आखिर फेफड़े क्यों हो जाते हैं काले? जानिए इसके कारण, लक्षण और बचाव के उपाय

दुनिया में ऐसी बहुत सी बीमारियां हैं, जो बहुत ही गंभीर होती हैं, लेकिन हमें उनका पता तक नहीं चल पाता। ऐसी ही एक बीमारी है ब्लैक लंग डिजीज, यानी इस बीमारी में फेफड़े काले हो जाते हैं। इस बीमारी को कोल वर्कर्स नीमोकोनॉयोसिस के नाम से भी जाना जाता है। यह बीमारी गंभीर जरूर है, लेकिन यह आनुवंशिक नहीं है और न ही यह संक्रामक है। हालांकि दुनियाभर में कोयला खदानों में काम करने वाले लाखों लोगों को इसका खतरा हो सकता है, क्योंकि यह बीमारी तब होती है जब कोई व्यक्ति कोयले की धूल के संपर्क में ज्यादा रहता है। इससे उनके फेफड़ों में धूल के कण चले जाते हैं और उन्हें सांस लेने में परेशानी होने लगती है।

ब्लैक लंग डिजीज के कारण?
ब्लैक लंग डिजीज को नौकरी से जुड़ी बीमारी माना जाता है। जब आप लंबे समय तक कोयले की धूल में सांस लेते हैं, तो आपको यह बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है। जैसे ही आप कोयले की धूल में सांस लेते हैं, उसके कण आपके वायुमार्ग और फेफड़ों में जाकर बैठ जाते हैं। इससे सूजन हो सकती है और बाद में फेफड़े पूरी तरह काले पड़ जाते हैं। हालांकि इस बीमारी के होने की संभावना इस बात पर निर्भर करती है कि धूल शरीर में कितनी अंदर तक गई है और कितने समय से चली आ रही है।

ब्लैक लंग डिजीज के लक्षण
अमेरिकन लंग एसोसिएशन के मुताबिक, ब्लैक लंग डिजीज के लक्षण विकसित होने में सालों लग सकते हैं। शुरुआती चरणों में इसके सबसे आम लक्षण खांसी, सांस की तकलीफ और सीने में जकड़न हैं। कुछ समय के बाद खांसी में काली बलगम भी आ सकती है। अगर बीमारी गंभीर है, तो यह ऑक्सीजन को ब्लड तक पहुंचने से रोक सकता है और इससे हृदय और मस्तिष्क को भी नुकसान पहुंच सकता है।

ब्लैक लंग डिजीज से बचने के उपाय

स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी देने वाली वेबसाइट वेबएमडी (WebMD) के मुताबिक, अगर आप कोयला खदानों में काम करते हैं, तो कुछ उपायों को अपनाकर इस बीमारी से बच सकते हैं, जैसे-
काम करते समय मास्क पहनें
त्वचा पर बैठी धूल को साफ करते रहें
खाना खाने या पानी पीने से पहले अपने हाथों और चेहरे को अच्छी तरह से धोएं
धूम्रपान से परहेज करें
नियमित तौर पर छाती का एक्स-रे कराएं
अगर कोई परेशानी हो तो तुरंत डॉक्टर से मिलें

 

यह भी देखे:-

कोरोना से भारत में पहली मौत की खबर, डरो नहीं , जयपुर में एक मरीज ठीक होने का दावा, मिल गया ठीक होने ...
Coronavirus India News: कोरोना एक नई तैयारी मे 11,649 नए मामले, अब तक 82 लाख को लगी वैक्सीन
स्काईलाईन मे डाॅ एपीजे अबदुल कलाम टैक फेस्ट -2019 का समापन
COVID 19 पर जानिए, गौतमबुद्ध नगर में आज तक की क्या है रिपोर्ट
SHARDA TECH. SCALES NEW FRONTIERS IN Information Technology
पीएम मोदी की परीक्षा पर चर्चा देख सावित्री बाई स्कूल की छात्राओं का तनाव दूर
रोटरी क्लब ने फ्री नेत्र जांच व मोतियाबिंद ऑपरेशन शिविर लगाया
सिटी हार्ट अकादमी में पी.एस. ए. द्वारा सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता आयोजित
ग्रेटर नोएडा इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस में ब्लड बैंक शुरू, अब हो सकेंगे ये इलाज
COVID-19:निजामुद्दीन में जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए 6 लोगों की मौत
इंटरनेशनल चैंबर ऑफ प्रोफेशनल एजुकेशन एंड इंडस्ट्री (ICPEI) ने अंतर्राष्ट्रीय प्रबंधन दिवस और उत्कृष्...
बच्चो के भविष्य पर धांधली करता अब्दुल कलाम यूनिवर्सिटी
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल
ठण्ड और शीतलहर के कारण दो दिन स्कूल रहेंगे बंद, जारी हुआ आदेश
शारदा विश्विद्यालय में अंतरष्ट्रीय छात्रों का समुदाय मनाएगा दिवाली , ओम बिड़ला होंगे मुख्य अतिथि
शारदा समूह का 24वां स्थापना दिवस धूम धाम से मनाया गया