सचिन वाझे की सोसाइटी के CCTV में एंटीलिया के बाहर बम बरामदगी का राज? क्यों उनकी टीम ले गई फुटेज?

मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली विस्फोटक भरी कार और हिरेन मनसुख की कथित हत्या के केस में गिरफ्तार किए गए मुंबई पुलिस के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वाझे की सोसायटी की सीसीटीवी फुटेज को लेकर नया विवाद छिड़ गया है। साकेत कॉम्पलेक्स के निवासियों का कहना है कि 27 फरवरी को सोसायटी कमिटी को सूचना दिए बगैर क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) के चार अधिकारी यहां से पूरे नेटवर्क वीडियो रिकॉर्डर (NVR) को ले गए। बता दें, कि उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक वाली कार 25 फरवरी को बरामद हुई थी। यानी एनवीआर को इस घटना के ठीक दो दिन बाद ले जाया गया।

पुलिस के मुताबिक CIU के इन चार अधिकारियों में रियाजुद्दीन काजी भी शामिल थे और उन्होंने कुछ दिनों पहले सोसायटी चेरयमैन और सेक्रेटरी को लेटर लिखकर फुटेज की मांग की थी। इसकी एक कॉपी एचटी के पास है। वाझे उस समय CIU के हेड थे। इस टीम ने कथित तौर पर सोसायटी के चेयरमैन और सेक्रेटरी से एनवीआर लिया। इसके दो दिन बाद सोसायटी ने सिक्यॉरिटी कॉन्ट्रैक्टर को हटा दिया।

एक और चौंकाने वाला खुलासा यह हुआ है कि सोसायटी ने 4 मार्च की शाम को राबोडी पुलिस स्टेशन को एक लेटर लिखा था, उसी दिन मनसुख हिरेन लापता हुए थे। मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली विस्फोटक वाली कार का खुद को मालिक बताने वाले हिरेन मनसुख का शव 5 मार्च को बरामद हुआ था।

सोसायटी के एक सदस्य ने पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर कहा, ”टीम ने सीसीटीवी फुटेज की मांग की थी। सिक्यॉरिटी कॉन्ट्रैक्टर ने पूरा एनवीआर चार अधिकारियों को सौंप दिया। दो दिन बाद कॉन्ट्रैक्टर को सोसायटी ने हटा दिया और दावा किया गया कि उसका काम संतोषजनक नहीं है। कमिटी के अन्य सदस्यों को यह नहीं पता था कि एनवीआर सौंप दिया गया है।”

उन्होंनने आगे कहा कि अचानक 4 मार्च को सोसायटी ने फैसला लिया कि पुलिस को सूचना दी जाए कि सीआईयू ने सीसीटीवी फुटेज लिया है। राबोडी पुलिस अधिकारियों ने लेटर की पुष्टि की है। अधिकारी ने कहा, ”सोसायटी के सदस्यों ने हमें लिखित में दिया है कि 27 मार्च को CIU के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर, मुंबई हमारी सोसायटी में आए और कुछ जांच के लिए सोसायटी की सीसीटीवी फुटेज ले गए। जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हम इसकी जानकारी पुलिस टीम को दे रहे हैं।”

दूसरी तरफ वाझे की लीगल टीम ने कहा है कि एनआईए ने रिमांड कॉपी भी नहीं दी है। उनकी गिरफ्तारी को लेकर पूरी जानकारी नहीं दी गई है और ये दावे झूठे हैं।

यह भी देखे:-

जी. डी. गोयंका में चल रहा ONLINE  पी. टी. एम. (PTM)
Parliament Monsoon Session: आज राज्यसभा में ओबीसी बिल पारित होने की संभावना
दिल्ली में राहत : बारिश और लॉकडाउन ने धो डाला हवा में घुला प्रदूषण, वायु गुणवत्ता में सुधार
PM मोदी ने लॉन्च किया e-RUPI, जानिए किस तरह काम करता है यह डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन
स्थानीय युवाओं के रोजगार की मांग, नुक्कड़ सभा कर ग्रामीणों को किया जागरूक
राहुल गांधी पयर्टन के लिए लखीमपुर जाना चाहते हैं- सिद्धार्थनाथ सिंह
पीएम मोदी का वाराणसी आगमन: परियोजनाओं की सूची तैयार करने में लगा प्रशासन, पीएमओ को भेजा जाएगा
दो शातिर लुटेरे गिरफ्तार, लूटा हुआ मोबाइल फोन, बाइक और बाइक का इंजन और पार्ट्स बरामद
गलगोटिया विश्विद्यालय के सहयोग से सार्थक एडू-विज़न एक्सपो का आयोजन   
सुन्दर भाटी गैंग के सक्रिय सदस्य की अल्फा 2 में करोड़ों की संपत्ति जब्त
किसान सम्मान निधि : आज पीएम मोदी लाभार्थी किसानों को जारी करेंगे 9.75 करोड़
पवन खटाना बने मेरठ मंडल अध्यक्ष , प्रदेश प्रवक्ता पद पर भी बने रहेंगे
पति समेत पांच पर लगा दहेज हत्या का आरोप, जांच में जुटी पुलिस
लखीमपुर हिंसा : कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने सौंपा राष्ट्रपति को ज्ञापन, राहुल बोले- SC के दो जज करें ...
ग्रेटर नोएडा : आईजीसी शिविर के कैडेट्स गणतंत्र दिवस पर राजपथ की बनेंगे शान
47 गुण्डे जिला बदर, डीएम ने माॅगी जनता से फीडबैक