ग्रेनो साहित्य मे आज की कविता है ” बाकी है”

ग्रेनो साहित्य मे आज की कविता है ” बाकी है”
इस कविता के रचनाकार है “शेषकान्त दुबे”
शेषकान्त काशी हिन्दू विश्विद्यालय मे पत्रकारिता के छात्र रह चुके है.

शेषकान्त दुबे
                                                                                             

बाकी है

डूबे हुए इरादों में अभी जान आनी बाकी है
अभी-अभी तो गिरे है उड़ान अभी बाकी है
सफ़र करेगे; कभी हारे तो कभी जीतेगे
कुछ मुझे दोस्त कहेगे तो कुछ दुश्मन समझेगे !
अभी तो रिश्तो में कुछ और पहचान बाकी है
डूबे हुए इरादों में अभी जान आनी बाकी है

यह भी देखे:-

कोरोना संकट में श्रमिक कामगार निर्धनों को मिला ह्यूमन टच फाऊंडेशन का साथ
लूट कि वारदात को अंजाम देने फिराक में घूम रहे तीन लुटेरे गिरफ्तार
बिजली संकट : देश मे क्यूँ बढ़ रही है बिजली की समस्या, पढें कारण
बिहार: गया के विष्णुपद मंदिर में हुई अनोखी शादी, दूल्‍हा-दुल्‍हन ने सात फेरों के पहले लिया कोरोना का...
JewarAirport के लिए ज्युरीख इंटरनेशनल एजी और नियाल के बीच CONCESSION AGREEMENT हस्ताक्षर हुआ
चिराग पासवान का BJP से मोहभंग! बोले: पारस का LJP कोटे से PM मोदी कैबनेट में मंत्री बनना मंजूर नहीं
उद्योगों के लिए किसानों से जमीन खरीदने को शनिवार से गांवों में लगेगा शिविर
स्पोर्ट्स इंडिया इंटरनेशनल एक्सपो में दूसरे दिन बॉडीबिल्डिंग चैंपियनशिप का आयोजन
एसआरएस इंटर कॉलेज में कंप्यूटर लैब व सोलर सिस्टम का हुआ शुभारंभ
विश्व पर्यावरण दिवस पर कोविड-19 से बचाव हेतु पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया
Corona update : घट रहे है कोविड के मरीज़, पढ़े पूरी रिपोर्ट
शुद्ध वायु, दीर्घ आयु; अक्रेक्स इंडिया 2020 इंडोर ने एयर क्वालिटी के महत्व पर दी जानकारी विज़िटर्स ...
एच.आई.एम.टी. ग्रुप में होली मिलन समारोह का आयोजन
कोरोना के चलते अनाथ हुए बच्‍चों के मामले को स्‍वत: संज्ञान लिया, राज्‍यों को तुरंत राहत देने का दिया...
बजट 2018 - जानिए रेलवे और हवाई यात्रा के लिए क्या रहा ख़ास
आनंद विहार व कौशांबी बस अड्डों पर उमड़ी प्रवासी मजदूरों की भीड़, हैरान कर देने वाली हैं तस्वीरें