पेट्रोल-डीज़ल जल्द हो सकता है सस्ता, वित्त मंत्रालय एक्साइज़ ड्यूटी कम करने पर विचार कर रहा: रिपोर्ट

नई दिल्ली. पेट्रोल-डीज़ल की बढ़ती कीमतों के बीच अब वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) एक्साइज़ ड्यूटी कम करने के विकल्प पर विचार कर रहा है. इससे आम आदमी को आसमान छूती कीमतों से फौरी राहत मिल सकेगी. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने अपनी एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से यह जानकारी दी है. पिछले 10 महीनों के दौरान कच्चे तेल (Crude Oil) के भाव में दोगुनी बढ़त ने भारत में ईंधन के दाम में इजाफा कर दिया है, लेकिन, पेट्रोल-डीज़ल के खुदरा दाम पर आम

जनता को करीब 60 फीसदी तक टैक्स व ड्यूटीज़ चुकानी पड़ रही है. कोरोन वायरस महामारी ने भी आर्थिक गतिविधियों को बुरी तरह प्रभावित किया है. भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल आयतक देश है. पिछले 12 महीने में मोदी सरकार ने पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स में दो बार बढ़ोतरी की है. इस प्रकार जब अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव न्यूनतम रिकॉर्ड स्तर पर था, तब भी आम जनता को पेट्रोल-डीज़ल के मोर्चे पर बड़ी राहत नहीं मिल सकी.

मार्च के मध्य तक हो सकता है फैसला
लेकिन वित्त मंत्रालय अब विभिन्न राज्यों, तेल कंपनियों और तेल मंत्रालय के साथ मिलकर टैक्स कम करने के रास्ते पर विचार कर रहा है. सूत्रों का कहना है कि केंद्र को यह भी देखना है कि टैक्स कम करने से उसके फाइनेंस पर कोई बुरा असर न पड़े. एक सूत्र ने बताया, ‘हम इस बात पर चर्चा कर रहे हैं कि कैसे कीमतों को स्थिर रखा जाए. मार्च महीने के मध्य तक इस पर कोई फैसला ले सकेंगे.’

नाम ने ज़ाहिर करने की शर्त पर एक सूत्र ने कहा कि सरकार चाहती है कि टैक्स कटौती से पहले तेल का भाव स्थिर हो. केंद्र एक बार फिर टैक्स स्ट्रक्चर में कोई बड़ा बदलाव नहीं करना चाहती है. इस बीच अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल का भाव लगातार बढ़ रहा है.

कुछ राज्यों ने की है टैक्स कटौती
हाल ही में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था, ‘मैं नहीं कह सकती कि आख़िर कब तक ईंधन पर टैक्स कम होंगे, लेकिन केंद्र और राज्यों को एक साथ मिलकर ईंधन पर टैक्स को कम करना होगा.’ हालांकि, बढ़ती कीमतों के बीच कुछ राज्यों ने अपने स्तर पर पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स को कम भी किया है.

OPEC+ की बैठक से उम्मीद
एक सूत्र ने यह भी बताया कि ईंधन पर टैक्स को लकर फैसला OPEC और अन्य तेल उत्पादक देशों के बीच बैठक के बाद ही होगा. इसी सप्ताह में यह बैठक होनी है. सूत्र ने कहा, ‘इस बात की उम्मीद है कि OPEC+ तेल आउटपुट बढ़ाने की दिशा में कोई फैसला लेगा. हमें उम्मीद है कि उनके इस फैसले के बाद कीमतों में स्थिरता देखने को मिलेगी.’

भारत ने ओपेक प्लस देशों से अपील की है कि वो तेल उत्पादन बढ़ाएं. दरअसल, ईंधन के बढ़ते दाम की वजह से एशिया की इस तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में महंगाई भी बढ़ रही है.

ईंधन पर टैक्स से सरकारों की कितनी कमाई हुई?
बता दें कि पेट्रोलियम सेक्टर से केंद्र और राज्य सरकार की झोली में करीब 5.56 लाख करोड़ रुपये आए हैं. यह 31 मार्च 2020 को ख्त्म हुए वित्तीय वर्ष के आंकड़े हैं. चालू वित्त वर्ष के पहले 9 महीने यानी अप्रैल से दिसंबर 2020 के दौरान इस सेक्टर से 4.21 लाख रुपये केंद्र और राज्यों के खज़ाने में आए हैं. 4.21 लाख करोड़ रुपये की यह रकम तब है, जब कोविड-19 की वजह से ईंधन की मांग न्यूनतम रिकॉर्ड स्तर तक पहुंच गई थी.

यह भी देखे:-

इंडिया एक्सपो मार्ट एंड सेंटर सर्वश्रेष्ठ MICE स्थल और राकेश कुमार वर्ष 2018 के सर्वश्रेष्ठ MICE पर...
गौतमबुद्धनगर में 1 से 7 जुलाई तक मनाया जायेगा वन महोत्सव, लगभग साढ़े चार लाख वृक्ष होगें रोपित- डीए...
चिंताजनक: गाजियाबाद दुनिया का दूसरा सबसे प्रदूषित शहर, दिल्ली सबसे प्रदूषित राजधानी
वाराणसी एयरपोर्ट में कोरोना: विस्तारा एयरलाइंस के चार कर्मचारी पॉजिटिव, जिले में 3000 से ज्यादा एक्ट...
दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश, पब्लिक प्लेस है कार, अकेले हों तब भी मास्क पहनना जरूरी
दिग्गज लेखक-निर्देशक सागर सरहदी का निधन, 87 साल की उम्र में ली अंतिम सांस
Prince Philip नहीं रहे: ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के पति का निधन, शोक में डूबा ब्रिटेन
अतिक्रमण को लेकर जगत फ़ार्म व्यापार मंडल समिति गंभीर,  व्यापारियों से की बातचीत 
दहेज उत्पीड़न और घरेलू कलह से परेशान एसजीएसटी विभाग के असिस्टेंट कमिश्नर कि पत्नी ने जहर खाया, मौत
विजन हेल्थ एंड एजुकेशन फाउंडेशन द्वारा लगाया जाएगा नि:शुल्क स्वास्थ्य जांच शिविर - डॉ. अजय कुमार
अब नॉन कोविड अस्पतालों में भी भर्ती होंगे संक्रमित
मुख्यमंत्री योगी ने अपने जन्मदिन के उपलक्ष्य में जेवर विधानसभा को दिया एक नायाब तोहफा
नो स्कूल नो फीस जब स्कूल गए ही नहीं तो फीस किस लिए : रविन्द्र भाटी
रूस से रक्षा सौदे के बावजूद अमेरिका मेहरबान, कहा- 'भारत से महत्वपूर्ण कोई और देश नहीं', बताई ये वजह
जानिए, ग्रेटर नोएडा की 116 वीं बोर्ड बैठक में लिए गए निर्णय
यूपी रोडवेज बसों के एमएसटी घोटाले में छह अफसर फंसे, दर्ज होगी एफआईआर