अभिभावकों की जेब होगी ढीली : स्कूलों की किताब-कॉपी 10-15 फीसदी तक महंगी

स्कूलों में अप्रैल से नए सत्र की शुरूआत होने जा रही है। नए सत्र की कॉपी-किताबों की कीमत अभिभावकों की जेब पर भारी पड़ रही है। दरअसल कॉपी किताबों की कीमतों में 10-15 फीसदी तक की बढ़ोतरी हो गई है।

नामी स्कूलों में पहली से आठवीं तक के कॉपी किताबों के सेट की कीमत 11 हजार रुपये है। ऑनलाइन पढ़ाई के बावजूद अभिभावक इन्हें खरीदने के लिए मजबूर हो रहे हैं। जबकि स्कूलों में निजी प्रकाशकों की बजाए केवल एनसीईआरटी की किताबों से ही पढ़ाई कराने केनिर्देश दिए गए हैं।

स्कूलों में वार्षिक परीक्षाएं लगभग संपन्न हो गई हैं। ऐसे में रिजल्ट की तिथि के साथ-साथ अभिभावकों के पास किताब-कॉपियों के सेट लेने के संदेश आने लगे हैं। दक्षिणी दिल्ली के एक नामी स्कूल ने स्कूल काउंटर से किताबें लेने का संदेश भेजा है। जिसमें पहली से आठवीं तक केबच्चों की किताबों की कीमत लगभग 11 हजार है। जबकि दूसरी कक्षा की किताबों के लिए लगभग 7500 रुपये चुकने व यूनिफॉर्म काउंटर से यूनिफॉर्म लेने के लिए कहा गया है।

वहीं पूर्वी दिल्ली के एक अन्य स्कूल ने कॉपी किताबों के लिए 8,000 रुपये चुकाने का संदेश भेजा है। साथ ही यूनिफॉर्म लेने के लिए भी कहा है। अभिभावकों की मानें तो कोरोना काल के बावजूद कॉपी-किताबों की कीमतों में बीते साल की तुलना में 10-15 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई है।

अभिभावक वीना ने कहा कि दूसरी कक्षा का कॉपी-किताब का सेट बीते साल तक 6500 हजार तक का पड़ता था। इस बार 7500 रुपये चुकाने पड़ेंगे। जबकि बीते साल बड़ी कक्षाओं की किताबों के लिए 9 हजार रुपये चुकाए थे।

स्कूलों का कहना
एर्फोडेबल प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन केअध्यक्ष लक्ष्य छाबडिय़ा कहते हैं कि अभिभावकों पर अतिरिक्त बोझ ना पड़े इसकेलिए अभिभावकों को कहा गया है कि वह सैकेंड हैंड किताब भी खरीद सकते हैं। वह चाहे निजी प्रकाशकों की हों या एनसीईआरटी की।

वह कहते हैं कि शिक्षा निदेशालय के इस साल आए ऑर्डर के अनुसार एनसीईआरटी की किताबें ही पढ़ानी है। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि एनसीईआरटी की किताबें बाजार में मिलती नहीं हैं।

जहां तक यूनिफॉर्म खरीदने की बात है तो बीते साल ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान देखा गया कि बच्चे कक्षा लेने बैठ जाते थे लेकिन वह व्यवस्थित नहीं होते थे। ऐसे में अब जब बच्चे यूनिफॉर्म पहन कर ऑनलाइन पढ़ाई करेंगे तो स्कूल जैसा अनुशासन भी बनाया जा सकेगा।

दिल्ली पैरेटेंस एसोसिएशन की अध्यक्ष अपराजिता गौतम कहती हैं कि जब एनसीईआरटी की किताबों से पढ़ाने के आदेश दिए गए हैं, तो स्कूल इस को दरकिनार कर क्यों अभिभावकों से मंहगे दामों में किताबें खरीदने के लिए कह रहे हैं। कोरोना काल में भी स्कूल पैसा कमाने में लगे हैं।

अभी चूंकि ऑनलाइन पढ़ाई ही हो रही है तो एनसीईआरटी की डाउनलोड किताबों से भी पढ़ाई हो सकती है। उन्होंने कहा कि शिक्षा निदेशालय, सीबीएसई, एनसीईआरटी से हमारा अनुरोध है कि वह स्कूलों से एनसीईआरटी की किताबों से पढ़ाने के आदेश का पालन करने के लिए कहें।

 

यह भी देखे:-

किसानों का एलान: जहां पुलिस ने रोका, वहीं लगाएंगे संसद
अमेठी हेल्प डेस्क द्वारा आयोजित मुफ़्त करियर काउन्सलिंग वर्कशॉप में विद्यार्थियों ने बढ़ चढ़ कर हिस्...
रोटरी क्लब ग्रेनो करा रहा है तुगलपुर स्कूल में कमरे का निर्माण
बदलाव: छत्तीसगढ़ पुलिस में भर्ती हुए 15 थर्ड जेंडर ,थर्ड जेंडर समुदाय के लोगों ने छत्तीसगढ़ सरकार और ...
असहाय व निर्धन लोगो में बांटे कम्बल, पाने वालों के खिल उठे चेहरे
योगी मंत्रिमंडल विस्तार: सियासी हलचल तेज, यूपी भाजपा अध्यक्ष और महामंत्री संगठन दिल्ली पहुंचे
रबूपुरा रामलीला मंचन : राम को वनवास, भरत को मिला अयोध्या का राज
विवाद में पत्नी व बच्चे पर चाकू से हमला, बीच बचाव करने आई भाभी को उतारा मौत के घाट, पढ़ें पूरी खबर
यूपी में लेखपाल के 7882 पदों के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा के तारीखों की घोषणा
12वीं बोर्ड परीक्षा: ओएमआर शीट पर वैकल्पिक और छोटे प्रश्नों का विकल्प संभव, स्कूल में ही होगी आंसर-क...
संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद : आज बैठक में PM मोदी इतिहास रचेंगे ,ऐसे करने वाले पहले भारतीय प्रधा...
गोरखपुर दौरा: आज दो विश्वविद्यालयों की सौगात देंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, यहां देखें पूरा शेड्यूल
सुप्रीम कोर्ट: जज ने किया पीड़िता से सवाल- आखिर रात आठ बजे होटल के कमरे में मिलने क्यों गईं
डेंगू-वायरल से नौ बच्चों समेत 11 की मौत, फिरोजाबाद में पांच ने तोड़ा दम
प्रियंका गांधी का सरकार पर हमला : बोलीं,  लखीमपुर कांड के अपराधियों को पीएम-सीएम का संरक्षण 
शारदा यूनिवर्सिटी : राष्ट्रीय टूथ ब्रशिंग सप्ताह के दौरान बताया गया दांत साफ करने का तरीका