Kumbh mela 2021: धर्मध्वजा स्थापना और नगर पेशवाई की तिथियां घोषित, इस दिन होगा आयोजन  

जूना, अग्नि और आह्वान अखाड़ों की धर्मध्वजा स्थापना और नगर पेशवाई की तिथियां घोषित हो गई हैं। तीनों अखाड़ों के संतों एवं पदाधिकारियों की सामूहिक बैठक के बाद जूना अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक एवं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरि गिरि ने कहा कि चार मार्च को सुबह 11 बजे जूना अखाड़े एवं अग्नि अखाड़े की पेशवाई जुलूस निकलेगा, जबकि पांच मार्च को आह्वान अखाड़े की पेशवाई निकाली जाएगी।
तीनों अखाड़ों के संतों एवं पदाधिकारियों की जूना अखाडे़ में श्रीमहंत हरि गिरि की अध्यक्षता में बैठक हुई। इसमें संतों एवं पदाधिकारियों के विचार-विमर्श के बाद धर्मध्वजा स्थापना और नगर पेशवाई की तिथियों की घोषणा की गई। संरक्षक श्रीमहंत हरि गिरि ने कहा कि तीन मार्च को जूना अखाड़ा परिसर में तीनों अखाड़ों जूना, आह्वान और अग्नि अखाड़ों की दत्तात्रेय चरणपादुका के निकट सायं चार बजे धर्मध्वजा स्थापित की जाएगी।

 

चार मार्च को सुबह 11 बजे जूना अखाड़े एवं अग्नि अखाडे़ की पेशवाई जुलूस नजीबावाद हरिद्वार रोड पर स्थित कांगड़ी ग्राम में श्री प्रेमगिरि आश्रम से शुरू होगा, जो निर्धारित पेशवाई मार्ग से जूना अखाड़े की छावनी में प्रवेश करेगा। पांच मार्च को आह्वान अखाड़े की पेशवाई होगी और श्रीमहंत प्रेमगिरि आश्रम कांगड़ी से पूर्व निर्धारित मार्ग से होकर जूना अखाड़े की छावनी में पहुंचेगा।

बैठक में राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत सत्य गिरि, मंत्री श्रीमहंत राजेश गिरि, श्रीमहंत राजेंद्र भारती, अग्नि अखाडे़ के ब्रह्मचारी साधनानंद, जूना अखाडे़ के सभापति श्रीमहंत प्रेम गिरि, उपाध्यक्ष श्रीमहंत विद्यानंद सरस्वती, सचिव श्रीमहंत मोहन भारती, श्रीमहंत महेश पुरी, श्रीमहंत शैलेंद्र गिरि, श्रीमहंत पृथ्वी गिरि, श्रीमहंत पूरण गिरि, नीलकंठ गिरि आदि संत शामिल रहे।

संतों की बैठक के बाद लगेगी अंतिम मुहर
धर्मध्वजा स्थापित और पेशवाई निकाले जाने की तिथि घोषित होने के बाद तीनों अखाड़ों के संतों ने अपर मेलाधिकारी हरवीर सिंह के साथ पेशवाई मार्ग का निरीक्षण किया। पेशवाई मार्ग ग्राम कांगड़ी से शुरू होकर चंडी चौक दु:खहरण हनुमान मंदिर बिरला घाट, वाल्मीकि चौक, ललतौरो पुल, दत्तात्रेय चौक होकर श्रीआनंद भैरव घाट सेवा सदन मार्ग से जूना अखाड़े की छावनी तक निर्धारित होगा।

 

श्रीमहंत हरि गिरि ने बताया पेशवाई मार्ग के लिए पुराने मार्ग का विकल्प भी सुरक्षित रखा जाएगा। नए पेशवाई मार्ग को लेकर संतों की मेला प्रशासन के साथ बैठक भी होगी। उसके बाद ही आखिरी निर्णय लिया जाएगा। श्रीमहंत हरि गिरि ने कहा कि मुगल शासनकाल से ही पांडेवाला ज्वालापुर से अखाड़ों की पेशवाई निकाली जाती रही है। यह व्यवस्था औरंगजेब के शासनकाल में शुरू हुई थी।

यह भी देखे:-

International Women's Day पर अमेज़न प्राइम ने की नई सीरीज़ की घोषणा, एक्टिंग से लेकर निर्देशन तक सब ...
राहुल ने साधा पीएम पे निशाना कहा- डरपोक हैं पीएम सेना के बलिदान का कर रहे अपमान, चीन के मसले पर मांग...
GIMS व शारदा अस्पताल में  Covid-19 टीकाकरण का ड्राई रन (अभ्यास) सफलतापूर्वक आयोजित
गलगोटियाज विश्वविद्यालय के तत्वाधान में प्रथम शतरंज प्रतियोगिता का आयोजन
सीएए पर 'बजरंगी' की पुस्तक का विधायक पंकज सिंह ने किया विमोचन
बजट 2019 से होम बायर्स क्यों हैं निराश? , पढ़ें पूरी खबर
ऑस्कर के लिए नॉमिनेट हुई प्रियंका चोपड़ा की फिल्म द व्हाइट टाइगर
ग्रेटर नोएडा : इलोक्ट्रॉनिक्स उत्पाद की प्रदर्शनी इलेक्ट्रॉनिका इंडिया और प्रोडक्ट्रॉनिका इंडिया 20...
आई.एचजी.एफ़. (IHGF) दिल्ली मेले का 50वाँ संस्करण वर्चूअल प्लैट्फ़ॉर्म पर आज से आरम्भ
गौतबुद्ध नगर: श्रमिकों को लेकर ट्रेन होगी रवाना
जीपीएल 4 क्रिकेट टूर्नामेंट : बढ़पुरा बनाम कुलेसरा बी व मिलक 2nd बनाम खानपुर के बीच खेला गया मैच
कोरोना को मात: इस्राइल का टीकाकरण अभियान सफल, जानिए कैसे निकला दुनिया से आगे
मोबाईल फ़ोन होंगे महंगे, जीएसटी काउंसिल की बैठक में लिए गए अहम निर्णय, पढ़ें पूरी खबर
यूपी में आज लॉकडाउन: जानें क्या खुला और कहां है पाबंदी
भारी मात्रा में गांजा के साथ तीन तस्कर गिरफ्तार
कांग्रेस मतलब झूठे घोषणापत्र, भ्रष्टाचार और घोटालों की गारंटी- असम में रैली के दौरान बोले पीएम मोदी