कोविड-19 महामारी : करोड़ों लोगों को बदलना पड़ सकता है अपना काम धन्धा

कोविड-19 महामारी के दबाव से दुनियाभर में रोजगार का स्वरूप बदल रहा है। अगले एक दशक में अकेले भारत में ही 1.8 करोड़ लोगों को अपने रोजगार का स्वरूप बदलना होगा, जबकि वैश्विक स्तर पर 10 करोड़ लोग इससे प्रभावित होंगे।

* असर: 2030 तक दुनियाभर में बदल जाएगा रोजगार का बाजार
मैकेंजी ग्लोबल इंस्टीट्यूट ने एक सर्वे में बताया कि 2030 तक दुनियाभर में रोजगार के स्वरूप में बड़ा बदलाव आएगा। खुदरा क्षेत्र, खाद्य सेवाएं, होटल और कार्यालय प्रशासन जैसे क्षेत्रों में छोटे कामगारों पर सबसे ज्यादा असर पड़ेगा। कंपनियां भी महामारी के दबाव में नए तरह के कामकाज को अपना रही हैं।

* 10 करोड़ लोग वैश्विक स्तर पर बदलेंगे नौकरी का प्रारूप
भारत सहित आठ देशों में इसका सबसे ज्यादा असर दिखेगा। रिपोर्ट के अनुसार, उपभोक्ताओं की प्रकृति में बदलाव से कारोबारी मॉडल भी बदलना पड़ रहा है। अब ई-कॉमर्स और बिना व्यक्तिगत रूप से संपर्क में आए कामकाज को बढ़ावा मिल रहा है। लिहाजा अगले एक दशक में कई बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों में 10 करोड़ लोग इससे प्रभावित होंगे, जिनमें 1.8 करोड़ भारत से होंगे।

भारत पर कम असर
महामारी से रोजगार की प्रवृत्ति में आ रहे बदलावों का भारतीय बाजार पर कम असर दिखेगा, क्योंकि यहां कुल श्रम का 35-55 फीसदी बाहरी उत्पादन व रखरखाव से जुड़ा है। इसमें आवासीय और वाणिज्यिक निर्माण प्रोजेक्ट की संख्या सबसे ज्यादा है।

 

रोजगार के तरीके बदलने से व्यक्तिगत संपर्क और मानव श्रम वाले कामकाज के घंटों में 2.2 फीसदी गिरावट रहेगी, जबकि तकनीकी कौशल वाले श्रम के घंटों में 3.3 फीसदी का इजाफा होगा। भविष्य में कारोबारी यात्राओं में भी कमी आएगी और घंटे के हिसाब से काम करने वालों की संख्या बढ़ेगी।

छोटे कामगारों पर ज्यादा मार
मैकेंजी ग्लोबल पार्टनर सुजैन लुंड के अनुसार, कोविड-19 वायरस के लंबे समय तक असर की वजह से छोटे कामगारों पर ज्यादा मार पड़ेगी। इन्हें अपने कौशल को बढ़ाकर ज्यादा वेतन वाली नौकरियों की तरफ जाना होगा। स्वास्थ्य सुरक्षा, तकनीकी, शिक्षा और प्रशिक्षण, सामाजिक कामकाज व मानव संसाधन जैसे क्षेत्रों में मौके मिल सकते हैं।

कामगारों में नए कौशल विकसित करने के लिए कंपनियों और नीति निर्माताओं को तत्काल बड़े पैमाने पर प्रशिक्षण शुरू करना होगा। कोविड-19 पर भारत सहित दुनियाभर में काफी हद तक काबू पाया जा चुका है, लेकिन कौशल विकास पर आगे भी इसका असर दिखता रहेगा।

 

 

यह भी देखे:-

गाँधी परिवार के ख़िलाफ़ बग़ावत शुरू, उठने लगी गैर गाँधी नेतृत्व की मांग, जानें पूरी ख़बर
सीएम योगी आदित्यानाथ ने लगवाई कोरोना वैक्सीन की पहली डोज
अचानक तिब्‍बत के दौरे पर पहुंचे चीन के राष्‍ट्रपति शी चिनफिंंग
Kumbh mela 2021: धर्मध्वजा स्थापना और नगर पेशवाई की तिथियां घोषित, इस दिन होगा आयोजन  
टोक्यो ओलंपिक में खेल रही थी एथलीट, घर लौटते ही मिली बहन की मौत की खबर, निकल पड़े आंसू
रेलवे ट्रैक पर सेल्फी ले रहे थे दो युवक, अचानक आई ट्रेन, फिर
यूपी विधानमण्डल सत्र 2021
सावधान! इस तरह के फर्जी वीडियो पर न दें ध्‍यान, इनमें नहीं है कोई सच्‍चाई, डब्‍ल्‍यूएचओ ने किया खंडन
ग्रेटर नोएडा : महापंचायत के दौरान जिला प्रशासन से बीकेयू की वार्ता विफल, धरना जारी
आज से इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल की प्रक्रिया हुई आसान,
आई. टी. एस. इन्जीनियरिंग कालेज : विश्व आहार दिवस पर नवादा गाँव में भोजन वितरित किया
गाँव पहुँचने पर मण्डल अध्यक्ष का हुआ जोरदार स्वागत
Covid-19:जानिए कोरोना संकट काल में कैसा होगा कॉलेज एडमिशन का प्रक्रिया..
करप्शन फ्री इंडिया ने यूपी बोर्ड टापर्स को किया सम्मानित
वाराणसीः कैंट स्टेशन पर प्लेटफार्म टिकट की बिक्री बंद, मुख्य प्रवेश द्वार को छोड़कर सभी रास्तों को क...
Weather Forecast: यूपी-दिल्ली के इन इलाकों में अगले कुछ घंटों में हो सकती है बारिश,