कपड़ों और कागज पर कम देर तक जिंदा रहता है कोरोना वायरस, IIT के वैज्ञानिकों के अनुसार जानें-कहां कितना रहता है जिंदा

नई दिल्ली, । आईआईटी मुंबई के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस से जुड़ी एक बड़ी गुत्थी को सुलझाने में सफलता हासिल की है। उन्होंने इस बात का पता लगाया है कि कोरोना वायरस किस सतह पर अधिक समय तक जिंदा रहता है और किस सतह पर कम। यही नहीं, उन्होंने इस बात का कारण भी बताया है कि कोरोना वायरस के किसी भी सतह पर जिंदा रहने का कारण क्या है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह शोध एक तरफ जहां लोगों को कोरोना के खौफ से राहत दिलाने का काम करेगा। वहीं, वैज्ञानिक आधार पर आया यह निष्कर्ष कई नीतियों को बनाने में प्रभावकारी भी साबित हो सकता है।

आईआईटी मुंबई के प्रोफेसर रजनीश भारद्वाज ने बताया कि शोध में सामने आया है कि पोरस सरफेस (छिद्रयुक्त सतह), जैसे कि पेपर और कपड़ों में वायरस कम समय तक जिंदा रहता है। इन सतह पर वायरस कुछ घंटों तक ही जिंदा रहता है। वहीं, ग्लास, स्टैनलेस स्टील और प्लास्टिक में वायरस क्रमश: चार, सात और सात दिन तक जिंदा रहता है। पेपर पर वायरस तीन घंटे से कम समय तक ही जीवित रहता है। कपड़ों में यह वायरस दो दिन तक जीवित रहता है। रजनीश भारद्वाज ने बताया कि ड्रॉपलेट तो जल्दी सूख जाती है, पर उसमें एक थिन फिल्म (पानी की हल्की परत) जीवित रहती है। यह पानी की परत जल्दी सूखती नहीं है, जिससे वायरस के जीवित रहने की संभावना रहती है। यह थिन फिल्म आंखों से दिखाई नहीं देती है। यह एक रहस्य की तरह का मामला था, जहां ये दिख रहा था कि ड्रॉपलेट कुछ मिनट या सेकेंडों में सूख जाती है, पर वायरस जीवित रहता है। ऐसे में पानी की हल्की परत ने इस मामले को सुलझाया है। इसके लिए हमने कंप्यूटर सिम्युलेशन का प्रयोग किया।

आईआईटी मुंबई के प्रोफेसर रजनीश भारद्वाज ने बताया कि शोध में सामने आया है कि पोरस सरफेस (छिद्रयुक्त सतह) जैसे कि पेपर और कपड़ों में वायरस कम समय तक जिंदा रहता है। ग्लास स्टैनलेस स्टील और प्लास्टिक में वायरस क्रमश चार सात और सात दिन तक जिंदा रहता है।
आईआईटी मुंबई के प्रोफेसर रजनीश भारद्वाज ने कहा कि पोरस सरफेस जैसे कि पेपर, कपड़ों में वायरस के जल्दी खत्म होने की वजह ड्रॉपलैट फैल जाती है। इसकी वजह से इसका वाष्पीकरण तेजी से होता है। वहीं ग्लास, स्टैनलैस स्टील आदि में वाष्पीकरण देर से होता है।

आईआईटी बॉम्बे के प्रोफेसर रजनीश भारद्वाज ने बताया कि हमने रिसर्च नैनोमीटर वाली लिक्विड लेयर पर की है। यह सतह पर खास तरह के फोर्स से चिपकती है, इसलिए कोरोना इस सतह पर घंटों जीवित रहता है। उनके अनुसार, पतली पर्त वाला मॉडल बताता है कि किसी भी सतह पर पतली पर्त का मौजूद होना और इसका सूखना तय करता है कि इस पर वायरस कितनी देर तक रहेगा।

 

-ग्लास, लैमिनेट वुड को पोरस मैटीरियल जैसे, कपड़ा या पेपर से कवर करने से वायरस की सतह पर ट्रांसमिशन होने का खतरा कम हो जाता है।

-कार्यालय और अस्पतालों में फर्नीचर और अन्य सामान के प्रयोग में इस बात को ध्यान में रखकर काम किया जा सकता है।

-पार्क, शॉपिंग मॉल, रेस्तरां, रेलवे और एयरपोर्ट में भी सामान के इस्तेमाल में इस बात को जेहन में रखकर कार्य किया जा सकता है कि किस मैटीरियल में वायरस कितने समय तक जीवित रहता है।

यह भी देखे:-

आईआईएमटी कॉलेज आफ लॉ में मूटकोर्ट प्रतियोगिता का आयोजन
विपक्षी सांसदों का स्पीकर को पत्र, कहा- गाजीपुर बॉर्डर पर भारत-पाक सीमा जैसे हालात
इन कारों की टोल टैक्स और पार्किंग भी होगी फ्री, GST काउंसिल का बड़ा फैसला
गौतमबुद्ध विश्विद्यालय के छात्रों द्वारा 'आज़ाद: द अनसंग हीरो' नाटक का मंचन , चंद्रशेखर आज़ाद की जीवन...
नहीं रहे गोवा के सीएम मनोहर पर्रीकर, राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर दी जानकारी
पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कोविड-19 प्रोटोकॉल का अनुपालन करने करने का निर्देश द...
शारदा विश्वविद्यालय : सेण्टर फॉर एडवांस्ड रिसर्च इन एप्लाइड मैथमेटिक्स एंड फिजिक्स" का उद्घाटन
ग्रेटर नोएडा इंडिया एक्सपो सेंटर आयुर्योग एक्सपो 2019 का आगाज
झुग्गी झोपड़ियों में नि:शुल्क चिकित्सा कैम्प का आयोजन
जीबीयू और आईपीयूए के बीच समझौता ज्ञापन एमओयू पर हस्ताक्षर
जीएसटी के वार्षिक रिटर्न की तारीख बढ़ी, पढ़ें पूरी खबर
Downfall in production continues in Auto industry sector
सुमित क्लब घँघोला की टीम बनी जुनेदपुर बॉलीबाल टूर्नामेंट की विजेता
नोएडा में कोरोन के मरीजों की संख्या चार हुई, 1000 लोग आईसोलेट किये गए
जी. डी. गोयंका में आन लाइन श्रीकृष्णजन्माष्टमीका कार्यक्रम
जगन्नाथ इंस्टीट्यूट : विधि विद्यार्थियों ने चलाया विधिक जागरूकता अभियान