ग्रेनो साहित्य मे आज की कविता है ” बाकी है”

ग्रेनो साहित्य मे आज की कविता है ” बाकी है”
इस कविता के रचनाकार है “शेषकान्त दुबे”
शेषकान्त काशी हिन्दू विश्विद्यालय मे पत्रकारिता के छात्र रह चुके है.

शेषकान्त दुबे
                                                                                             

बाकी है

डूबे हुए इरादों में अभी जान आनी बाकी है
अभी-अभी तो गिरे है उड़ान अभी बाकी है
सफ़र करेगे; कभी हारे तो कभी जीतेगे
कुछ मुझे दोस्त कहेगे तो कुछ दुश्मन समझेगे !
अभी तो रिश्तो में कुछ और पहचान बाकी है
डूबे हुए इरादों में अभी जान आनी बाकी है

यह भी देखे:-

ये कंपनियां ला रही हैं दमदार 7 सीटर एसयूवीज, नये स्टाइल के साथ मिलेंगे जबरदस्त फीचर्स
पेट्रोल डीजल की बढ़ी दरों के खिलाफ भारतीय किसान यूनियन भानु ने दिया ज्ञापन
रेलवे ट्रैक पर मिला किशोर-किशोरी का शव
ममता बनर्जी को चुनाव आयोग ने भेजा एक और नोटिस, केंद्रीय बलों पर गलत टिप्पणी करने का है आरोप
सुरेश चन्द बने “मानस अवलोकन संस्था” के अध्यक्ष
राज्य मंत्री महेश चन्द्र गुप्ता ने किया जिम्स संस्थान का निरीक्षण, किया अमृत फार्मेसी का लोकार्पण
श्री धार्मिक रामलीला मंचन सेक्टर पाई : वानर सेना ने समुंद्र पर बनाया पुल, लंका पहुंचे अंगद
रिटायर्ड प्रोफेसर की हथियारबंद बदमाशों ने कार लूटी
जब संसद में निर्मला सीतारमण ने दिलाई 'दामाद' की याद, 'हम दो हमारे दो' पर राहुल को घेरा
गौतमबुद्ध नगर में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव शुरू
बिल्डर को अनुचित लाभ देने पर बड़ी कार्यवाही , ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के दो कर्मचारी निलंबित , तीन अन्...
उत्तर प्रदेश में धारा 144 लागू, राज्य में होने वाली सभी परीक्षाएं रद्द
योजेम्स एनसीआर ओपन टेनिस चैम्पियनशिप का समापन
ग्रेटर नोएडा: बुजुर्ग की चाकू गोदकर हत्या
कोरोना के बढ़ते प्रकोप के कारण लोक अदालत स्थगित
यामाहा ने स्पेयर पाट्र्स मैनेजर्स और तकनीशियनों के लिए नेशनल लेवल ग्रां प्री के 10वें संस्करण का आयो...