भारत-बांग्लादेश जिंदाबाद… PM नरेंद्र मोदी के स्वागत में सजीं ढाका की सड़कें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार से बांग्लादेश की दो दिवसीय यात्रा पर हैं। कोविड महामारी के आने के बाद यह पीएम मोदी की पहली विदेश यात्रा है। पीएम मोदी के स्वागत में बांग्लादेश की राजधानी को पूरी तरह सजा दिया गया है। जगह-जगह पोस्टर लगे हैं और कई जगह भारत-बांग्लादेश जिंदाबाद नारे लिखे बैनर भी लगाए गए हैं।

प्रधानमंत्री 26 मार्च को पड़ोसी देश के राष्ट्रीय दिवस समारोह में भाग लेने के लिए शेख हसीना के निमंत्रण पर बांग्लादेश गए हैं। पश्चिम बंगाल के पहले चरण के चुनाव के दौरान पीएम मोदी विदेश यात्रा पर रहेंगे। मोदी 26 और 27 मार्च क़ो बांग्लादेश में रहेंगे।

ढाका एयरपोर्ट पर उतरने के बाद मोदी सीधे राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाएंगे और 1971 के शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे।

इसके बाद मोदी नेशनल परेड स्क्वायर पर आयोजित समारोह में विशेष अतिथि के रूप में शामिल होंगे। इस समारोह की मुख्य अतिथि राष्ट्रपति अब्दुल हामिद होंगे, जबकि अध्यक्षता प्रधानमंत्री शेख हसीना करेंगी। शुक्रवार शाम को भारतीय प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ बंगबंधु-बापू म्यूजियम का संयुक्त रूप से उद्घाटन करेंगे।

पीएम मोदी ने लिखा खास लेख
बांग्लादेश की आजादी के 50 साल पूरे होने के मौके पर पीएम मोदी ढाका पहुंच रहे हैं। इस दौरान उन्होंने बांग्लादेश के प्रतिष्ठित अखबार ‘द डेली स्टार’ में एक खास लेख लिखा। अपने लेख में पीएम मोदी ने बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान को याद किया। उन्होंने बांग्लादेश के गठन में शेख मुजीबुर्रहमान के संघर्ष को सलाम किया। उन्होंने लिखा कि जब हम बंगबंधु के जीवन और संघर्ष को देखते हैं, उससे बिल्कुल साफ हो जाता है कि इस महाद्वीप के सपने एक जैसे हैं। अगस्त 1975 में बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान और उनके परिवार के सदस्यों की निर्मम हत्या कर दी गई। उनके हत्यारे बांग्लादेश की आजादी नहीं चाहते थे। वे बंगबंधु के शांतिपूर्ण और सौहार्द्रपूर्ण उपमहाद्वीप के निर्माण के सपने को नष्ट करना चाहते थे। बंगबंधु का जीवन संघर्षभरा रहा है। उत्पीड़न और क्रूरता का सामना करते हुए वह बेखौफ खड़े रहे। बंगमाता शेख फाजिलतुन्नेस उनकी ताकत थी। पीएम मोदी ने अपने लेख में लिखा कि बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान को भारत में भी बड़े सम्मान के साथ देखा जाता है और उनकी सोच को सराहा जाता है।

प्रधानमंत्री मोदी की बांग्लादेश यात्रा के दौरान भारत-बांग्लादेश के बीच पांच समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर हो सकते हैं। बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन ने यह जानकारी दी। मोमेन ने कहा कि एमओयू की संख्या कम या ज्यादा हो सकती है, लेकिन कम से कम पांच एमओयू पर हस्ताक्षर होने की संभावना है।

यह भी देखे:-

प्रभारी अधिकारी ने विकास कार्यों व अपराध नियंत्रण पर की समीक्षा
सुप्रीम कोर्ट ने कहा- महिलाएं क्या पहनें और कैसे रहें, इस पर टिप्पणी से बचें जज
मतगणना को लेकर डीएम ने की बैठक, जानिए क्या है तैयारी
यूपी विधानमण्डल सत्र 2021
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय बना बॉलीवुड निर्माताओं की पहली पसंद
मनमाने तरीके से फीस वसूली का आरोप , धरने पर बैठे बी.टेक के छात्र
डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी एक व्यक्ति नहीं विचार का नाम है :चेतन
FARE YOU WELL’ SAYS RYAN GREATER NOIDA
बिकराल हुई महामारी, नए मामले तीन लाख के पार, 21 सौ से ज्यादा मौतें, महाराष्ट्र में सबसे ज्‍यादा की ग...
प्रदूषण विभाग ने मिक्सर प्लांट पर लगाया 5 लाख का जुर्माना
आज का पंचांग, 4  जनवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
ग्रेटर नोएडा : कपड़ा राज्य मंत्री अजय टमटा ने हस्तशिल्प मेला का किया दौरा
“पावर के बिजनेस से.....बिजनेस करने की मिली पावर”, ग्रेटर नोएडा में रिन्यूएबल एनर्जी इंडिया 2019 एक्स...
दिल्ली : स्कूलों में शिक्षकों के 12,065 रिक्त पद भरने की प्रक्रिया शुरू
आज का पंचांग , 15 जून 2020 , जानिए आज का शुभ - अशुभ मुहूर्त
श्री रामायण मेला समिति जहांगीरपुर : भरत मिलाप देख दर्शकों के सजल हो उठे नयन