कोरोना : भारत में कोरोना कैसे पड़ा कमजोर जबकि सबसे ज़्यादा सघन आबादी है यहाँ,विशेषज्ञ भी रह गए हैरान

कोरोना वायरस के कहर से पूरी दुनिया त्राहिमाम कर रही है। अमेरिका जैसा देश भी कोरोना वायरस पर काबू पाने में नाकाम रहा। दुनियाभर में कोरोना ने सबसे ज्यादा तबाही अमेरिका में ही मचाई है उसके बाद कोरोना संक्रमितों की सबसे ज्यादा संख्या भारत में है। लेकिन एक बात कोरोना वायरस के विशेषज्ञों को हैरान कर रही है कि सघन आबादी वाला देश होने के बावजूद भारत में कोरोना का कहर ऊंचाइयों को नहीं छू पाया और 2021 आते-आते ध्वस्त हो गया। इससे जुड़ा रहस्य विशेषज्ञों को भी हैरान कर देने वाला है।

वैज्ञानिक यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि भारत में कोरोना वायरस के मामले कैसे घट रहे हैं, जबकि एक समय ऐसा लग रहा था कि यह सबसे अधिक प्रभावित देश अमेरिका को भी पछाड़ सकता है।

 

सितंबर 2020 में भारत में प्रति दिन करीब एक लाख नए मामले दर्ज किए जा रहे थे, लेकिन यह अक्तूबर आते-आते घट गया और जनवरी 2021 आते-आते लगभग प्रति दिन 10,000 नए मामलों के आंकड़े पर पहुंच गया है। इस रहस्य को समझने के लिए विशेषज्ञों को भी संघर्ष करना पड़ रहा है।

यह भी देखे:-

यूपी पंचायत चुनाव : एक वोटर को डालने होंगे चार वोट, जानें क्यों
Drone Seen In Samba: सांबा में तीन जगहों पर पाकिस्तानी ड्रोन ने सुरक्षा में सेंघ लगाई
Google से जानें, कैसे चंद मिनटों में ढूंढे सही सर्च रिजल्ट
भाजयुमो के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष का जेवर में जोरदार स्वागत
भारत में नहीं आएगी कोरोना की तीसरी लहर, बशर्ते लोग सावधान रहेेें और टीकाकरण को दें प्राथमिकता- रणदीप...
दरोगा के साहस से बड़ा हादसा टला, लोग कर रहे हैं वाहवाही
Jammu Kashmir: पाक की बौखलाहट का नतीजा है ड्रोन हमला ?
प्रख्यात मधुमेह रोग विशेषज्ञ  FACE  की प्रतिष्ठित फैलोशिप से सम्मानित, अमेरिका में हुआ कन्वेंशन समार...
टीम इंडिया के गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार के पिता का निधन, इस गंभीर बीमारी का चल रहा था इलाज
35वें राज्य स्‍थापना दिवस के अवसर पर अरुणाचल प्रदेश के छात्रों ने रंगारंग कार्यक्रम पेशकर समां बांधा
ग्रेटर नोएडा : दादरी के चिटहेरा गाँव मे बिजली के तारों मे लगी आग
केंद्रीय कर्मचारियों की बल्‍ले-बल्‍ले, सितंबर में आएगा बढ़ा DA
दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा जल कार्यक्रम : सोलहवां “एवरीथिंग अबाउट वॉटर एक्सपो प्रदर्शनी का उद्घाटन
Encounter in Shrinagar : श्रीनगर में सुरक्षा बल और आतंकियों के बीच मुठभेड़, कुछ ही देर में एक आतंकी ...
घबराएं नहीं: डॉक्टर त्रेहान बोले- आरटी-पीसीआर रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही अस्पताल में भर्ती करना जरूरी नह...
साहित्य, समाज और मीडिया एक दूसरे के प्रर्याय - डा. नीलम कुमारी