भारत की पहली विश्व स्तरीय रोबोटिक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट का उदघाटन, मेक इन इंडिया मेक फार वर्ड के तर्ज पर काम करेगी।

नोएडा के सेक्टर-156 में एडवर्ब टेक्नोलॉजी ने भारत की पहली विश्व स्तरीय रोबोटिक मैन्युफैक्चरिंग सुविधाएं उपलब्ध कराई है।‘वोट वैली’ नाम की रोबोटिक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट का उदघाटन नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत, एडवर्ब कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर जलाज दानी, और नोएडा प्राधिकरण कि सीईओ ऋतु माहेश्वरी ने दीप प्रज्वलित करके किया। इस अवसर पर अमिताभ कांत ने कहा कि यह इंडिया की सबसे बड़ी रोबोटिक फ़ैक्टरी है जो विश्व के मानकों को पूरा करती है यहां पर रोबोट का उत्पादन किया जाएगा इसके अलावा रिसर्च और डवलपमेंट का भी काम किया जाएगा जो कि प्रधानमंत्री के मेक इन इंडिया के सपनों को साकार करती है।

पहियों पर तेजी से दौड़ रहे ये खूबसूरत रोबोट अपना काम बिना किसी बाधा के कर रहे है। यह रोबोट वह काम करने के लिए बने हैं जो इंसान नहीं कर सकते हैं। जैसे इंसान 50 किलो 60 किलो भार उठाने के लिए नहीं बने हैं। लेकिन यह रोबोट यह भार बड़ी आसानी से उठा लेते हैं और वहां पर रख कर आ सकते हैं। जहां पर सामान को रखना है। यह रोबट ए-कामर्स कंपनी वेयर हाउस, अस्पताल और एयरपोर्ट पर उपयोगी सिद्ध होगे है। आज उदघाटन के बाद इनका इस्तेमाल किया जा सकेगा। नोएडा के ‘वोट वैली’ जो सुविधाएँ उपलब्ध कराई गई हैं वह विश्व स्तर की हैं और यहां पर रोबोट के सभी प्रकार के उपकरण बनाए जा रहे हैं। यह रोबोट मेक इन इंडिया मेक फार वर्ड के रूप में कार्य करेगा।

 

इन रोबोटों में सबसे इंपोर्टेंट सॉफ्टवेयर नेवीगेशन होता है। जैसे एक इंसान अपनी इंद्रियों और दिमाग का इस्तेमाल कर कोई काम कर सकता है उसी प्रकार यह रोबोट इनमें लगे सेंसर से चीजों का आकलन करते हैं और जो टास्क दिया जाता है उसे वह पूरा करते हैं। दूसरा जो सॉफ्टवेयर इस्तेमाल किया जा रहा है वह थिंक मैनेजमेंट। यह सॉफ्टवेयर एक साथ काम कर रहे बहुत सारे रोबोट आपस में मैनेज करता है इससे यह रोबोट बिना किसी से टकराए हुए अपना कार्य करते हैं। कोविड-19 जैसी महामारी के दौरान इन रोबोट का इस्तेमाल सैनिटाइजेशन के लिए भी किया जा सकता है।

 

रोबोट के निर्माण के विश्व बाजार पर कई देशो, मे विशेष कर चाइना ने इस पर कब्जा किया हुआ है। नोएडा में रोबोटिक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट की जो फ़ैक्टरी यहां पर लगाई गई है। वह अत्याधुनिक है नोएडा के हाईटेक एरिया के अनुरूप यह फ़ैक्टरी लगाने का सबसे उचित स्थान है। यहां पर 400 से 500 इंजीनियर को रोज़गार मिलेगा । अस्पताल वेयर हाउस एयरपोर्ट और इंफ्रास्ट्रक्चर के डवलपमेंट में इन रोबोट की आने वाले दिनों में अहम भूमिका होने वाली है।

यह भी देखे:-

किसान एकता संघ ने काले कानून रद्द करने को राष्ट्रपति को सौंपा ज्ञापन
बिसहड़ा गाँव में विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन 
सड़क सुरक्षा को लेकर डीजीपी और परिवहन प्रमुख सचिव ने की बैठक
दिल्ली : गाजीपुर बॉर्डर पर भाकियू की बड़ी बैठक आज
श्री रामलीला सेवा ट्रस्ट रामलीला, गौर सिटी में निकली राम बरात, सोसाइटी वासियों ने किया स्वागत
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल
प्राधिकरण के मुख्य कार्यालय में मॉडल क्रेच की से शुरुआत, सीईओ ने किया लोकार्पण -औद्योगिक क्षेत्रों म...
आर्थिक अपराधों की जांच के लिए एसएसपी नोएडा ने किया विशेष शाखा का गठन
बीमार सफाई कर्मियों के इलाज की मांग
हिंदू गौ माता रक्षा दल (सैनी) ने बचाई नंदी की जान
AICTE का बड़ा फैसला, इंजीनियरिंग में अब मिलेगी बीटेक ऑनर्स या बीई ऑनर्स डिग्री
भारतीय समुदाय का दबदबा: बाइडन ने वैज्ञानिक स्वाति से कहा- आप छाए हुए हैं
रेडियो मिर्ची के जरिये एनसीआर में गूंजा एक्टिव सिटिज़न टीम का बेहतरीन कार्य
COVID 19: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन
गौतमबुद्ध नगर: जिले में चला ऑपरेशन क्लीन 4
महिला पुलिसकर्मी ने वकील पर लगाया रेप का आरोप , पुलिस ने शुरू की जांच