आज ही के दिन 1921 में रखी गई थी इंडिया गेट की नींव, 1931 में बनकर तैयार हुआ था

इंडिया गेट की संरचना की बात करें तो यह 42 मीटर ऊंचा और 9.1 मीटर चौड़ा है। इसे लाल और पीले बलुआ पत्थरों से बनाया गया है। पत्थरों को राजस्थान के भरतपुर से लाया गया था। इंडिया गेट का पूरा परिसर करीब 400 एकड़ में फैला हुआ है।

10 फरवरी, 1921 को डयूक ऑफ कनॉट ने इंडिया गेट की नींव रखी थी। इसको आर्किटेक्ट एडविन लुटियन ने तैयार किया था। 12 फरवरी, 1931 को यह बनकर तैयार हुआ था। प्रसिद्ध वास्तुकार एके जैन कहते हैं कि इंडिया गेट और फ्रांस के आर्क ऑफ विक्ट्री में काफी समानताएं है। आर्क ऑफ विक्ट्री, इंडिया गेट से सौ साल पुराना है। लुटियन ने नई दिल्ली में सेंट्रल विस्टा की रूपरेखा तैयार की तो इसके पूर्व भाग में इंडिया गेट का खाका खींचा। सेंट्रल विस्टा के एक तरफ रायसीना हिल्स तो दूसरी तरफ नहर थी। सेंट्रल विस्टा की चौड़ाई 600 मीटर है। राजपथ इसके ठीक बीच में है। वहीं, इंडिया गेट की संरचना की बात करें तो यह 42 मीटर ऊंचा और 9.1 मीटर चौड़ा है। इसे लाल और पीले बलुआ पत्थरों से बनाया गया है। पत्थरों को राजस्थान के भरतपुर से लाया गया था। इंडिया गेट का पूरा परिसर करीब 400 एकड़ में फैला हुआ है।

★ इंडिया गेट पर सैनिकों के नाम :—
एके जैन बताते हैं प्रथम विश्व युद्ध 1914 में शुरू हुआ। भारत के करीब एक लाख जवान युद्ध में शामिल हुए जिनमें से 60 हजार से अधिक जवानों की मौत हुई थी। जब विश्व युद्ध खत्म हुआ तो वायसराय लार्ड हार्डिग ने सैनिकों की याद में एक स्मारक बनाने का प्रस्ताव दिया। इस तरह इंडिया गेट पर सैनिकों के नाम अंकित किए गए। लुटियन की योजना थी कि यहां एक झील बनाकर जिसे यमुना से जोड़ा जाए, लेकिन चूंकि योजना काफी खर्चीली थी इसलिए इसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका।

★ समारोहों के आयोजन की योजना :–
एके जैन कहते हैं कि ब्रिटिश हुकूमत चाहती थी कि सरकार से संबंधित आयोजन भव्यता के साथ आयोजित हों इस वजह से इंडिया गेट के चारों तरफ खुला मैदान रखा गया है और इसी के चलते विभिन्न रियासतों के राजाओं को इंडिया गेट के आसपास जमीन आवंटित की गई। जोधपुर हाउस, बड़ौदा हाउस, हैदराबाद हाउस, जयपुर हाउस आदि इसी विचार के चलते अस्तित्व में आए।

यह भी देखे:-

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में ईको कार्ट प्रतियोगिता, प्रतिभागियों ने अपने वाहनों का किया प्रदर्शन
एलन मस्क: दुनिया की भूख मिटाने को तैयार टेस्ला चीफ, मैं छह अरब डॉलर देने को तैयार -एलन मस्क
पुलित्जर पुरस्कार विजेता भारतीय पत्रकार दानिश की तालिबान हमले मे मौत, कोरोना काल मे खींची थी सबसे दर...
अब दिल्ली में सरकार का मतलब उपराज्यपाल  
एक दिन पहले मंगाई थी रस्सी, इसी से बने फंदे पर लटका मिला शव
Bodhi Taru International School organised ‘Neverland’-The Infotainment Summer Camp
बिहारः मां-बाप ने बोझ समझ बेटी को रेलवे स्टेशन पर छोड़ा, किस्मत ने 'खुशी' को पहुंचा दिया इटली
बंद फ्लैट में मिली महिला की लाश , पति व बच्चा लापता , जांच में जुटी पुलिस
Felicitation of X board achievers at Ryan Greater Noida
Upcoming Web Series and Films: अभिषेक बच्चन की 'द बिग बुल' समेत इस हफ़्ते आएंगी ये फ़िल्में और वेब स...
भारत ने रचा इतिहास ,चौथी बार जीता ICC UNDER-19 WORLD CUP का ख़िताब
जे पी इंटरनेशनल स्कूल ग्रेटर नोएडा को वार्षिक टाइम्स स्कूल रैंकिंग 2021 में नंबर 1 के रूप में सम्मान...
धरती माँँ की सुनो पुकार बंद करो ये अत्याचार ....
आईटीएस डेंटल कॉलेज में व्यक्तित्व विकास के लिए कार्यशाला का आयोजन 
दादरी: महिला उन्नति संस्थान ने गरीबों को बांटे कंबल
कोरोना योद्धाओ के लिए जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह को उपलब्ध कराई पीपीई किट व सैनेटाइजर