भारत-बांग्लादेश जिंदाबाद… PM नरेंद्र मोदी के स्वागत में सजीं ढाका की सड़कें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार से बांग्लादेश की दो दिवसीय यात्रा पर हैं। कोविड महामारी के आने के बाद यह पीएम मोदी की पहली विदेश यात्रा है। पीएम मोदी के स्वागत में बांग्लादेश की राजधानी को पूरी तरह सजा दिया गया है। जगह-जगह पोस्टर लगे हैं और कई जगह भारत-बांग्लादेश जिंदाबाद नारे लिखे बैनर भी लगाए गए हैं।

प्रधानमंत्री 26 मार्च को पड़ोसी देश के राष्ट्रीय दिवस समारोह में भाग लेने के लिए शेख हसीना के निमंत्रण पर बांग्लादेश गए हैं। पश्चिम बंगाल के पहले चरण के चुनाव के दौरान पीएम मोदी विदेश यात्रा पर रहेंगे। मोदी 26 और 27 मार्च क़ो बांग्लादेश में रहेंगे।

ढाका एयरपोर्ट पर उतरने के बाद मोदी सीधे राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाएंगे और 1971 के शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे।

इसके बाद मोदी नेशनल परेड स्क्वायर पर आयोजित समारोह में विशेष अतिथि के रूप में शामिल होंगे। इस समारोह की मुख्य अतिथि राष्ट्रपति अब्दुल हामिद होंगे, जबकि अध्यक्षता प्रधानमंत्री शेख हसीना करेंगी। शुक्रवार शाम को भारतीय प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ बंगबंधु-बापू म्यूजियम का संयुक्त रूप से उद्घाटन करेंगे।

पीएम मोदी ने लिखा खास लेख
बांग्लादेश की आजादी के 50 साल पूरे होने के मौके पर पीएम मोदी ढाका पहुंच रहे हैं। इस दौरान उन्होंने बांग्लादेश के प्रतिष्ठित अखबार ‘द डेली स्टार’ में एक खास लेख लिखा। अपने लेख में पीएम मोदी ने बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान को याद किया। उन्होंने बांग्लादेश के गठन में शेख मुजीबुर्रहमान के संघर्ष को सलाम किया। उन्होंने लिखा कि जब हम बंगबंधु के जीवन और संघर्ष को देखते हैं, उससे बिल्कुल साफ हो जाता है कि इस महाद्वीप के सपने एक जैसे हैं। अगस्त 1975 में बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान और उनके परिवार के सदस्यों की निर्मम हत्या कर दी गई। उनके हत्यारे बांग्लादेश की आजादी नहीं चाहते थे। वे बंगबंधु के शांतिपूर्ण और सौहार्द्रपूर्ण उपमहाद्वीप के निर्माण के सपने को नष्ट करना चाहते थे। बंगबंधु का जीवन संघर्षभरा रहा है। उत्पीड़न और क्रूरता का सामना करते हुए वह बेखौफ खड़े रहे। बंगमाता शेख फाजिलतुन्नेस उनकी ताकत थी। पीएम मोदी ने अपने लेख में लिखा कि बंगबंधु शेख मुजीबुर्रहमान को भारत में भी बड़े सम्मान के साथ देखा जाता है और उनकी सोच को सराहा जाता है।

प्रधानमंत्री मोदी की बांग्लादेश यात्रा के दौरान भारत-बांग्लादेश के बीच पांच समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर हो सकते हैं। बांग्लादेश के विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन ने यह जानकारी दी। मोमेन ने कहा कि एमओयू की संख्या कम या ज्यादा हो सकती है, लेकिन कम से कम पांच एमओयू पर हस्ताक्षर होने की संभावना है।

यह भी देखे:-

विश्व पर्यावरण दिवस पर डॉ. अभिषेक स्वामी का लेख- ‘‘प्लास्टिक प्रदूषण की समाप्ति’’
पीएम मोदी की सभा मे सीएम का विरोध करने जाने से ऐडवोकेट रविन्द्र भाटी को पुलिस ने रोका
कछुआ, तोता , मुनिया चिड़िया व लंगूर के साथ पशु तस्कर गिरफ्तार 
COVID-19 में भी नहीं गई चीन की मक्कारी? दुनियाभर से PPE किट खरीद जमा कर लिया, अब महंगे दाम में बेच ...
अब बाजार से खरीद सकेंगे कोरोना का टीका, पहले से तय होगी कीमत; जानिए और क्या नियम
गौतमबुद्ध नगर में कोरोना अपडेट, 25 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए
पैरा ओलंपिक खेल में सिल्वर मेडल जीतने पर जिलाधिकारी को संगठन के कार्यकर्ताओं ने फूलों का गुलदस्ता भे...
यूपी पंचायत चुनाव: पहले चरण के 18 जिलों में नामांकन आज से, इन नियमों का करना होगा पालन
द विजडम ट्री स्कूल : बैसाखी की पूर्व संध्या पर बच्चों ने भांगडा नृत्य पेश किया
सैमसंग में स्थानीय युवाओं के रोजगार का मुद्दा : 23 अक्टूबर को होगी अधिकारीयों व अ.भा . गुर्जर परिषद...
पैसे की लालच में किशोर ने की थी बुजुर्ग की हत्या, तीन दिन के अंदर पुलिस ने किया खुलासा
वायु प्रदूषण रोकने के लिए ऐक्शन में आया ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण, आठ जोन में बांटकर प्रदूषण रोकने का ख...
पहली बार पीएम मोदी को लेकर विदेशी सरजमीं पर उड़ा VVIP विमान 'एयर इंडिया वन', जानें इसकी खासियत
होमगार्ड की हत्या के आरोप में दो सगे भाई गिरफ्तार
Coronavirus News: बिहार में 24 घंटे में 27 लोगों ने तोड़ा दम, पूर्व मंत्री मेवालाल भी कोरोना से हारे
दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा जल कार्यक्रम : सोलहवां “एवरीथिंग अबाउट वॉटर एक्सपो प्रदर्शनी का उद्घाटन