कविता: वक़्त अब बदल गया,बचपन कहि पीछे छूट गया

कविता तो हर किसी को पसंद होती है और जब कोई कविता ऐसी पढ़ने को मिल जाये जिससे पुराने दिन याद हो जाए और यादें ताज़ा हो जाए, तो एक ऐसी ही कविता यहाँ आपको प्रस्तुत है : पढें

इस कविता के लेखक है ” राजेश मिश्रा” 

यह भी देखे:-

मुंह दिखाने लायक नहीं रहे हम, इसलिए बांधना पड़ रहा मास्‍क, जानें- पीएम मोदी ने क्‍यों कहा ऐसा
ग्रेटर नोएडा वेस्ट साइक्लिंग क्लब ने मनाया विश्व साइकिल दिवस
सोशल मीडिया कानून: फेक न्यूज़ और अफवाह फैलाने पे होगी जेल, होगी कानूनी कार्रवाई
जी.एल. बजाज में तीन दिवसीय अन्तराष्ट्रीय कांफ्रेंस,
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन
जूनियर डीपीएस द्वारा डेंटल चेकअप का आयोजन
बंगाल मे गरजे योगी, ममता को चेताया, 2 मई के बाद दिखेगा बदलाव
दिल्ली में आज से 24 घंटे होगा कोरोना का टीकाकरण, सरकार ने दिया आदेश
मुंबई: सोशल मीडिया पर लिखा- शायद यह मेरी आखिरी गुड मॉर्निंग, अगली सुबह नहीं देख पाई यह डॉक्टर
गलगोटिया विश्विद्यालय: चुनावी रुझान को लेकर सेमिनार आयोजित
स्थानीय युवकों को रोजगार मुद्दे पर किसानों ने सैमसंग पर दिया धरना
पीसी गुप्ता गैंग का एक और जमीन खरीद घोटाला उजागर , करोड़ों का लगाया चूना
सस्ता होगा पेट्रोल? साउदी अरब ने भारत को दिया कीमतें घटाने का फॉर्मूला
शारदा विश्वविद्यालय में विदेशी छात्रों ने मनाई दीवाली, लोस अध्यक्ष ओम बिड़ला थे मुख्य अतिथि
चेरी काउंटी में जल संचयन पर परिचर्चा
Farmer's Protest: गर्मियों से बचाव के लिए किसानों की तैयारी तेज, टीकरी बॉर्डर पर भी बन रहे पक्के मका...