उत्तराधिकारी है. डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी, मौलीचंद्र शर्मा, प्रेमनाथ डोगरा, आचार्य डीपी घोष, पीतांबर दास, ए रामाराव, वच्छ राज व्यास, बलराज मधोक, दीनदयाल उपाध्याय, अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, डॉ मुरली मनोहर जोशी, कुशाभाऊ ठाकरे, बंगारू लक्ष्मण, के जना कृष्णमुर्ति, एम वेंकैया नायडू, नितिन गडकरी और राजनाथ सिंह ने मेहनत कर इसे यहां तक पहुंचाने का काम किया. खासकर नब्बे के दौर में भाजपा को मजबूत करने में वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी की अहम भूमिका रही.

बीजेपी इतनी बड़ी राजनीतिक पार्टी यूं ही नहीं बनी है. कई शख्सियतों ने इसे फर्श से अर्श तक पहुंचाया है. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने इसे सबसे ज्यादा ऊंचाई प्रदान की है. अब जेपी नड्डा पार्टी के मौजूदा अध्यक्ष हैं. इन सभी ने न केवल दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनाने का काम किया बल्कि पूर्वोत्तर तक में बीजेपी का झंडा लहरा दिया, जहां सत्ता के लिए कभी बीजेपी के नेता सोचते भी नहीं थे.

संकलनकर्ता :     चेतन वशिष्ट भाजयुमो नेता व पूर्व प्रांत प्रमुख अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद

यह भी देखे:-

किसान आन्दोलन को मिला गोल्डन फेडरेशन आरडब्लूए का साथ
सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ मनाया मकर संक्रांति का पर्व
UNGA अध्यक्ष ने कहा- संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर का मुद्दा और ताकत से उठाए पाकिस्तान; बताया फलस्तीन ज...
मौसम ने फिर ओढ़ी कोहरे की चादर, बदला मौसम कोहरे से बढ़ी ठिठुरन
कई सारी बीमारियों से दूर रखने के साथ ही चेहरे पर भी चमक लाती है लॉफ्टर थेरेपी, होते हैं और भी फायदे
कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटी , हिंदू युवा वाहिनी ने लड्डू बांटकर मनाई खुशी
जानिए लोकसभा चुनाव गौतम बुध नगर में दोपहर 3:00 बजे तक का मतदान प्रतिशत क्या रहा
बुलंदशहर : पूर्व मंत्री व एमएलसी नरेन्द्र भाटी ने शहीद बीएसफ जवान के परिवार से की मुलाक़ात
डायबीटीज़ के क्षेत्र में अपना बहुमूल्य योगदान देने के लिए डॉ. अमित गुप्ता हुए सम्मानित
ग्रेनो वेस्ट से 35 वर्षीय युवक लापता, परिजनों ने सूचना देने की अपील की
ऑनलाइन ऐप से क्रिकेट पर सट्टा लगाने वाले गैंग का पर्दाफाश, 3 सट्टेबाज़ गिरफ्तार, कब्जे से 26 एटीएम का...
किसान एकता संघ संगठन की गौतम बुद्ध नगर समेत तीन जिलों की कार्यकारिणी भंग 
ग्रेटर नोएडा : लूट के मामले में फरार बदमाश पुलिस एनकाउंटर में घायल, 25 हज़ार का था ईनाम 
GPL 4 क्रिकेट टूर्नामेंट: लडपुरा बॉयज बनाम जेडीएस जलालपुर और भूडा बनाम रोजा थर्ड के बीच खेला गया
सिटी हार्ट अकादमी स्कूल में मनाई गई गांधी -शास्त्री जयंती
केंद्रीय राज्य मंत्री मनोज सिन्हा का भाजपाइयों ने किया स्वागत