आज ही के दिन 1921 में रखी गई थी इंडिया गेट की नींव, 1931 में बनकर तैयार हुआ था

इंडिया गेट की संरचना की बात करें तो यह 42 मीटर ऊंचा और 9.1 मीटर चौड़ा है। इसे लाल और पीले बलुआ पत्थरों से बनाया गया है। पत्थरों को राजस्थान के भरतपुर से लाया गया था। इंडिया गेट का पूरा परिसर करीब 400 एकड़ में फैला हुआ है।

10 फरवरी, 1921 को डयूक ऑफ कनॉट ने इंडिया गेट की नींव रखी थी। इसको आर्किटेक्ट एडविन लुटियन ने तैयार किया था। 12 फरवरी, 1931 को यह बनकर तैयार हुआ था। प्रसिद्ध वास्तुकार एके जैन कहते हैं कि इंडिया गेट और फ्रांस के आर्क ऑफ विक्ट्री में काफी समानताएं है। आर्क ऑफ विक्ट्री, इंडिया गेट से सौ साल पुराना है। लुटियन ने नई दिल्ली में सेंट्रल विस्टा की रूपरेखा तैयार की तो इसके पूर्व भाग में इंडिया गेट का खाका खींचा। सेंट्रल विस्टा के एक तरफ रायसीना हिल्स तो दूसरी तरफ नहर थी। सेंट्रल विस्टा की चौड़ाई 600 मीटर है। राजपथ इसके ठीक बीच में है। वहीं, इंडिया गेट की संरचना की बात करें तो यह 42 मीटर ऊंचा और 9.1 मीटर चौड़ा है। इसे लाल और पीले बलुआ पत्थरों से बनाया गया है। पत्थरों को राजस्थान के भरतपुर से लाया गया था। इंडिया गेट का पूरा परिसर करीब 400 एकड़ में फैला हुआ है।

★ इंडिया गेट पर सैनिकों के नाम :—
एके जैन बताते हैं प्रथम विश्व युद्ध 1914 में शुरू हुआ। भारत के करीब एक लाख जवान युद्ध में शामिल हुए जिनमें से 60 हजार से अधिक जवानों की मौत हुई थी। जब विश्व युद्ध खत्म हुआ तो वायसराय लार्ड हार्डिग ने सैनिकों की याद में एक स्मारक बनाने का प्रस्ताव दिया। इस तरह इंडिया गेट पर सैनिकों के नाम अंकित किए गए। लुटियन की योजना थी कि यहां एक झील बनाकर जिसे यमुना से जोड़ा जाए, लेकिन चूंकि योजना काफी खर्चीली थी इसलिए इसे अमलीजामा नहीं पहनाया जा सका।

★ समारोहों के आयोजन की योजना :–
एके जैन कहते हैं कि ब्रिटिश हुकूमत चाहती थी कि सरकार से संबंधित आयोजन भव्यता के साथ आयोजित हों इस वजह से इंडिया गेट के चारों तरफ खुला मैदान रखा गया है और इसी के चलते विभिन्न रियासतों के राजाओं को इंडिया गेट के आसपास जमीन आवंटित की गई। जोधपुर हाउस, बड़ौदा हाउस, हैदराबाद हाउस, जयपुर हाउस आदि इसी विचार के चलते अस्तित्व में आए।

यह भी देखे:-

उत्तराखंड में आई तबाही से भी बड़ा झेलना पड़ सकता है महाजलप्रलय : राजेंद्र सिंह, पर्यावरणविद
शाबास अर्जुन, फिर पेश की मिसाल, अपने ख़ास कटे जूते से जुटाई रकम दान किया, जानिए कटे जूते की कहानी
कोरोना संकट: सुप्रीम कोर्ट ने कहा, अनाथ हुए बच्चों की जिम्मेदारी उठाए जिला प्रशासन, बुनियादी जरूरतें...
बीरोदा गाँव में हुआ स्कूल चलो अभियान
भारत में पहली बार EPCH द्वारा वर्चुअल फेयर IFJAS का आयोजन 1 जून से
ग्रेनो में अवैध यूनिपोल दिखें तो प्राधिकरण के हेल्पलाइन नंबर पर दें जानकारी, वेबसाइट पर अपलोड की वैध...
IMD की चेतावनी, 5-6 नवंबर तक काफी खराब हो सकती है हवा
हिन्दू युवा वाहिनी ने मनाई अम्बेडकर जयंती
मैं अपने साथ सैनिकों के लिए करोड़ों भारतीयों का आशीर्वाद लेकर आया हूं : पीएम मोदी
गलगोटिया यूनिवर्सिटी : ग्लोबल चैलेंज 2019 प्रतियोगिता का आयोजन
गौतमबुद्ध नगर पुलिस : एक कोतवाल लाइन हाज़िर, तीन कोतवाल इधर से उधर किये गए , एसीपी का भी तबादला
ह्युमन टच फाउंडेशन द्वारा एनीमिया रोग का नि:शुल्क शिविर का आयोजन
फिल्म पद्यमावती के खिलाफ क्षत्रिय समाज करेगा प्रदर्शन
बंगाल का संग्राम : टीएमसी के लिए प्रचार करेेंगी सपा सांसद जया बच्चन, नंदीग्राम के बाद इस हॉट सीट पर ...
आईटीएस डेंटल कॉलेज में इंडियन ऑर्थोडोंटिक्स सोसाइटी की कांफ्रेंस का आयोजन
योगी जी द्वारा सुपरटेक एमरोल्ड कोर्ट मामले में गठित एसआईटी जांच एक छलावा : आम आदमी पार्टी