अनोखी सजाः छेड़छाड़ का आरोपी नशा मुक्ति केंद्र में एक महीने करेगा सेवा

Delhi Crime News: आदेश का पालन हो, इसके लिए संबंधित केंद्र से जारी सर्टिफिकेट अदालत में जमा कराने का निर्देश भी दिया गया। अदालत ने सामुदायिक केंद्र से कहा कि वह आरोपी की ओर से किसी भी तरह की गैरहाजिरी या बुरा बर्ताव नजर आने पर तुरंत इसकी शिकायत संबंधित एसएचओ से करे।

दिल्ली हाई कोर्ट ने महिला से छेड़छाड़ के एक आरोपी को अनोखे अंदाज में उसके अपराध का बोध कराने की कोशिश की। अदालत ने आरोपी के खिलाफ केस रद्द किए जाने की मंजूरी तो दे दी, पर इस निर्देश के साथ कि वह एक महीने तक एक नशा मुक्ति केंद्र में सामुदायिक सेवा करेगा।

जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद की बेंच ने आरोपी विक्रमजीत सिंह को निर्देश दिया कि वह दरियागंज स्थित एक नशा मुक्ति केंद्र में एक महीने तक सामुदायिक सेवा (कम्युनिटी सर्विस) करे। यह केंद्र ‘सोसायटी फॉर प्रमोशन ऑफ यूथ एंड मासेस’ चलाता है। सिंह को यहां 1 अप्रैल से सेवा शुरू करने को कहा गया जो उसे 30 अप्रैल तक लगातार करनी है। आरोपी पर एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगा है। इसमें से 25 हजार रुपये डीएचसीबीए के लॉयर्स सोशल सिक्योरिटी एंड वेलफेयर फंड और 25 हजार रुपये निर्मल छाया फाउंडेशन को दिए जाएंगे। बाकी बचे 50 हजार रुपये आर्मी वेलफेयर फंड बैटल कैजुअल्टीज में जमा कराए जाने का निर्देश है।

आदेश का पालन हो, इसके लिए संबंधित केंद्र से जारी सर्टिफिकेट अदालत में जमा कराने का निर्देश भी दिया गया। अदालत ने सामुदायिक केंद्र से कहा कि वह आरोपी की ओर से किसी भी तरह की गैरहाजिरी या बुरा बर्ताव नजर आने पर तुरंत इसकी शिकायत संबंधित एसएचओ से करे। पुलिस अधिकारी को जिम्मेदारी दी गई कि वह ऐसी किसी शिकायत मिलने की जानकारी अदालत तक पहुंचाएं और संबंधित आदेश वापस लेने की मांग करें।

हाई कोर्ट ने सिंह की याचिका पर यह आदेश पारित किया। उसने विकासपुरी थाने में अपने खिलाफ छेड़छाड़ और धमकाने के आरोपों में दर्ज केस को रद्द करने की मांग की थी। दावा किया कि शिकायतकर्ता और उसने आपस में मामले को सुलझा लिया है। तर्क दिया कि ऐसे में 15 जुलाई 2020 में दर्ज इस केस में कार्यवाही को आगे बढ़ाने से अब कोई मकसद सिद्ध नहीं होगा। अदालत ने शिकायत और साक्ष्यों पर गौर किया। कहा कि याचिकाकर्ता बहुत ही क्रूर तरीके से बर्ताव करता हुआ नजर आ रहा है।

सीसीटीवी फुटेज से ही जाहिर है कि याचिकाकर्ता ने छेड़छाड़ और धमकाने के अपराध किए। घटना के चश्मदीद भी हैं। लेकिन, चूंकि शिकायतकर्ता अपनी शिकायत पर कार्यवाही को आगे बढ़ाना नहीं चाहती, इसीलिए अभियोजन को जारी रखना व्यर्थ होगा। इन टिप्पणियों के साथ अदालत ने आवेदन मंजूर कर लिया। जस्टिस प्रसाद ने कहा कि तथ्यों और याचिकाकर्ता के आचरण को देखते हुए अदालत चाहती है कि आरोपी को उसके पापों का प्रायश्चित कराने के लिए सामुदायिक सेवा का निर्देश दिया जाए। उसे भविष्य में ऐसी हरकतें न दोहराने की चेतावनी भी दी गई।

 

 

यह भी देखे:-

धनबाद: जज की मौत के मामले में सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट का आदेश, हर हफ्ते जमा करें स्टेटस रिपोर्ट
तीनों तहसीलों में 153 शिकायतें दर्ज 14 शिकायतों का मौके पर निस्तारण
भारतीय हस्तशिल्प मेला (DELHI FAIR) में खरीदारी करने उमड़े विदेशी खरीदार 
IIT BHU B.TECH की पढ़ाई अँग्रेजी के बजाय हिंदी मे पढ़ायेगा, देश का पहला ऐसा विश्वविद्यालय
PM Modi US Visit: न्यूयार्क पहुंचने पर PM मोदी का भारतीयों ने किया जोरदार स्वागत
एसटीएफ के हत्थे चढ़े एमबीसीएस में प्रवेश दिलाने वाले ठग
ढाई घंटे में बिछुड़े बच्चे को पुलिस ने माता-पिता से मिलाया
जम्‍मू-कश्‍मीर से हटी भारतीय सेना तो आएगा 'तालिबान राज', ब्रिटिश सांसद ने दी चेतावनी
यूपी : मुख्यमंत्री ने बुखार से जुड़ी बीमारियों के नियंत्रण को लेकर अफसरों को हर स्तर पर तत्पर रहने क...
जिला गौतमबुद्ध नगर प्रशासन बनेगा स्मार्ट
ग्रेटर नोएडा: भारतीय नववर्ष स्वागत उत्सव का शुभारंभ
दिल्ली तक लखीमपुर बवाल की आंच, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पूरी तरह बंद, बॉर्डरों पर बढ़ी सुरक्षा
लिवइन रिलेशनशिप में रह रहे प्रेमी ने की प्रेमिका की हत्या
गरीबों का सहारा बना समार्ट सिटीजन वेलफ़ेयर सोसाइटी ग्रेटर नोएडा
हमला कर बीटेक के  छात्र से लूटी क्रेटा  कार 
गांधी एक भरोसा,तो शास्त्री एक विश्वास भारत माता के दो लाल: चेतन वशिष्ठ