Farmers protest: ब्रिटेन ने कहा- कृषि कानून विरोधी प्रदर्शन भारत का आंतरिक मामला

 नई दिल्ली। दो दिन बाद ब्रिटिश संसद में भले ही भारत में चल रहे कृषि कानून विरोधी आंदोलन पर परिचर्चा के आयोजन की तैयारी हो, लेकिन ब्रिटेन सरकार का मत स्पष्ट है कि यह आंदोलन भारत का आंतरिक मामला है। परिचर्चा में जब ब्रिटिश सरकार की तरफ से जवाब दिया जाएगा तो भारत सरकार को असहज करने वाली टिप्पणियों से बचा जाएगा। इसकी एक वजह यह भी है कि ब्रिटेन अगले कई दशकों तक भारत को अपने अहम रणनीतिक साझीदार तौर पर देख रहा है और वह ऐसा कोई कदम नहीं उठाएगा जिससे द्विपक्षीय रिश्तों पर कोई विपरीत असर हो।

उच्चायुक्त एलिस ने कहा- ब्रिटिश संसद में कृषि कानून विरोधी आंदोलन पर परिचर्चा 

भारत में ब्रिटेन के उच्चायुक्त एलेक्स एलिस का कहना है कि ब्रिटिश संसद में भारत के संदर्भ में अब पहले के मुकाबले ज्यादा चर्चाएं होने लगी हैं और संभवत: आगे भी चर्चाएं होती रहेंगी। इसके पीछे दो वजहें हैं। एक तो ब्रिटेन में भारतीय मूल के लोगों की संख्या तेजी से बढ़ी है और दूसरा अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी भारत तेजी से उभरा है। भारत में जो कुछ भी होता है उसको लेकर ब्रिटेन में प्रतिक्रिया होती है। यह बात ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने भारत दौरे के दौरान भी कही थी।

उन्होंने स्पष्ट कहा कि कृषि कानून विरोधी आंदोलन भारत का आंतरिक मामला है और इसे भारत को ही सुलझाना है। जहां तक ब्रिटिश संसद में इस पर चर्चा का सवाल है तो यह एक प्रक्रिया के तहत होगी, ब्रिटिश सरकार उसमें हिस्सा लेगी और जवाब देगी।

ब्रिटिश संसद में सोमवार को भारत में कृषि कानून विरोधी आंदोलन पर 90 मिनट की होगी चर्चा 

बताते चलें कि ब्रिटिश संसद में सोमवार को भारत में कृषि कानून विरोधी आंदोलन पर 90 मिनट की चर्चा होगी। ब्रिटेन में किसी मुद्दे के समर्थन में एक लाख लोगों की तरफ से आवेदन आ जाएं तो वहां की संसद में उस पर चर्चा करवानी होती है।

कृषि कानून विरोधी मामला ब्रिटिश संसद मेंं उठने को लेकर भारत चिंतित

भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से वैसे यह मुद्दा ब्रिटिश सरकार के समक्ष उठाया गया है। पिछले दिनों दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच टेलीफोन वार्ता में भारत की तरफ से इस बारे में अपनी चिंताओं से अवगत कराया गया था। भारत को ब्रिटिश सरकार की मंशा पर कोई संदेह नहीं है, लेकिन वह अकारण अपने आंतरिक मामलों के विदेशी संसद में उठने को लेकर सहज नहीं है।

लंदन में भारत विरोधी रैलियों के आयोजन से भी भारत चिंतित

भारत को यह भी चिंता है कि इस चर्चा की आड़ में भारत विरोधी और खालिस्तान समर्थकों को भारतीय व्यवस्था पर सवाल उठाने का मौका मिलेगा। भारत और ब्रिटेन के बीच संबंधों के लगातार मजबूत होने के बावजूद जिस तरह लंदन में भारत विरोधी रैलियों का आयोजन किया गया है उससे भी भारत चिंतित है।

ब्रिटिश पीएम जानसन जल्द ही भारत आएंगे, समूह-7 देशों की बैठक के लिए मोदी को करेंगे आमंत्रित 

एलिस ने ब्रिटेन के रणनीतिक हित के संदर्भ में भारत की बढ़ती भूमिका को भी विस्तार से रखा। उन्होंने कहा कि ब्रिटिश सरकार बहुत जल्द ब्रिटेन की राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर एक प्रपत्र जारी करने वाली है। इसमें भारत की भूमिका की भी चर्चा होगी। ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जानसन जल्द से जल्द भारत यात्रा पर आना चाहते हैं। इस यात्रा के दौरान वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ब्रिटेन में आयोजित होने वाली समूह-7 देशों की बैठक में भी आमंत्रित करेंगे।

यह भी देखे:-

गौतम बुध नगर में चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, जानिए क्या रहा मतदान प्रतिशत
क्या एकतरफा प्यार में हुई अंजलि राठौर की हत्या ! , नामजद मुकदमा दर्ज
मेट्रो में बढ़ने वाले हैं कोच : मिलेगा अधिक यात्रियों को सफर का मौका
अब आप भी खोल सकते हैं सीएनजी स्‍टेशन, जानिए नई गाइडलाइन
रायन बना अंगूरी देवी मेमोरियल क्रिकेट टूर्नामेन्ट अंडर-12 व 19 का विजेता
गौतम बुद्ध नगर कोरोना अपडेट : जानिए आज किन ईलाकों से कोरोना के मरीज मिले
ग्रेटर नोएडा: डीसीपी  कोरोना वायरस से हुए संक्रमित
देखें LIVE, स्पेशल आर्थिक पैकेज पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की प्रेस कांफ्रेंस
सम्मति वेल्बीइंग सेन्टर, ग्रेटर नॉएडा को सीजीएचएस की मान्यता
PM की अपील का गहरा असर, विन-पोर्टल पर 50 लाख से अधिक लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन
उत्तर प्रदेश के इन शहरों में 50 फ़ीसदी लोगों के लिए वर्क फ्रॉम  होम लागू
राज्य मंत्री महेश चन्द्र गुप्ता ने किया जिम्स संस्थान का निरीक्षण, किया अमृत फार्मेसी का लोकार्पण
दिल्ली एनसीआर में धरती कांपने से थर्राए लोग
गलगोटिया के छात्र ने अनुभव STUDENT बनाया "निर्भया सुरक्षा कवच, ऐसे करेगा महिलाओं की सुरक्षा, पढ़ें पू...
कोरोना अपडेट : गौतमबुद्ध नगर में कोरोना का कहर, आज भी आये मरीज , तीन इलाके सील
रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेटर नोएडा ने लगाया वाटर कूलर