हिमालय क्षेत्र में बढ़े टूटे और लटके हुए ग्लेशियर, तबाह कर सकते हैं नदी किनारे बसे गांव और शहर

ग्लोबल वार्मिंग के चलते अपना सपोर्ट खो रहे हैं लाखों टन वजनी बर्फ के पहाड़ स्नो एवलांच स्टडी एंड एस्टेब्लिशमेंट की ऑब्जर्वेशन में हुआ खुलासा
हिमाचल, लद्दाख, अरुणाचल, सिक्किम और उत्त्तराखण्ड में सबसे ज्यादा तबाही का खतरा
विस्तार हिमालयन क्षेत्र में पड़ने वाले ग्लेशियर कमजोर हो रहे हैं। इनमें से ज्यादातर ग्लेशियर फ्रैक्चर्ड हैं यानी उनमें ठोस बर्फ की अधिकता का प्रतिशत कम हो रहा है। दूसरी तरफ ऐसे ग्लेशियर भी हैं जिसमें बीच-बीच में बर्फ का घनत्व कम हो चुका है। ऐसी स्थिति में ये ग्लेशियर अपने सपोर्ट को खो रहे हैं और हैंगिंग ग्लेशियर (लटके) के तौर पर खड़े हैं। ऐसे ग्लेशियर कभी भी भारी तबाही मचा सकते हैं। हिमालयन रीजन में बर्फ पर नजर रखने वाली एजेंसी “स्नो एवलांच स्टडी एंड एस्टेब्लिशमेंट” की ऑब्जर्वेशन में ऐसी बातें निकल कर सामने आई हैं।
विज्ञापन

 

स्नो एवलांच स्टडी एंड एस्टेब्लिशमेंट के पूर्व निदेशक डॉ अश्वघोष गंजू कहते हैं कि हिमालयन रीजन के ग्लेशियर लाखों टन वजनी बर्फ का भार नहीं झेल पा रहे हैं। इसकी वजह बताते हुए डॉक्टर गंजू कहते हैं कि या तो ज्यादातर ग्लेशियर फ्रेक्चर्ड हैं या फिर हैंगिंग पोजीशन में आ चुके हैं। इसका मुख्य कारण जलवायु परिवर्तन है। बर्फ पर नजर रखने वाली टीम ने पाया कि ज्यादा तापमान के चलते ग्लेशियर की बर्फ बीच-बीच से पिघल रही है। यही एक प्रमुख कारण है कि ग्लेशियर टूट रहे हैं और लटक भी रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है ऐसे ग्लेशियर बेहद खतरनाक होते हैं।
तबाह हो जाएंगे शहर और गांव
लद्दाख इलाके में पिघलते ग्लेशियरों पर काम करने वाले नॉर्फे सोनम मानते हैं कि हैं ऐसे टूटे और लटके हुए ग्लेशियर जब कभी तबाही मचाएंगे तो ना सिर्फ पहाड़ी इलाकों बल्कि मैदानी इलाकों में रहने वाली बड़ी आबादी बुरी तरह प्रभावित होगी। क्योंकि कमजोर हो चुके ग्लेशियर अपने ऊपर पड़ने वाली बर्फ का बोझ नहीं सहेंगे और लटकने एवं टूटने की वजह से यह पूरी तरह से नदियों में जाकर बहुत तेज वेग के साथ समा जाएंगे। हजारों लाखों टन के ग्लेशियर जब अपने तीव्र वेग से नीचे जाएंगे, तो ये नदियां रास्ता बदल देंगी।
1990 से ज्यादा कमजोर हो रहे ग्लेशियर
सन 1990 से हिमालयन रीजन के ग्लेशियरों का कमजोर होना लगातार जारी है। विशेषज्ञों ने अपने शोध में पाया कि इन ग्लेशियरों के कमजोर होने से ही मैदानी इलाकों में ज्यादातर तबाही आ रही है। शोधकर्ताओं के मुताबिक 1975 से हिमालय के इलाकों में मौजूद ग्लेशियरों के तेजी से पिघलने की भनक लगने लगी थी। पर्यावरणविद सुपर्णो कहते हैं अगर ग्लेशियर ऐसे ही कमजोर होते रहे तो एक दिन बहुत बड़ा खतरा बन जाएंगे। इसलिए बहुत जरूरी है कि हम सबको मिलकर ना सिर्फ अपने ग्लेशियरों को बचाना है बल्कि बढ़ते हुए तापमान को रोकने के लिए जो मानवीय प्रयास किए जाने चाहिए वह हर संभव तरीके से किए जाएं। इसके लिए सभी सरकारों को आगे आना ही होगा। क्योंकि प्रकृति से छेड़खानी बहुत महंगी पड़ेगी।

यह भी देखे:-

ग्रेटर नोएडा : नॉलेज पार्क में स्वतंत्रता दिवस समारोह की धूम
ग्रेटर नोएडा: रोटरी क्लब ने स्कूल बैग व स्टेशनरी बाँटी
शारदा विश्विद्यालय में न्यायपालिका व कार्यशैली  पर संगोष्ठी का आयोजन
यमुना सिटी में बनेगा UP ATS का मुख्यालय और कमांडो ट्रेनिंग सेंटर, यमुना प्राधिकरण ने मुफ्त दी 3 एकड़...
गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय के शत-प्रतिशत छात्र UPTET परीक्षा में हुए उत्तीर्ण
ग्रेटर नोएडा में 'गंगा जमुनी कवि सम्मेलन' 7 मार्च को
राजेश पायलट शिक्षा समिति ट्रस्ट ने मेधावी छात्रों को किया सम्मानित
जीएसटी के वार्षिक रिटर्न की तारीख बढ़ी, पढ़ें पूरी खबर
एमिटी यूनिवर्सिटी ग्रेनो कैम्पस में कल लगेगा हेल्थ कैम्प, बुजुर्ग होंगे सम्मानित
समसारा विद्यालय ने विद्यार्थियों के लिए किया परीक्षा पे चर्चा का सीधा प्रसारण
मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले दो तस्कर गिरफ्तार, 42 किलो गांजा बरामद, पकड़े गए नशीले पदार्थ का मू...
बढ़ती हुई महंगाई लेकर करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने सौपा ज्ञापन
पीएम नरेंद्र मोदी ने ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज, ट्वीट किया फोटो
Live updates: MLC शिक्षक मेरठ सहारनपुर क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार श्रीचंद शर्मा का बढ़त बरकरार
लोगों को अन-सोशल बनाने में अहम भूमिका निभा रहा इंटरनेट मीडिया
शारदा विश्विद्यालय में " साइंस एंड इंजीनियरिंग ऑफ़ मैटेरियल्स " पर अन्तराष्ट्रीय सम्मलेन का आयोजन