UN में श्रीलंका के खिलाफ मतदान से दूर रहा भारत, जानें- तमिलनाडु की राजनीति से है क्या कनेक्शन

एक तरफ पड़ोसी देश से कूटनीतिक संबंधों की फिक्र और दूसरी तरफ तमिलनाडु में होने वाले विधानसभा चुनावों के बीच भारत ने संयुक्त राष्ट्र में हुई वोटिंग से दूर रहने का ही फैसला लिया। मंगलवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में श्रीलंका के खिलाफ हुई वोटिंग से भारत गैरहाजिर रहा। श्रीलंका सरकार की ओर से युद्ध अपराध और मानवाधिकारों के उल्लंघन के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र की संस्था में यह मतदान हुआ, जिसमें भारत के पड़ोसी देश के खिलाफ प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया। कुल 47 वोटों में से 22 वोट इस प्रस्ताव के पक्ष में पड़े थे। भारत और नेपाल समेत 13 देशों ने वोटिंग से गैरहाजिर रहने का फैसला लिया, वहीं 11 वोट इस प्रस्ताव के खिलाफ पड़े।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में श्रीलंका के खिलाफ इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया है। साफ है कि श्रीलंका के लिए यह एक बड़ा झटका है। हालांकि पाकिस्तान और चीन जैसे  देशों ने उसके पक्ष में वोटिंग की है। इसके अलावा रूस ने भी श्रीलंका का समर्थन किया है। UN की संस्था में मतदान से पहले श्रीलंका की ओर से भारत को साधने का प्रयास किया गया था, लेकिन उसे कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिल पाया। दरअसल भारत सरकार पर तमिलनाडु के राजनीतिक दलों की ओर से दबाव था कि वह श्रीलंका के खिलाफ वोटिंग करे। ऐसी स्थिति में भारत ने लोकल राजनीति और ग्लोबल समीकरण दोनों को ही न बिगाड़ने का फैसला लेते हुए वोटिंग से दूर रहना ही उचित समझा।

इससे पहले 2012 और 2013 में भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में श्रीलंका के खिलाफ मतदान किया था। दरअसल बीते कुछ सालों में श्रीलंका और चीन के बीच नजदीकी बढ़ गई है, ऐसे में एक बार फिर से द्वीपीय देश के खिलाफ वोटिंग उसे ड्रैगन के और नजदीक ले जा सकती थी। 2014 में भारत ने श्रीलंका के खिलाफ लाए गए प्रस्ताव से दूर रहने का फैसला लिया था। बता दें कि भारत सरकार हमेशा ही श्रीलंका में तमिलों के समान अधिकारों की पक्षधर रही है।

वोटिंग से दूर रहने पर क्या बोले राजनयिक: पिछले दिनों में भी नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने श्रीलंका की एकता की बात करते हुए सभी को समान अधिकार देने का संदेश दिया था। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन के सदस्य पवन बाढ़े ने कहा कि हम श्रीलंकों में तमिलों के लिए न्याय, समानता, सम्मान और शांति के पक्षधर रहे हैं। इसके अलावा हम श्रीलंका की एकात्मता, एकता और स्थिरता चाहते हैं।

यह भी देखे:-

रुद्राक्ष वैसोया का जीवन बचने के लिए मिहिर सेना आया आगे
वीरेंद्र डाढ़ा होंगे बसपा से गौतमबुद्धनगर लोक सभा प्रत्याशी, लोकसभा कार्यकर्ता सम्मलेन में की गई घोषण...
महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ सीबीआई जांच का आदेश
राज्य मंत्री महेश चन्द्र गुप्ता ने किया जिम्स संस्थान का निरीक्षण, किया अमृत फार्मेसी का लोकार्पण
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल
International Women's Day पर अमेज़न प्राइम ने की नई सीरीज़ की घोषणा, एक्टिंग से लेकर निर्देशन तक सब ...
वेतन की मांग को लेकर वीवो के कर्मचारियों का हंगामा
सिपाही का हत्यारा 1 लाख का ईनामी पुलिस एनकाउंटर में ढेर
माता गुर्जरी पन्नाधाय संस्था के द्वारा गुर्जर महिलाएं सम्मानित
CORONA UPDATE : गौतमबुद्ध नगर में 81 साल के व्यक्ति समेत 7 ने जीती कोरोना से जंग
दिल्ली : श्मशान घाट पर नहीं मिली जगह तो पार्किंग की जमीन पर हो रहा शवों का अंतिम संस्कार
श्री राधा स्काई गार्डन, ग्रेटर नोएडा वेस्ट के मैनेजमेंट की अनदेखी, लापरवाही और गलत इरादो की बजह से ह...
Weather Updates: दिल्ली में फिर से बरसेंगे मेघा, जानें हरियाणा, बिहार सहित झारखंड का मौसम
लॉकडाउन का उलंघन करने वालों पर सख्त गौतमबुद्ध नगर पुलिस
ऑपरेशन कराने अस्पताल में एडमिट मरीज निकली कोरोना पॉजिटिव , मची अफरा तफरी, डॉक्टर व स्टाफ क्वारंटाइन ...
फैक्ट्री में तैनात सुरक्षा गार्ड की रोड डंडे से पीटकर हत्या