काशी की बेटियों ने बनाया ग्लेशियर अलर्ट सिस्टम, जानें क्या है पूरी ख़बर

वाराणसी: यह छात्राएं बनारस के अशोका इंस्टीट्यूट की बीटेक इलेक्ट्रॉनिक प्रथम वर्ष की है. इन छात्राओं ने इस ग्लेशियर अलर्ट सिस्टम को महज 10 दिनों में ही बनाकर तैयार किया है.बीटेक इलेक्ट्रॉनिक प्रथम वर्ष की छात्राएं अन्नू सिंह आंचल पटेल और संजीवनी यादव ने ऐसा सेंसर युक्त ग्लेशियर एंड सिस्टम तैयार किया है जिसमें ट्रांसमीटर अलर्ट सेंसर पर आधारित एक अलार्म है, जिसको ग्लेशियर, डैम और दुर्गम इलाके के आसपास बसे गांवों और शहरों की सुरक्षा हेतु उपयोग किया जा सकता है. इस ग्लेशियर अलर्ट सिस्टम को बनाने वाली छात्राएं अन्नू सिंह आंचल पटेल और संजीवनी यादव बताती हैं कि पहाड़ों पर बाढ़, हिमस्खलन, ग्लेशियर स्लाइड व अन्य कई आपदाओं के आने से कुछ देर पहले ही यह सेंसर युक्त अलर्ट सिस्टम संकेत देने लगता है.

इन छात्राओं ने बताया कि इससे 1 सेकंड में 1 किलोमीटर की रेंज में अलार्म के द्वारा सूचना पहुंच जाती है, जिससे शासन-प्रशासन समय रहते संकट से निपट सकता है. इन छात्राओं ने बताया कि इस मशीन को बिजली की भी जरूरत नहीं होती है क्योंकि यह सोलर ऊर्जा से चलता है. वही इसे 1 घंटे तक चार्ज कर दिया जाए तो यह तकरीबन 6 माह तक लगातार कार्य करता है. अशोका इंस्टीट्यूट संस्थान के रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेल के इंचार्ज श्याम चौरसिया ने बताया कि इससे उत्तराखंड जैसे राज्यों में आ रहे भीषण हादसा और अपनी जान गवा रहे हजारों लोगों को बचाया जा सकता है. इसे बनाने में लोहे की पाइप, सोलर प्लेट, बोल्ट, ट्रिगर, स्विच, रिले, 12 वोल्ट बैटरी, हाई रेडियो फ्रीक्वेंसी, सिग्नल किट, कार रेड लाइट और ऊपर का प्रयोग किया गया है.

 

उन्होंने बताया कि इस ग्लेशियर सिस्टम को तैयार करने में ₹7000 का खर्च आया है. इस ग्लेशियर अलर्ट सेंसर युक्त मशीन को बनाने वाली छात्राएं बताती है कि हाल ही में उत्तराखंड में आई आपदा ने सभी के दिलों को झकझोर कर रख दिया था. इस हादसे ने हमारे दिलों को भी काफी प्रभावित किया. इसी हादसे की वजह से हमारे जेहन में इस तरह के सेंसर अलर्ट मशीन बनाने विचार आया था. इन छात्राओं ने बताया कि आपदा से पूर्व लोगों तक संकेत पहुंचाने की तकनीक पर काम किया. प्रोटोटाइप सिस्टम तैयार कर उसका बाकायदा कई जगह ट्रायल किया गया है.बताया कि अगर पहाड़ों पर इसे स्थापित किया जाए तो अचानक होने वाले प्राकृतिक हादसों से लोगों की जिंदगी बचाई जा सकती है.

यह भी देखे:-

राकेश कुमार लगातार तीसरी बार इंडिया एक्स्पो मार्ट (आईईएमएल) के चेयरमैन चुने गए
सोशल मीडिया कानून: फेक न्यूज़ और अफवाह फैलाने पे होगी जेल, होगी कानूनी कार्रवाई
गौतमबुद्ध नगर : 12 पुलिस चौकी प्रभारी लाइन हाज़िर
CORONA UPDATE : गौतमबुद्ध नगर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में उछाल, अब तक 90 मरीज स्वस्थ हुए
सैमसंग मोबाइल यूनिट का उद्घाटन करने मेट्रो से पहुंचे पीएम मोदी-मून जे इन
RBI Grade B Result: आरबीआई ग्रेड बी फेज 1 की मार्कशीट और कटऑफ अंक जारी, ऐसे करें चेक
केरल के मुख्यमंत्री बन सकते है मेट्रोमैन श्रीधरन, बोले- इन्फ्रा विकास पर होगा जोर
देखें VIDEO, UP CM योगी आदित्यनाथ का ग्रेटर नोएडा- नोएडा की जनता को शानदार तोहफा
कांपी धरती, हिल गया दिल्ली-एनसीआर
बुखार, सांस फूलना और सीने में दर्द...ममता की जांच में इन जगहों पर मिलीं गंभीर चोटें, डॉक्टरों ने बता...
वाराणसी में कोरोना टीके का संकट, कई केंद्रों पर समय से पहले खत्म हो गई वैक्सीन
PPF व अन्य पोस्ट ऑफिस योजनाओं से निकासी पर कटेगा 5 फीसद तक TDS, जानिए क्या हैं नए नियम
School-College Closed: दिल्ली, यूपी, बिहार, महाराष्ट्र समेत इन राज्यों में स्कूल-कॉलेज बंद, जानें कब...
यूपी में आईएएस व पीसीएस ऑफिसर के तबादले, देखें
ग्रेटर नोएडा : शाहबेरी में गिराई जाएंगी 21 अवैध बिल्डिंग
गुर्जर समाज ने राम मंदिर ट्रस्ट में प्रतिनिधित्व की मांग की