दिल्ली: एलजी की शक्तियां बढ़ने से बेचैन क्यों हैं केजरीवाल, क्या बिखर जाएगा आम आदमी पार्टी का यह सपना?

केंद्र सरकार ने लोकसभा में एक बिल का प्रस्ताव किया, जो दिल्ली के उपराज्यपाल की शक्तियां बढ़ाने वाला होगा। इस बिल के कानून बनने के बाद दिल्ली की सरकार द्वारा कोई भी कानून बनाने के बाद उस पर एलजी की सहमति लेना अनिवार्य हो जाएगा। इस बिल के पास होने के बाद दिल्ली सरकार को राजधानी के बारे में कोई भी विशेष निर्णय लेने से पहले उपराज्यपाल से सलाह लेना अनिवार्य होगा। उपराज्यपाल की शक्तियों के बारे में केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच पहले भी टकराव होता रहा है, लेकिन नया बिल आने के बाद यह मामला एक बार फिर गहरा सकता है। अब सवाल उठता है कि उपराज्यपाल की शक्तियां बढ़ने से अरविंद केजरीवाल इतने बेचैन क्यों हैं?

टूट सकता है केजरीवाल का यह सपना
दरअसल, अरविंद केजरीवाल दिल्ली को पूरे देश में एक ‘मॉडल स्टेट’ के रूप में पेश करना चाहते हैं। उत्तर प्रदेश हो या पंजाब, उत्तराखंड हो या गुजरात में सूरत का नगर निगम चुनाव, आम आदमी पार्टी ने हर जगह दिल्ली को एक मॉडल स्टेट के रूप में पेश किया। पार्टी ने जनता से कहा कि अगर वह दिल्ली की तरह मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी और बेहतर शिक्षा-स्वास्थ्य सेवाएं पाना चाहते हैं तो उन्हें अपने राज्य में भी आम आदमी पार्टी को सत्ता में लाना होगा। यानी दिल्ली में किए गए कामकाज को पार्टी पूरे देश में अपना मॉडल बताकर राष्ट्रीय राजनीति में जगह पाना चाहती है। सूरत नगर निगम में सफलता पाने के बाद अरविंद केजरीवाल ने वहां की जनता को यही सपने दिखाए।

 

कांग्रेस की जगह पाने में जुटी आप
राजनीतिक विश्लेषक मानते हैं कि अरविंद केजरीवाल कांग्रेस की जगह पाने की कोशिश कर रहे हैं। वह दिल्ली में तो जनता की पहली पसंद के रूप में स्थापित हो चुके हैं। अब उनकी निगाहें उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और गुजरात में पार्टी के विस्तार पर हैं। आम आदमी पार्टी की लोकलुभावनी नीतियां जनता के बीच आकर्षण का केंद्र बन सकती हैं, जो पार्टी के दूसरे राज्यों में उभार का कारण बन सकती हैं। अगर ऐसा होता है तो भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दलों को राजनीतिक नुकसान होने का अनुमान रहेगा।
केजरीवाल ने बताया लोकतंत्र के खिलाफ
अरविंद केजरीवाल ने इस बिल को पेश करने का पुरजोर विरोध किया। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने अपनी पूरी ताकत का इस्तेमाल करके देख लिया कि उसे जनता वोट नहीं करती है तो दिल्ली की सत्ता पर काबिज होने का यह दूसरा रास्ता तैयार किया गया है। उन्होंने सवाल किया कि इस बिल के पास होने के बाद दिल्ली की सत्ता का असली मालिक उपराज्यपाल होगा। ऐसे में जनता द्वारा चुनी गई दिल्ली की सरकार क्या काम करेगी?

भाजपा ने कहा- आप की सोच गलत
अरविंद केजरीवाल के विरोध पर भाजपा ने कहा कि वह अकारण ही बिल का विरोध कर रहे हैं। देश संविधान से चलता है और पुराने कानूनों में उचित समय पर सही परिवर्तन किए जाते रहे हैं। ऐसे में कुछ शक्तियों के स्पष्ट होने से दिल्ली सरकार पर कोई असर नहीं पड़ेगा। वहीं, दिल्ली कांग्रेस ने इस बिल पर भाजपा और आम आदमी पार्टी के मिले खेल का परिणाम बताया। पार्टी अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने कहा है कि आम आदमी पार्टी इस बिल का उचित विरोध नहीं कर रही है और इससे साबित हो गया है कि दोनों पार्टियां मिल-जुलकर सत्ता का खेल खेल रही हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इस बिल का विरोध करेगी और इसके खिलाफ जंतर-मंतर पर प्रदर्शन भी करेगी।

सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया था यह फैसला
बता दें कि दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल के बीच एक विवाद की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उपराज्यपाल संवैधानिक प्रमुख हैं और उनकी भूमिका सीमित है। दिल्ली सरकार को उनसे रोज-रोज के कामकाज के बारे में अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं है। अब माना जा रहा है कि इस तरह के बिल से दिल्ली सरकार को उपराज्यपाल से बार-बार अनुमति लेने की जरूरत पड़ेगी। यह स्थिति आम आदमी पार्टी की योजनाओं को धरातल में उतारने में बाधा बन सकती है। केजरीवाल इसी स्थिति का विरोध कर रहे हैं, क्योंकि यह बिल अरविंद केजरीवाल के राजनीतिक सपनों की उड़ान सीमित करने की कोशिश कर सकता है।

 

यह भी देखे:-

Yamuna Authority की 79वीं बोर्ड बैठक सम्पन्न, जानिए क्या खास निर्णय लिए गए
वीकेंड लॉकडाउन में शादियां होंगी या नहीं? जानें सीएम योगी आदित्यनाथ ने क्या कहा
एयर इंडिया की 70 साल बाद घर वापसी, सबसे ज्यादा बोली लगाकर टाटा ग्रुप ने खरीदा: रिपोर्ट
पतंजलि ने बना ली कोरोना की दवा, बाबा रामदेव ने कोरोना की पहली आयुर्वेदिक दवा लॉन्च की
सोसाइटी में बने अवैध क्योस्क को शीघ्र हटाए बिल्डर , ग्रेनो प्राधिकरण का बिल्डरों का निर्देश --प्राधि...
AUTO EXPO 2018 : यामहा ने YZ R-15 की लांचिंग की
संसद का मानसून सत्र: सदन चल नहीं रहा...करोड़ों रुपये स्वाहा, लेकिन मिनटों में हो रहे विधेयक पास
पैरा ओलम्पियन डीएम सुहास एल वाई को ग्रेटर नोएडा प्रेस क्लब की टीम ने दी बधाई 
दरोगा पर पचास हजार रुपए मांगने का आरोप
सपा नेता विजेंद्र भाटी ने भाजपा का दामन थामा, पूर्व मंत्री नरेंद्र भाटी के भाई हैं बिजेंद्र भाटी
एनटीपीसी दादरी: प्लास्टिक के दुष्परिणाम को लेकर चलाया अभियान
दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा जल कार्यक्रम : सोलहवां “एवरीथिंग अबाउट वॉटर एक्सपो प्रदर्शनी का उद्घाटन
सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली के सीएमडी समेत तीन निदेशकों को भेजा जेल
OYO होटल पहुंचे प्रेमी प्रेमिका, विवाद के बाद, प्रेमी ने पंखे से लटक कर ली सुसाइड
महिला उन्नति सांसत का महाराष्ट्र तक विस्तार, कुo रुपाली कुराने बनी संस्था की महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक...
यूपी: तेजी से बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा, श्मशान घाटों पर अव्यवस्था का आलम, पढ़िए पूरी रिपोर्ट