सीट बंटवारे को लेकर अन्य पार्टियां कैसे बढ़ा रही हैं कॉंग्रेस की मुश्किलें, जानिए

बिहार विधानसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन के बाद कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ गई हैं। केरल सहित सभी चुनावों राज्यों में सहयोगी दल अधिक सीट हासिल करने का दबाव बना रहे हैं। सहयोगी दलों की दलील है कि कांग्रेस के मुकाबले उनका स्ट्राइक रेट बेहतर रहा है, इसलिए चुनाव में जीत के लिए सहयोगियों को पिछले चुनाव के मुकाबले अधिक सीट मिलनी चाहिए।

यूडीएफ में शामिल लगभग सभी दल अधिक सीट की मांग कर रहे
केरल विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की अगुआई वाले यूडीएफ में शामिल लगभग सभी दल अधिक सीट की मांग कर रहे हैं। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग 30 से ज्यादा सीट की दावेदारी कर रही है। जबकि वर्ष 2016 में 23 सीट पर चुनाव लड़ा था। आईयूएमएल के दूसरे घटल दल भी सीट बंटवारे में ज्यादा हिस्सेदारी चाहते हैं। ऐसे में कांग्रेस की चुनौती बढ़ सकती हैं।

आईयूएमएल के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनाव में हमारा प्रदर्शन कांग्रेस के मुकाबले बहुत बेहतर था। एक माह पहले हुए स्थानीय निकाय के चुनाव में भी आईयूएमएल की स्थिति बेहतर रही। इसलिए, कांग्रेस को अधिक सीट पर चुनाव लड़ने के बजाए सहयोगियों को ज्यादा सीट देकर विधानसभा चुनाव में जीत सुनिश्चित करनी चाहिए।

कांग्रेस को यूडीएफ में नए सिरे से सीट बंटवारा करने के दबाव की एक वजह केरल कांग्रेस (मणि) और लोकतांत्रिक जनता दल के यूडीएफ से अलग होना भी हैं। इन दोनों पार्टियों ने पिछले चुनाव में 22 सीट पर चुनाव लड़ा था। कांग्रेस इनमें से आठ सीट केरल कांग्रेस (मणि) से बगावत करने वाले केरल कांग्रेस (जोसेफ) को देना चाहती थी और बाकी सीट अपने पास रख रही है। आईयूएमएल और दूसरे दल इन 14 सीट पर अपना हक जता रहे हैं।

पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 87 सीट पर लड़ा था चुनाव
वर्ष 2016 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 87 सीट पर चुनाव लड़ा था। पर पार्टी सिर्फ 22 सीट जीत पाई। पार्टी का स्ट्राइक रेट सिर्फ 25 फीसदी था। केरल कांग्रेस (मणि) के जोस के मणि के अलग होने से ईसाई मतदादाओं में यूडीएफ का दबदबा कम हुआ है। ऐसे में कांग्रेस पर आईयूएमएल और दूसरे दलों की अधिक सीट की मांग का दबाव और बढेगा।

यह भी देखे:-

30 फीसदी तक बढ़ा घरेलू विमान सेवाओं का किराया,
e Shram Portal क्या है, आज होगा लॉन्च, जानिए इससे जुड़ी 5 खास बातें
लखनऊ : सपा सांसद आजम खां अस्पताल से डिस्चार्ज, सीतापुर ले जाने की तैयारी
कोरोना के दुष्परिणाम 48 फीसदी छात्र पढ़ना-लिखना भूले-सर्वे
ओडिशा: DRDO के चार संविदा कर्मचारी गिरफ्तार, रक्षा से जुड़ी जानकारी लीक करने का आरोप
हॉस्पिटल एकादश बना T-10 क्रिकेट टूर्नामेंट का विजेता, 28 दिसंबर को ग्रेनो प्रेस क्लब से होगा मुकाबला
प्रधान अध्यापिका गीता भाटी को चौधरी सुखबीर प्रधान शिक्षा समिति ने किया सम्मानित
कृषि कानून के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक ने किया 5 सितंबर को महापंचायत का ऐलान
विनीता कसाना को प्रतीक चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र देकर करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने किया सम्मानित
शारदा विश्विद्यालय में चौथा दीक्षांत समारोह :  देश को विकसित बनाने में छात्रों को अपना महत्वपूर्ण यो...
U.P BOARD 10 वीं के नतीजे घोषित , रोजा याकूदपुर की काजल बनी जिले की टॉपर
परिवार गया था बाहर, चोरों ने उड़ाया लाखों का माल
बाइडन ने 31 अगस्त को अफगानिस्तान से हटने पर जोर दिया, कहा- हर दिन बढ़ रहा सैनिकों पर हमले का खतरा
कोरोना और जीका के बाद केरल में निपाह वायरस का कहर, जानें- लक्षण, बचाव
जीएनआईओटी प्रबंध एवं शिक्षण संस्थान में उद्यमिता पर संगोष्टी का आयोजन
India Corona Cases: 30 हज़ार नए मामले , अकेले केरल में मिले लगभग 20 हजार मामले