Covid-19: यूरोप में तीसरी लहर, ख़तरा टला नही है, महँगी पड़ सकती है लापरवाही यहां जानें कोरोना से जुड़ी हर अपडेट

दुनिया भर में पिछले एक साल से वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का प्रकोप जारी है। महामारी की सबसे अधिक मार यूरोपीय देशों ने झेली है। कोरोना वायरस के एक साल होने के बाद यूरोप में कोरोना की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी है। एक बार फिर कोरोना संक्रमण के तेजी से फैलने के चलते यूरोप में लॉकडाउन लगाया जा सकता है। वहीं भारत में कोरोना नियंत्रण में आने के बाद एक फिर बेकाबू हो गया है। देश में एक माह में नए मरीजों की संख्या दोगुनी हो गई है। महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति बन रही है।

यूरोपीय देशों में एक बार फिर पाबंदियां बढ़ीं
यूरोपीय देश इटली, फ्रांस, जर्मनी, पोलैंड और बेल्जियम सहित यूरोप में कोरोना के नए मामले तेजी से बढ़े हैं। इन देशों में इस समय इंफेक्शन रेट उच्चतम स्तर पर है। यूरोप में पिछले सप्ताह आठ लाख नए मामले आए हैं। यह पिछले सप्ताह के मुकाबले 5.8 फीसदी ज्यादा है। इसके लिए कोरोना के नए वेरिएंट को जिम्मेदार माना जा रहा है। संक्रमण के मामले बढ़ते देख ज्यादातर देशों ने लॉकडाउन और प्रतिबंधों को बढ़ाना शुरू कर दिया है। चिकित्सकों का कहना है कि अगर कोरोना की तीसरी लहर से बचना है, तो फिर से लॉकडाउन लगाना होगा।

 

फ्रांस: हर 12वें मिनट आईसीयू में भर्ती हो रहा एक मरीज
फ्रांस में दिसंबर, 2020 में तेजी से कोरोना केस घटे थे, लेकिन जनवरी के बाद इसमें बेतहाशा वृद्धि हुई है। हालात इतने बिगड़ गए हैं कि राजधानी पेरिस में आईसीयू लगभग फुल हो गए हैं। फ्रांस के स्वास्थ्य मंत्री ओलिवियर वेरन ने कहा कि दिन और रात में हर 12वें मिनट पेरिस में एक कोरोना मरीज आईसीयू में भर्ती हो रहा है। फ्रांस के कई इलाकों में लॉकडाउन व प्रतिबंध जारी हैं। अब डॉक्टर नेशनल लॉकडाउन लगाने के लिए दबाव डाल रहे हैं।
इटली में फिर लॉकडाउन, पीएम बोलीं, पिछले बसंत की दुखद यादें ताजा
इटली में सोमवार से लगभग पूरे देश में लॉकडाउन लगा दिया गया है। सिर्फ जरूरी कामों के लिए घरों से बाहर निकलने की छूट है। पिछले सप्ताह इटली में रोजाना 25 हजार से ज्यादा केस मिल रहे थे। प्रधानमंत्री मारियो ड्रागी ने बढ़ते मामलों पर कहा कि पिछले बसंत में क्या हुआ था इसकी यादें अभी ताजा है। दोबारा उसे होने से रोकने के लिए हम हर संभव कोशिश करेंगे।

यूरोप में टीकाकरण की रफ्तार बेहद धीमी
यूरोप में कोविड टीकाकरण की रफ्तार बेहद धीमी है। यूरोप वैक्सीन की कुल 4.85 लाख डोज लगा कर अमेरिका, ब्रिटेन और चीन की तुलना में पीछे है। वहीं, दुनिया में कुल मरीजों की संख्या 12 करोड़ पार कर गई है। अभी यह आंकड़ा 12.07 करोड़ है।
भारत में पिछले साल जैसे हालात : कहीं नाइट कर्फ्यू, तो कहीं लॉकडाउन
देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्यों ने एहतियाती कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। महाराष्ट्र सरकार ने 31 मार्च तक होटल, रेस्त्रां, सिनेमा हॉल और दफ्तरों को 50 फीसदी क्षमता के साथ चलाने के आदेश दिए हैं। साथ ही शादी में अधिकतम 50 और अंतिम संस्कार में 20 लोग ही शामिल हो सकेंगे। नागपुर में भी सोमवार से 21 मार्च तक के लिए लॉकडाउन लग गया है। वहीं कई जिलों में नाइट कर्फ्यू जारी है।

पीएम मोदी कल मुख्यमंत्रियों के साथ करेंगे बैठक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काेरोना के बढ़ते मामलों पर बुधवार सुबह 11 बजे मुख्यमंत्रियों से वर्चुअल चर्चा करेंगे।

टी-20 : बिना दर्शकों के खेले जाएंगे
कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने के चलते अहमदाबाद में भारत-इंग्लैंड के शेष तीन टी-20 मैच अब बिना दर्शकों के खेले जाएंगे।

पंजाब में परीक्षाएं स्थगित
पंजाब में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ने लगा है। राज्य में सभी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्रों को बंद करने के बाद पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड ने सोमवार को 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं एक माह के लिए स्थगित कर दी है। नई डेटशीट के मुताबिक, 12वीं की परीक्षाएं 10 अप्रैल से शुरू होगी। जबकि, 10वीं कक्षा की परीक्षाएं चार मई से आयोजित होंगी।

मध्यप्रदेश : महाराष्ट्र से सटे जिलों के लिए विशेष दिशा-निर्देश
मध्यप्रदेश में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच प्रदेश सरकार ने महाराष्ट्र से लगे सीमावर्ती जिलों के प्रशासन को सलाह दी है कि वह पड़ोसी राज्य से आने वाले यात्रियों की पहचान कर उन्हें एहतियात के तौर पर एक सप्ताह के लिए पृथकवास में रखे। मालूम हो कि मध्यप्रदेश के आठ जिलों छिंदवाड़ा, बालाघाट, बैतूल, सिवनी, खंडवा, बड़वानी, खरगोन और बुरहानपुर जिले की सीमाएं महाराष्ट्र से लगी हैं। आदेश में यह भी कहा किया है कि पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य रूप से की जानी चाहिए। साथ ही दुकानों पर सामाजिक दूरी और लोगों व कर्मचारियों के लिये मास्क अनिवार्य रूप से पहनने की भी निर्देश दिए गए हैं।

 

यह भी देखे:-

भारत में नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर, बशर्ते लोग सावधान रहेेें और टीकाकरण को दें प्राथमिकता- रणदीप...
सपा छोड़ भाजपा में शामिल हुईं बेवन नागर
शारदा विश्विद्यालय में हुआ शिक्षकों का सम्मान
नए मंत्रिमंडल : अब कि वकील और इंजीनियर कि मोदी सरकार
'मस्जिद में लाउडस्पीकर से होने वाली अजान से हो रही परेशानी', बीएचयू के छात्र का ट्वीट, पुलिस ने दिया...
कैश लूट का प्रयास , एटीएम पर तैनात गार्ड को मारी गोली
एक क्लिक में जानें क्या है आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन , कैसे मिलेगा इसका फायदा
जतन सुखवीर प्रधान शिक्षा समिति ने प्रतिभा को किया सम्मानित
सरकार की सफाई: मजबूत रिपोर्टिंग व्यवस्था के चलते मौतों का आंकड़ा छिपाना असंभव
Covid : एमआईएस सिंड्रोम का शिकार हो रहे हैं पोस्ट कोविड बच्चे, जानें क्या हैं लक्षण
तेज रफ़्तार क्रेटा कार दुर्घटनाग्रस्त
दो संस्थाओं पर चार लाख रुपये का जुर्माना, ग्रेनो वेस्ट में अवैध यूनिपोल लगाने पर कार्रवाई
लखनऊ: साढ़े चार साल पहले इसी इलाके में मारा गया था आईएसआईएस का आतंकी, पीएम मोदी की रैली में ब्लास्ट ...
कोरोना की तीसरी लहर में बच्‍चों के संक्रमित होने की आशंका पर विशेषज्ञों की राय, जानें- क्या कहा
अभिनंदन की मूंछों को घोषित किया जाए 'राष्ट्रीय मूंछ' : कांग्रेस
बकाया भुगतान कर ओसी ले और खरीदारों के नाम रजिस्ट्री करे बिल्डर