पेट्रोल के बाद अब दूध की बारी, 1 मार्च से 100 रुपये लीटर बिकेगा दूध, जानिये- क्या है सच्चाई

नई दिल्ली । Milk Price Hike Trends: पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस सिलेंडर के दामों में बढ़ोतरी के बाद क्या आगामी 1 मार्च से दूध 100 रुपये प्रति लीटर बिकेगा? शनिवार सुबह से ट्विटर पर 1 मार्च से 100 रुपये प्रति लीटर दूध बिकने की बात ट्रेंड कर रहा है। आखिर क्या है ट्विटर पर इसके ट्रेंड करने की वजह? आइये हम आपको बताते हैं इसके पीछे की पूरी सच्चाई। दरअसल, दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर किसानों के धरना-प्रदर्शन में शामिल हुए भारतीय किसान यूनियन के अंबाला जिला प्रधान मलकीत सिंह ने पिछले दिनों मंच से एक बयान दिया था। इसमें मलकीत सिंह ने कहा था कि एक मार्च से देशभर के किसान दूध के दामों में 50 रुपये का इजाफा करने जा रहे हैं। दूध की कीतम में 50 रुपये की बढ़ोतरी करने के बाद फिलहाल 50 रुपये लीटर बिकने वाला दूध 1 मार्च से 100 रुपये लीटर बेचा जाएगा। इसी के साथ मलकीत सिंह यह भी कहा था कि केंद्र सरकार ने डीजल के दाम बढ़ाकर किसानों को चारों तरफ से घेरने की कोशिश की है।  ऐसे में संयुक्त किसान मोर्चा ने अब दूध के दाम में 50 रुपये का इजाफा करने का फैसला लिया है। अगर केंद्र सरकार तीनों कृषि कानूनों को रद करने मांग नहीं मानी तो आने वाले दिनों में आंदोलन को शांतिपूर्वक आगे बढ़ाते हुए हम सब्जियों के दामों में भी इजाफा करेंगे। इसके बाद 1 मार्च से दूध का दाम 100 रुपये होने को लेकर ट्विटर पर ट्रेड हो रहा है। उधर, इस बात की पुष्टि के लिए फोन के किया तो संयुक्‍त किसान मोर्चा की तरफ से इस पूरे मसले पर आधिकारिक रूप से कुछ नहीं कहा गया है।

 

ट्विटर पर शनिवार सुबह से ही ‘ #1मार्चसेदूध100लीटर’ यह हैशटैग टॉप ट्रेंड में है। वहीं, इसमें एक हिंदी अखबार की कटिंग शेयर करके कहा जा रहा है कि 1 मार्च से दूध के दाम 100 रुपये लीटर कर दिए जाएंगे। अखबार की कतरन में सिंघु बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे संयुक्‍त किसान मोर्चा के एक पदाधिकारी का नाम है।

100 रुपये लीटर पेट्रोल तो 100 रुपये kg दूध क्योें नहीं

सौ रुपये लीटर दूध बेचने से जनता को होने वाली परेशानी के सवाल पर मलकीत सिंह का कहना है कि अगर जनता 100 रुपये लीटर पेट्रोल ले सकती है तो फिर 100 रुपये लीटर दूध क्यों नहीं ले सकती। अब तक किसान एक लीटर दूध को ‘नो प्रॉफिट नो लॉस’ पर बेचता आया है। यह तो अभी शुरुआत होगी अगर सरकार फिर भी कृषि कानूनों को वापस नहीं लेती है तो आने वाले दिनों में सब्जियों के दाम दोगुने किए जाएंगे।
यहां पर बता दें कि तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को रद करने की मांग को लेकर दिल्ली-एनसीआर के चारों बॉर्डर (सिंघु, टीकरी, शाहजहांपुर और गाजीपुर बॉर्डर) पर किसानों का धरना-प्रदर्शन जारी है। किसानों तीनों कृषि कानूनों को रद करने से कम कोई शर्त मानने के लिए तैयार नहीं हैं।

यह भी देखे:-

गले में मेडल डालकर फुटपाथ पर रात-दिन गुजार रहा हाकी खिलाड़ी तालिब, PDA ने किश्त नहीं जमा करने पर किय...
CORONA SPECIAL UPDATE : 24 घंटे के अन्दर जमातियों की सूचना दें, नहीं तो होगी कठोर कार्यवाही
यमुना एक्सप्रेस वे पर भीषण हादसा, ताजमहल देखने जा रहे स्कूली बच्चों से भरी बस पलटी , एक की मौत कई घ...
ऑपरेशन कराने अस्पताल में एडमिट मरीज निकली कोरोना पॉजिटिव , मची अफरा तफरी, डॉक्टर व स्टाफ क्वारंटाइन ...
राम राज सेवा संस्थान द्वारा श्री हनुमान जन्मोत्सव भव्य आयोजन
गलगोटिया के छात्र ने अनुभव STUDENT बनाया "निर्भया सुरक्षा कवच, ऐसे करेगा महिलाओं की सुरक्षा, पढ़ें पू...
अब भारत बताएगा दुनिया में कहां, कितना लोकतंत्र, फ्रीडम इंडेक्स और वर्ल्ड डेमोक्रेसी रिपोर्ट लाने की ...
अक्षय ऊर्जा के क्षेत्र में नई क्रांति की तैयारी कर रहा है ग्लोबल एसोसिएशन फॉर कॉर्पोरेट सर्विसेज
जीएसटी पंजीयन के लाभ से रूबरू हुए व्यापारी
अपनी बंदूक से एक्सीडेंटल फायर से हुई सुरक्षा गार्ड की मौत
आम आदमी की रेल यात्रा का तरीका बदल देगा ये प्रोजेक्ट... पढ़िए पूरी रिपोर्ट
गौ-वंश की रक्षा के लिये समर्पित एक हॉस्पिटल
नोएडा: रयान स्कूल के खिलाफ हुआ विरोध प्रदर्शन, जानिए क्यों
ग्रेटर नोएडा ईटा 1 सेक्टर में भव्य दुर्गा पूजा का आयोजन, भक्तों की उमड़ी भीड़
कोरोना वैक्सीन लेने के बाद कितने लोग हुए पॉजिटिव? पता लगाएगा स्वास्थ्य मंत्रालय
Lockdown Update News: 6 महीने के टॉप पर कोरोना का कहर, एमपी, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र के इन शहरों में ल...