नही रहे राजीव के दोस्त कैप्टन सतीश शर्मा, राहुल गाँधी ने दिया कंधा, जानें कौन थे सतीश

कांग्रेस के पूर्व सांसद कैप्टन सतीश शर्मा के शव को शुक्रवार सुबह राहुल गांधी ने कंधा दिया। कैप्टन सतीश शर्मा का आज अंतिम संस्कार किया जाना है। बुधवार को गोवा में कैप्टन सतीश शर्मा का निधन हो गया था। कैप्टन सतीश शर्मा गांधी परिवार के करीबी माने जाते थे। सतीश शर्मा की राजनीति में एंट्री भी पूर्व पीएम राजीव गांधी के चलते हुई थी। इससे पहले वह एक एयरलाइन कंपनी में पायलट के तौर पर काम करते थे। शर्मा को पहली बार 1986 में राज्यसभा जाने का मौका मिला था। यही नहीं राजीव गांधी की मौत के बाद अमेठी लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में उन्हें जीत मिली थी।

कैप्टन सतीश शर्मा 1993 से 1996 के दौरान पीएम नरसिम्हा राव सरकार में पेट्रोलियम मंत्री भी थे। इस दौरान पेट्रोल पंपों के आवंटन को लेकर विवाद छिड़ गया था और उनकी भूमिका को लेकर भी कई बातें कही गई थीं। यही नहीं शर्मा की ओर से किए गए पेट्रोल पंपों के आवंटन को 1997 में सुप्रीम कोर्ट ने रद्द भी कर दिया था और 50 लाख रुपये की पेनल्टी लगाई थी। हालांकि कोर्ट ने इस पेनल्टी को बाद में समाप्त कर दिया था, लेकिन इस विवाद की छाया से कैप्टन सतीश शर्मा कभी बाहर नहीं निकल सके। इस मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने टिप्पणी की थी, ‘ऐसा लगता है कि जैसे कैप्टन सतीश शर्मा किंग थे और पेट्रोल पंप उनके लिए पर्सनल प्रॉपर्टी थे।’

अमेठी से सांसद चुने जाने के बाद एक बार फिर से कैप्टन सतीश शर्मा 1999 में लोकसभा पहुंचे। हालांकि इस बार उन्हें अमेठी की बजाय रायबरेली सीट से संसद जाने का मौका मिला था। इसकी वजह यह थी कि रायबरेली सीट खाली करके सोनियां गांधी ने अमेठी से चुनाव लड़ने का फैसला लिया था। इसके बाद 2004 में कैप्टन सतीश शर्मा ने सोनिया गांधी के लिए जगह खाली की थी।

Delhi: Congress leader Rahul Gandhi gives shoulder to the mortal remains of party leader Captain Satish Sharma who passed away on February 17 pic.twitter.com/BhM4zMjGAz

— ANI (@ANI) February 19, 2021

इसकी वजह यह थी कि सोनिया गांधी ने बेटे राहुल को अमेठी से चुनाव लड़ाने का फैसला लिया था और खुद परिवार की परंपरागत सीट रायबरेली वापस लौट आई थीं। इसके कुछ दिनों बाद ही कैप्टन सतीश शर्मा को दूसरी बार राज्यसभा भेज दिया गया था। यही नहीं 2010 से 2016 के दौरान एक बार फिर से वह राज्यसभा पहुंचे थे। कुल मिलाकर वह अपनी जिंदगी में 6 बार सांसद रहे। तीन बार लोकसभा से और तीन ही बार राज्यसभा में चुने गए।

यह भी देखे:-

जीएनआईओटी संस्थान में 21 वे संस्थापक दिवस का भव्य आयोजन तथा इस अवसर पर शिक्षकों एवं विद्यार्थियों को...
बच्चों कोवोवैक्स वैक्सीन : 7 से 11 साल के बच्चों के लिए जल्द आएगी वैक्सीन, दूसरे-तीसरे फेज का ट्रायल...
सॉफ्ट टेनिस प्रतियोगिता मे यूपी को कोई पदक नही, निराश खिलाड़ियों का आरोप अधिकारियों और खेल विभाग की ल...
पत्नी को तलाक़ लेकिन बच्चों को नही ,देखभाल करनी होगी- सुप्रीम कोर्ट, जानें पूरी खबर
Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल से जुड़ी 10 बातें
श्री धार्मिक रामलीला पाई 1 : नारद मोह का सजीव मंचन देख गदगद हो उठे दर्शक
कलक्ट्रेट सूरज पुर में मनाई गई गांधी जयंती, शास्त्री जी भी याद किये गए
भारतीय सीमा में घुसे 3 पाकिस्‍तानी जेट
Weather Updates: रविवार तक लगातार हो सकती है बारिश
तैयारी: 19 सितंबर से शुरू होगा आईपीएल का दूसरा चरण, होगी प्लेऑफ के लिए जंग
मुंबई अभिनेता राजीव कपूर का हार्ट अटैक से निधन
28  साल बाद आया  बाबरी विध्वंस केस का फैसला , आडवाणी, जोशी समेत सभी आरोपी बाइज्जत  बरी 
ग्लोबल कॉलेज का काउंसलिंग सेंटर क हुआ नोएडा एवं जेवर में विधिवत उद्घाटन
मेरठ: राज्यपाल आज ऑनलाइन करेंगी 30 करोड़ की लागत से बने भवनों का लोकार्पण, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओें क...
फिट इंडिया फ्रीडम रन 2.0: खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने दिखाई हरी झंडी, स्वस्थ भारत बनाने की अपील की
School Reopening 2021: राजधानी के स्कूलों में सीनियर कक्षाओं के छात्रों को 1 सितंबर से खोले जाने की...