आज ही के दिन 1921 में रखी गई थी इंडिया गेट की नींव, 1931 में बनकर तैयार हुआ था

इंडिया गेट की संरचना की बात करें तो यह 42 मीटर ऊंचा और 9.1 मीटर चौड़ा है। इसे लाल और पीले बलुआ पत्थरों से बनाया गया है। पत्थरों को राजस्थान के भरतपुर से लाया गया था। इंडिया गेट का पूरा परिसर करीब 400 एकड़ में फैला हुआ है।

10 फरवरी, 1921 को डयूक ऑफ कनॉट ने इंडिया गेट की नींव रखी थी। इसको आर्किटेक्ट एडविन लुटियन ने तैयार किया था। 12 फरवरी, 1931 को यह बनकर तैयार हुआ था। प्रसिद्ध वास्तुकार एके जैन कहते हैं कि इंडिया गेट और फ्रांस के आर्क ऑफ विक्ट्री में काफी समानताएं है। आर्क ऑफ विक्ट्री, इंडिया गेट से सौ साल पुराना है। लुटियन ने नई दिल्ली में सेंट्रल विस्टा की रूपरेखा तैयार की तो इसके पूर्व भाग में इंडिया गेट का खाका खींचा। सेंट्रल विस्टा के एक तरफ रायसीना हिल्स तो दूसरी तरफ नहर थी। सेंट्रल विस्टा की चौड़ाई 600 मीटर है। राजपथ इसके ठीक बीच में है। वहीं, इंडिया गेट की संरचना की बात करें तो यह 42 मीटर ऊंचा और 9.1 मीटर चौड़ा है। इसे लाल और पीले बलुआ पत्थरों से बनाया गया है। पत्थरों को राजस्थान के भरतपुर से लाया गया था। इंडिया गेट का पूरा परिसर करीब 400 एकड़ में फैला हुआ है।

★ इंडिया गेट पर सैनिकों के नाम :—
एके जैन बताते हैं प्रथम विश्व युद्ध 1914 में शुरू हुआ। भारत के करीब एक लाख जवान युद्ध में शामिल हुए जिनमें से 60 हजार से अधिक जवानों की मौत हुई थी। जब विश्व युद्ध खत्म हुआ तो वायसराय लार्ड हार्डिग ने सैनिकों की याद में एक स्मारक बनाने का प्रस्ताव दिया। इस तरह इंडिया गेट पर सैनिकों के नाम अंकित किए गए। लुटियन की योजना थी कि यहां एक झील बनाकर जिसे यमुना से जोड़ा जाए, लेकिन चूंकि योजना काफी खर्चीली थी इसलिए इसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका।

★ समारोहों के आयोजन की योजना :–
एके जैन कहते हैं कि ब्रिटिश हुकूमत चाहती थी कि सरकार से संबंधित आयोजन भव्यता के साथ आयोजित हों इस वजह से इंडिया गेट के चारों तरफ खुला मैदान रखा गया है और इसी के चलते विभिन्न रियासतों के राजाओं को इंडिया गेट के आसपास जमीन आवंटित की गई। जोधपुर हाउस, बड़ौदा हाउस, हैदराबाद हाउस, जयपुर हाउस आदि इसी विचार के चलते अस्तित्व में आए।

यह भी देखे:-

अनिल कुमार तोंगड़ बने हिन्दू रक्षा सेना गौतमबुध नगर के जिलाध्यक्ष
गलगोटिया विश्वविद्यालय : लॉ के छात्रों ने लोगों को बताया उनके मौलिक अधिकार
बुखार, सांस फूलना और सीने में दर्द...ममता की जांच में इन जगहों पर मिलीं गंभीर चोटें, डॉक्टरों ने बता...
ग्रेटर नोएडा से हरिद्वार के लिए शुरू हुई बस सेवा
जीवमात्र की निःस्वार्थ सेवा ही परमेश्वर की सच्ची सेवा है ...
बुआजी करें अब आराम- चंद्रशेखर, भीम आर्मी प्रमुख ने मायावती को दी सलाह
लॉकडाउन संकट : ग्रेटर नोएडा के सामाजिक कार्यकर्ताओं में सेवा का जज्बा काबिले तारीफ
मिशन प्रेरणा ज्ञानोत्सव  कार्यक्रम में प्रेरक  बालक ,बालिका,  उत्कृष्ट अध्यापक, अध्यापिका , शिक्षामि...
ग्रेटर नोएडा : आईजीसी शिविर के कैडेट्स गणतंत्र दिवस पर राजपथ की बनेंगे शान
अमीचंद सर्वोदय कॉन्वेंट स्कूल में शिक्षकों की भूमिका निभा कर खुश हुए बच्चे
विक्रम जोशी पत्रकार की हत्या के मामले में जहाँगीरपुर मीडियाकर्मियों ने की कठोर निंदा
जातिगत आरक्षण के खिलाफ भारत बंद का दिखा आंशिक असर
एपीजे इंटरनैशनल स्कूल में विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन
एसटीएफ नोएडा के हत्थे चढ़ा दिनेश उर्फ़ दिन्ने बावरिया , सैकड़ों आपराधिक वारदातों को दे चूका है अंजाम 
प्रतिष्ठित योगगुरू के निर्देशन में जीएल बजाज संस्थान में योग दिवस मनाया गया
एक्सप्रेस वे पर तेज रफ्तार बस दुर्घटनाग्रस्त, सवारी हुई चोटिल