महाशिवरात्रि को बन रहा है दुर्लभ योग, जानिए शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म में महाशिवरात्रि व्रत का विशेष महत्व होता है। दक्षिण भारतीय पंचांग के अनुसार, माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि मनाई जाती है। इस दिन शिव भक्त मंदिरों में शिवलिंग की पूजा, व्रत और रात्रि जागरण करते हैं। मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की विधि-विधान से पूजा करने वालों के सभी दु:ख दूर हो जाते हैं। इस वर्ष महाशिवरात्रि 11 मार्च 2021, गुरुवार को है।

महाशिवरात्रि व्रत शुभ मुहूर्त-

निशीथ काल पूजा मुहूर्त – रात्रि 12:06:41 से रात्रि 12:55:14 तक।
अवधि :0 घंटे 48 मिनट।
महाशिवरात्रि पारणा मुहूर्त – सुबह 06:36:06 से दोपहर 15:04:32 तक।

महाशिवरात्रि व्रत पूजा विधि-

मिट्टी या तांबे के लोटे में पानी या दूध भरकर ऊपर से बेलपत्र, आक-धतूरे के फूल, चावल आदि जालकर शिवलिंग पर चढ़ाना चाहिए।

महाशिवरात्रि के दिन शिवपुराण का पाठ और महामृत्युंजय मंत्र या शिव के पंचाक्षर मंत्र ॐ नमः शिवाय का जाप करना चाहिए। साथ ही महाशिवरात्रि के दिन रात्रि जागरण का भी विधान है।

शास्त्रों के अनुसार, महाशिवरात्रि का पूजा निशिथ काल में करना उत्तम माना गया है। हालांकि भक्त अपनी सुविधानुसार भी भगवान शिव की पूजा कर सकते हैं।

चार पहर की पूजा विशेष महत्व

महाशिवरात्रि पर विधि विधान के साथ शिव पूजन करने वाले श्रद्धालुओं के सभी मनोरथ पूरे होते हैं। महाशिवरात्रि पर चार पहर की पूजा का विशेष महत्व है। माना जाता है कि सृष्टि के प्रारम्भ में इसी दिन मध्य रात्रि भगवान शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था।

महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा मुख्य रूप से की जाती है। लेकिन इस दिन भगवान शिव की पूजा चारो पहर करने से जीवन के सभी प्रकार के सुखों की प्राप्ति होने के बाद अंत में भगवान शिव की चरणो में स्थान प्राप्त होता है।

महाशिवरात्रि पर किसी भी समय भगवान शिव की पूजा की जा सकती है। लेकिन इस दिन भगवान शिव की चार पहर की पूजा को अधिक महत्व दिया गया है। शास्त्रों के अनुसार महाशिवरात्रि का हर क्षण शिव कृपा से भरा हुआ होता है। लेकिन इस दिन मध्य रात्रि में की गई पूजा विशेष लाभ देती है।वहीं इस दिन चार पहर की पूजा को भी अत्याधिक विशेष माना जाता है। यह चार पहर संध्या काल से शुरू होकर दूसरे दिन ब्रह्म मुहूर्त में जाकर समाप्त होते हैं। महाशिवरात्रि की इस पूजा में रात्रि का संपूर्ण उपयोग किया जाता है। जिससे भगवान शिव की पूर्ण कृपा प्राप्त हो सके। भगवान शिव की चारो पहर की पूजा मुख्यत: जीवन के चारो अंगों को नियंत्रित करती है। यह जीवन के चार अंग हैं धर्म, काम, अर्थ और मोक्ष। जो भगवान शिव की पूजा से साधे जा सकते हैं।

महाशिवरात्रि के दिन हर पहर की पूजा का एक विशेष विधान होता है। जिसका पालन करने से आप विशेष लाभ की प्राप्ति कर सकते हैं। महाशिवरात्रि के पहले पहर की पूजा शाम के समय में की जाती है। यह पूजा प्रदोष काल में सूर्यास्त के बाद की जाती है। यह समय शाम 6 बजे 46 मिनट से रात 9 बजे के बीच का होता है। महाशिवरात्रि पर इस पहर की पूजा से ही सभी प्रकार के दोषों का नाश हो जाता है और आपको इसका विशेष लाभ प्राप्त होता है।

है

दूसरे पहर की पूजा

यदि आप पहले पहर की पूजा करते हैं तो आपका धर्म मजबूत होता है। महाशिवरात्रि के दिन दूसरे पहर की पूजा रात में की जाती है। यह पूजा रात 9 बजकर 47 मिनट से रात्रि 12 बजकर 48 मिनट के बीच में की जाती है। इस पूजा में भगवान शिव को दही अर्पित किया जाता है। इसके बाद भगवान शिव का फिर से अभिषेक किया जाता है। इस पहर की पूजा में भगवान शिव के मंत्रों का जाप अवश्य करना चाहिए। दूसरे पहर की पूजा करने से धन और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

तीसरे पहर की पूजा

महाशिवरात्रि पर तीसरे पहर की पूजा मध्य रात्रि में की जाती है। इस पूजा को करने का समय रात्रि 12 बजकर 48 मिनट से सुबह 3 बजकर 49 मिनट तक का होता है। इस पहर में भगवान शिव की स्तुति करना अत्यंत ही शुभ माना जाता है। इस पूजा से हर प्रकार की मनोकामना की पूर्ति होती है।

 

चौथे पहर की पूजा

महाशिवरात्रि की चौथे पहर की पूजा ब्रह्ममुहूर्त में की जाती है। यह पूजा सुबह के 3 बजे से सूर्योदय तक की जाती है। इस पूजा से सभी प्रकार के नष्ट होते हैं और मोक्ष की प्राप्ति होती है।* ☀ ।।जय माता दी ।।☀
।। ऊँ सर्वस्वरुपे सर्वेसे सर्व शक्ति समन्विते भवभ्यस्त्रहि नो देवी दुर्गेदेवी नमोस्तुते ।। 🏢 कार्यालय  जगदम्बा ज्योतिष केन्द्र  पं.मूर्तिराम,आनन्द बर्द्धन नौटियाल ज्योतिषाचार्य  (देबी,नृसिंह उपासक गंगौत्रीधाम)  जन्मपत्री, वर्षफल, हस्तरेखा, वास्तुशास्त्र, नवग्रह रत्न, दुर्गापाठ,नवग्रहपाठ,महामृत्युंज्जंयपाठ,रुदाभिषेक,रामायण पाठ,भागवत कथा,सन्तान गोपालपाठ,कालसर्प दोष निवारण,गृह प्रवेश,सत्यनारायण कथा,जाप,पूजा,पाठ,कर्म काण्ड हेत्तु अवश्य सम्पर्क करें जी ।  पता – मकान नम्बर -C 38,प्रथ्म तल,ओमिक्रोन-3,EWS फ्लैट,ग्रेटर नोएडा,गौतम बुद्ध नगर,उत्तर प्रदेश ☎ +9193 10 110 914  www.jagdambajyotish. in आप कार्यालय में आकर ज्योतिष परामर्श ले सकतें हैं जी समय प्रात: 9 से 1 बजे दिन एवं 4 से 7 बजे शांय तक,मिल सकतें हैं।कृपया आने से पहले अपना समय अवश्य निर्धारित कर लें जी।  आप से विन्रम निवेदन है की आप हमारे पेज को अवश्य Like @ Share अवश्य करें जी

यह भी देखे:-

संपत्ति उत्तराधिकार के नियम सबके लिए समान क्यों नहीं, SC का केंद्र को नोटिस
पेड़ से लटकी मिली लाश, जांच में जुटी पुलिस
बंगाल: पीएम मोदी का ममता पर हमला, बोले- टीएमसी का फूल जनता के लिए शूल, रक्त का खेला नहीं चलेगा
UP Board Exam Datasheet 2021: 8 मई से शुरू हो सकती बोर्ड परीक्षा, CM योगी की सहमति पर जारी होगी नई ड...
समाज सेवा का जज्बा : वाराणसी में कोविड पीड़ितों के घर-घर पहुंची निशुल्क भोजन की थाली
कार्यकाल के आखिरी दिन जस्टिस बोबडे ने केंद्र को फटकारा, कहा- ऑक्सीजन की कमी से मर रहे लोग
सीएम योगी कल आएंगे वाराणसी, कोरोना संक्रमण रोकने की तैयारियों की करेंगे समीक्षा
सोलर पैनल बनाने वाली कंपनी में आग लगी
अपने जन्मदिन के दिन यूपी के पूर्व सीएम एन.डी. तिवारी ने ली अन्तिम सांस, यूपी में शोक की घोषणा
Jewar Mla धीरेन्द्र सिंह ने क्षेत्र को दिया New Year का नायब तोहफा, पढ़ें पूरी खबर
बुजुर्गों ने दिखाया उत्साह, 4085 को लगी वैक्सीन
बिहार : कल से ये आठ स्पेशल ट्रेनों के परिचालन पर ब्रेक, रेलवे ने बताई ये है मुख्य वजह
दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर अगले महीने से लगेगा टोल, एनएचएआई ने मंत्रालय को भेजा प्रस्ताव 
LOCK DOWN का पालन कराने के लिए मुस्तैद गौतमबुद्ध नगर की पुलिस, उलंघन करने वाले 54 गिफ्तार
बिजली बिल में गौतमबुद्धनगर के निवासियों को राहत दे सरकार : एक्टिव सिटिज़न टीम , सीम योगी को भेजा ज्ञा...
भव्य कलश यात्रा के साथ श्रीराम कथा का शुभारंभ