अलर्ट : हर्ड इम्युनिटी के बाद भी राजधानी में चौथी लहर, इसलिए बढ़ रहा है संक्रमण

जनवरी में पता चला था कि दिल्ली हर्ड इम्युनिटी की तरफ बढ़ रही है। इसके महज डेढ़ माह बाद ही संक्रमण की चौथी लहर आ पहुंची है। पिछले एक महीने में ही संक्रमण के मामलों में करीब 10 फ़ीसदी का इजाफा हुआ है। तब यह आकलन किया जा रहा था कि राजधानी में संक्रमण अब काबू में रहेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। विशेषज्ञों का कहना है कि वायरस में हो रहे बदलाव और नए स्ट्रेनों के कारण मामले फिर से बढ़ रहे हैं।

 

जनवरी में हुए 5वें सीरो सर्वे में 56 फीसदी लोगों  में कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडी मिली थी।  मतलब ये लोग संक्रमित होने के बाद अपने आप ही ठीक हो गए थे। यानी दिल्ली की आधी से ज्यादा आबादी में (1 करोड़ से ज्यादा लोग) संक्रमण के खिलाफ प्राकृतिक रूप से एंटीबॉडी बन गई थी। उस दौरान विशेषज्ञों ने कहा था कि दिल्ली हर्ड इम्युनिटी की तरफ बढ़ रही है।

 

आधी से ज्यादा आबादी संक्रमित हो चुकी है। इसलिए आने वाले दिनों में संक्रमण के ग्राफ में काफी कमी आएगी और महामारी से निजात मिल सकेगी। विशेषज्ञों के मुताबिक,  कोरोना के खिलाफ एंटीबॉडी तीन से छह माह तक रहती है, लेकिन दिल्ली में 56 फीसदी लोगों में मिली एंटीबॉडी का प्रभाव महज डेढ़ माह बाद ही हल्का पड़ने लगा है। एक मार्च से ही कोरोना के मामले तेजी से बढ़ने लगे।

डबल म्यूटेंट और नए स्ट्रेन से हालात बेकाबू
सफदरजंग अस्पताल के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डॉ. जुगल किशोर का कहना है कि 5वे सीरो सर्वे के परिणाम से दिल्ली में जल्द ही संक्रमण पूरी तरह काबू में आने की संभावना बनी थी, लेकिन कोरोना के डबल म्यूटेंट और कई मरीजों में नए स्ट्रेन की पुष्टि के कारण ऐसा नहीं हुआ। काफी लोग ऐसे भी थे, जो संक्रमण से प्रभावित नहीं हुए थे, लेकिन होली के दौरान वे दिल्ली से बाहर गए। दूसरे स्थान पर जाने के कारण वे संक्रमण का कैरियर बनकर लौटे। इससे कोरोना के मामलों में इजाफा हुआ।

लोकनायक अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ. सुरेश कुमार का कहना है कि पहले जिन लोगों में एंटीबॉडी मिली थी, वे दूसरे प्रकार के वायरस से पीड़ित हुए थे। अब जो लोग संक्रमित हो रहे हैं, उनमें नए किस्म के संक्रमण की आशंका है। 40 से 50 फ़ीसदी आबादी का टीकाकरण कर दिया जाए तो आने वाले समय में दिल्ली में हर्ड इम्युनिटी बन सकती है और संक्रमण पर लगाम लग सकती है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में टीकाकरण अभियान तेज गति से चल रहा है। उम्मीद है कि आने वाले दिनों में अधिक लोगों को वैक्सीन लगाई जा सकेगी।

अब तक हुए सीरो सर्वे
पहला : जून में हुआ और 23.48% लोगों में एंटीबॉडी पाई गई थी
दूसरा : अगस्त में हुआ और 29.1% लोगों में एंटीबॉडी पाई गई थी
तीसरा : सितंबर में हुआ और 25.1% लोगों में ही एंटीबॉडी मिली
चौथा : अक्तूबर में किया गया। 25.53% लोगों में एंटीबॉडी पाई गई थी
पांचवां : जनवरी में हुआ और 56.2 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी मिली थी

 

 

यह भी देखे:-

रोटरी क्लब ने लगाया रक्त दान शिविर
भारत से माइंड गेम खेल रहा चीन, सिर्फ शांतिपूर्ण समझौते की जरूरत : पूर्व सेनाध्यक्ष
नुक्कड़ नाटक कर दिए यातायात के नियमों के पालन करने का संदेश
आज का पंचांग, 19 जून 2020 जानिए शुभ व अशुभ मुहूर्त
ग्रेटर नोएडा : उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने किया बिजली उद्योग की सबसे बड़ी प्रदर्शनी ELECRAMA-2018
परियोजना : ब्रज की संस्कृति से लुभाएगी राया की हेरिटेज सिटी, पहले बनेगा रिवर फ्रंट 
निर्माणाधीन बिल्डिंग के शटरिंग के नीचे दबे मजदूर, एक कि मौत
श्री आदर्श रामलीला सूरजपुर : रावण ने छल से किया सीता हरण
दिग्गज लेखक-निर्देशक सागर सरहदी का निधन, 87 साल की उम्र में ली अंतिम सांस
किसानों का देशव्यापी भारत बंद शुरू, प्रदर्शनकारियों ने ब्लॉक किया गाजीपुर बॉर्डर
श्रीराम मित्र मंडल नोएडा रामलीला मंचन : राम वन गमन देख दर्शकों के छलके आंसू
बीजेपी कार्यकर्ताओं ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि को  'समर्पण दिवस' के रूप में मनाया
VIDEO NEWS >> CLICK
48वां आईएचजीएफ- दिल्ली मेला आज से शुरू, केंद्रीय कपड़ा सचिव ने किया मेले का उद्घाटन
Covid-19: कोरोना के मुश्किल भरे दौर में दिल्ली पुलिस बनी 'देवदूत', खबर पढ़कर आप भी करेंगे तारीफ
अंतरिम बजट 2019 की जानिए खास बातें