जब नोटा को मिले सबसे ज्यादा वोट तो फिर से चुनाव कराना चाहिए? सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और चुनाव आयोग से पूछा

यदि किसी चुनाव में नोटा को ज्यादा वोट मिलते हैं तो क्या दोबारा चुनाव कराए जाने चाहिए? एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और चुनाव आयोग को नोटिस जारी करते हुए यह सवाल पूछा है। इस संबंध में अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय की ओर से एक जनहित याचिका दायर की गई थी, जिसमें इस तरह की मांग की गई थी। इस याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और आयोग से जवाब मांगा है। शीर्ष अदालत ने दोनों पक्षों को अगले 4 सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल करने को कहा है। उपाध्याय का प्रतिनिधित्व करते हुए सीनियर अधिवक्ता मेनका गुरुस्वामी ने कहा कि नोटा का अर्थ वोटर की ओर से उम्मीदवार को रिजेक्ट किए जाने का अधिकार होता है।

ऐसे में यदि नोटा को किसी भी उम्मीदवार से ज्यादा वोट मिलते हैं तो दोबारा चुनाव कराए जाने चाहिए। चीफ जस्टिस एस.ए. बोबडे की अध्यक्षता वाली बेंच ने याचिका की सुनवाई करते हुए मेनका गुरुस्वामी से सवाल किया, ‘समस्या यह है कि यदि किसी राजनीतिक पार्टी का वोटर्स पर अच्छा प्रभाव है और उसके कैंडिडेट्स को रिजेक्ट कर दिया जाता है तो फिर संसद ही नहीं चल पाएगी। यदि कई उम्मीदवार रिजेक्ट कर दिए जाते हैं तो फिर वे निर्वाचन क्षेत्र खाली रह जाएंगे। फिर आप कैसे संसद का संचालन कर पाएंगे?’ इस पर अधिवक्ता मेनका ने कहा, ‘इस संबंध में चुनाव आयोग की ओर से भी कहा गया है कि यदि कहीं NOTA के ज्यादा वोट रहते हैं तो फिर दोबारा चुनाव कराए जाएंगे।’

गुरुस्वामी ने कहा कि अभी कोई स्पष्टता नहीं है। यदि 99 फीसदी वोट नोटा को मिलते हैं और एक फीसदी वोट किसी कैंडिडेट को मिलते हैं तो उसे विजेता घोषित कर दिया जाता है। राइट टू रिजेक्ट से राजनीतिक दलों को थोड़ा डर होना चाहिए कि वह अपनी तरफ से सही और साफ छवि वाले उम्मीदवारों का चयन करें, लेकिन फिलहाल ऐसा नहीं है। शुरुआत में इस याचिका पर सुनवाई के लिए बेंच तैयार नहीं थी, लेकिन अंत में अर्जी पर कोर्ट ने केंद्र सरकार और आयोग से इस संबंध में जवाब मांगा है।

याचिका में मांग की गई थी कि चुनाव आयोग को आर्टिकल 324 के तहत अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए नोटा का वोट सबसे ज्यादा होने पर चुनाव को कैंसल करना चाहिए और नए इलेक्शन कराने चाहिए। इसके अलावा अर्जी में यह मांग की गई कि जो लोग चुनाव में उतरे थे, उन्हें दोबारा चुनाव के दौरान मैदान में उतरने का मौका नहीं देना चाहिए।

यह भी देखे:-

शारदा विश्वविद्यालय में कम्प्यूटिंग, संचार और इंटेलिजेंट सिस्टम पर इंटरनैशनल सेमिनार का आयोजन
दीपावली: रामलला के दरबार पहुंचे मुख्यमंत्री योगी, अयोध्या पहुंचकर सीएम ने दी दिवाली की बधाई
कोरोना के खिलाफ जंग: 15 अगस्त तक पूरे देश को वैक्सीनेट करने की तैयारी, घर-घर टीकाकरण के लिए केंद्र न...
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल
सोनिया गांधी ने बुलाई AICC की बैठक, देश के राजनीतिक हालात पर चर्चा संभव
घर में घुसकर मोबाईल चोरी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, तीन शातिर गिरफ्तार
सोसायटियों के इनर्ट वेस्ट और गांव व सेक्टरों का कूड़ा उठाने का इंतजाम जल्द
अपनी बालकनी या छत पर स्मार्ट किचन गार्डन लगाएं
समसारा विद्यालय Excellence in Education अवार्ड से सम्मानित
HUMAN TOUCH FOUNDATION द्वारा गर्म कपड़ों का वितरण
India China Tension : चीन के साथ 12वें दौर की कोर कमांडर स्तर की बातचीत कल
मोदी-कमला हैरिस की मुलाकात: अमेरिकी उपराष्ट्रपति ने पाक को माना आतंकियों का ठिकाना
विद्वानों की मूर्खता पर गूंजी तालियां
MLC शिक्षक चुनाव में श्रीचंद शर्मा ने दर्ज किया शानदार जीत
महाराष्ट्र: वसूली मामले में बड़ा एक्शन, CBI ने अनिल देशमुख के खिलाफ दर्ज की FIR, कई जगहों पर छापेमार...
जीएल बजाज में ग्लोबल टाॅक सीरीज के अन्तर्गत ‘‘मैनेजमेण्ट आॅफ टेक्नालाॅजी, इन्नोवेशन एण्ड चेन्ज’’ विष...