आखिर फेफड़े क्यों हो जाते हैं काले? जानिए इसके कारण, लक्षण और बचाव के उपाय

दुनिया में ऐसी बहुत सी बीमारियां हैं, जो बहुत ही गंभीर होती हैं, लेकिन हमें उनका पता तक नहीं चल पाता। ऐसी ही एक बीमारी है ब्लैक लंग डिजीज, यानी इस बीमारी में फेफड़े काले हो जाते हैं। इस बीमारी को कोल वर्कर्स नीमोकोनॉयोसिस के नाम से भी जाना जाता है। यह बीमारी गंभीर जरूर है, लेकिन यह आनुवंशिक नहीं है और न ही यह संक्रामक है। हालांकि दुनियाभर में कोयला खदानों में काम करने वाले लाखों लोगों को इसका खतरा हो सकता है, क्योंकि यह बीमारी तब होती है जब कोई व्यक्ति कोयले की धूल के संपर्क में ज्यादा रहता है। इससे उनके फेफड़ों में धूल के कण चले जाते हैं और उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगती है।

ब्लैक लंग डिजीज के कारण?
ब्लैक लंग डिजीज को नौकरी से जुड़ी बीमारी माना जाता है। जब आप लंबे समय तक कोयले की धूल में सांस लेते हैं, तो आपको यह बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है। जैसे ही आप कोयले की धूल में सांस लेते हैं, उसके कण आपके वायुमार्ग और फेफड़ों में जाकर बैठ जाते हैं। इससे सूजन हो सकती है और बाद में फेफड़े पूरी तरह काले पड़ जाते हैं। हालांकि इस बीमारी के होने की संभावना इस बात पर निर्भर करती है कि धूल शरीर में कितनी अंदर तक गई है और कितने समय से चली आ रही है।

ब्लैक लंग डिजीज के लक्षण
अमेरिकन लंग एसोसिएशन के मुताबिक, ब्लैक लंग डिजीज के लक्षण विकसित होने में सालों लग सकते हैं। शुरुआती चरणों में इसके सबसे आम लक्षण खांसी, सांस की तकलीफ और सीने में जकड़न हैं। कुछ समय के बाद खांसी में काली बलगम भी आ सकती है। अगर बीमारी गंभीर है, तो यह ऑक्सीजन को ब्लड तक पहुंचने से रोक सकता है और इससे हृदय और मस्तिष्क को भी नुकसान पहुंच सकता है।

ब्लैक लंग डिजीज से बचने के उपाय

स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी देने वाली वेबसाइट वेबएमडी (WebMD) के मुताबिक, अगर आप कोयला खदानों में काम करते हैं, तो कुछ उपायों को अपनाकर इस बीमारी से बच सकते हैं, जैसे-
काम करते समय मास्क पहनें
त्वचा पर बैठी धूल को साफ करते रहें
खाना खाने या पानी पीने से पहले अपने हाथों और चेहरे को अच्छी तरह से धोएं
धूम्रपान से परहेज करें
नियमित तौर पर छाती का एक्स-रे कराएं
अगर कोई परेशानी हो तो तुरंत डॉक्टर से मिलें

 

यह भी देखे:-

India Coronavirus Cases: पिछले 24 घंटों में संक्रमितों की संख्या घटकर 15,786 हुई
Ryan’ Virtual Literary Extravaganza
गौतमबुद्ध नगर में कोरोना का हाल आज क्या है जानिए
हिन्दी साहित्य को नया अमली जामा पहना रहा है वेब-चौपाल "तीखर"
यूपी बोर्ड के टॉपर्स बच्चों को डीएम बी.एन. सिंह ने किया सम्मानित
यमुना प्राधिकरण किराए पर देगा ऑक्सीजन , पढ़ें पूरी खबर   
ग्रेटर नोएडा : जलाधिकार फाउंडेशन ने जल वन्दन कार्यक्रम किया आयोजित ,
जानिए, गौतमबुद्ध नगर का कोरोना अपडेट, 776 मरीजों का चल रहा है ईलाज
Vaccine नहीं लगवाने वालों को Flight के बाद अब Train में भी नहीं मिलेगी एंट्री
शारदा विश्वविद्लाया में संतोष ट्राफी का समापन
भूल गए हैं UPI PIN, Google Pay पर ऐसे करें चेंज, यह है आसान तरीका
Tokyo Paralympics: योगेश और देवेंद्र के हाथ लगी चांदी, सुंदर गुर्जर ने जीता कांस्य
जहांगीरपुर आरपीएस पब्लिक स्कूल के 25 विद्यार्थियों को 10 CGPA
AKTU: पीएचडी में दाखिले की प्रवेश परीक्षा 20 फरवरी को
आतंकवाद के खिलाफ हुआ हिंदुस्तानी जन आक्रोश पैदल मार्च का आयोजन
पतंजलि : बाबा रामदेव ने लॉन्च की कोरोना की नई दवा, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और नितिन गडकरी भी रहे ...