कोर्ट ने पुलिस के खिलाफ याचिका की ख़ारिज , बहुचर्चित जेवर काण्ड के आरोपियों के परिजनों ने लगाया था फर्जी फंसाने का आरोप

ग्रेटर नोएडा : एसएसपी गौतमबुध नगर के खिलाफ दायर की गई याचिका को जिला कोर्ट ने खारिज कर दिया। 24 जुलाई को जेवर कांड के आरोपियों के परिजनों ने पुलिस पर आरोपियों को फर्जी फंसाने का आरोप लगाकर मामले में दुबारा जांच करने की मांग की थी। कोर्ट ने आरोपियों के परिजनों की तरफ से दायर 156/3 की दोनों याचिका को खारिज करते हुए आरोपियों को न्यायिक हिरासत में रखने का फैसला दिया हैं।

सूरजपुर स्थित जिला कोर्ट में जेवर कांड के आरोपियों के परिजनों ने एसएसपी समेत जेवर कांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम के खिलाफ 156/3 के तहत मामला दर्ज किया था। कोर्ट में परिजनों ने दायर याचिका में पुलिस पार्टी पर आरोप लगाया कि पुलिस ने जेवर कांड में फंसे आरोपियों को फर्जी फंसाया गया हैं। जेवर मामले के दोषी लोगो के परिजनों ने 24 जुलाई को कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिला कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए जेवर कांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम पर लगाए हुए आरोपियों को फर्जी फंसाने में लगाया हुआ आरोप गलत हैं। कोर्ट ने इस मामले में दोनों याचिका को खारिज कर दिया। गौरतलब हैं कि पुलिस ने जेवर गैंगरेप कांड का खुलासा कर बावरिया गैंग के चार बदमाशों को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया था। इनमें एक बदमाश को गोली लगी थी। इस मामले में सोमवार को दो आरोपियों राकेश और दीपक के परिजनों ने कोर्ट में एसएसपी, एसपी सिटी और जेल अधीक्षक समेत 17 पुलिसकर्मियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराने की मांग की थी। कोर्ट ने सुनवाई के लिए 4 अगस्त की तारीख दी थी लेकिन तारिख आगे की मिलने के कारण 21 अगस्त में फैसला किया गया। जेवर मामले के मुख्य आरोपी अशोक उर्फ राजू की पत्नी कुसुम ने जेवर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक राजपाल सिंह तोमर, उप प्रभारी निरीक्षक वीरपाल सिंह सोलंकी, उप प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार समेत जेवर कोतवाली के 15 पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाते हुए कोर्ट में 156/3 के तहत याचिका दायर की थी। आरोपी राकेश की मां संतोष के वकील बलराज भाटी ने बताया कि कोर्ट ने सुनवाई के बाद प्रार्थना पत्र को खारिज कर दिया हैं।

एसएसपी लव कुमार ने बताया कि बहुचर्चित जेवर कांड का पुलिस की टीम ने सही खुलासा किया गया था और आरोपियों के पास से पीडित पक्ष का सारा सामान बरामद भी किया था। आरोपी पक्ष के परिजन कोर्ट में गलत तथ्यों को रखकर आरोपियों की रिहाई करवाने की कोशिश कर रहे थे।

यह भी देखे:-

जीवन यापन के संकट से जूझ रही सपेरा जाति की मदद करेंगे JEWAR MLA धीरेन्द्र सिंह
सम्पूर्ण समाधान दिवस : डीएम बी.एन सिंह ने सुनी जनता की समस्या, दिव्यांगों को प्रमाणपत्र वितरित किया
ग्रेटर नोएडा में होगा राष्ट्रीय संगीत सम्मलेन
नगर पालिका परिषद व नगर पंचायत की आय बढ़ाने के लिए बैठक
खुशखबरी, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया Aqua Metro line का किया उद्घाटन
COVID 19 पर जानिए, गौतमबुद्ध नगर में आज तक की क्या है रिपोर्ट
Beginning Mission Education के साथ  महिला शक्ति सामाजिक समिति ने रोशनी के त्योहार  दीपावली , भाई दूज...
सीओ चकबंदी अधिकारी की नियुक्ति की मांग को लेकर जिलाधिकारी को सौपा ज्ञापन
सेटेलाइट से रखी जा रही है पराली जलाने वालों किसानों पर नजर, आधा दर्जन पर मुकदमा दर्ज 
बजट 2019 से होम बायर्स क्यों हैं निराश? , पढ़ें पूरी खबर
ग्रेटर नोएडा में रागिनी महाकुम्भ (लोक महोत्सव) कल 30 अक्टूबर को, जानिए कौन-कौन कलाकार देंगे प्रस्तुत...
पीआरवी में तैनात तीन पुलिसकर्मी निलंबित
जानिए, IDEA ने पेश किया ये नया ऑफर
नहर में कूदे छात्र का शव बरामद
मिठाई की दूकान पर खाद्य विभाग का छापा, लिए नमूने
आजमपुर गढ़ी में ग्राम पुस्तकालय को बनाया गया क्वारन्टीन सेंटर, दिल्ली पुलिस का हेड कॉन्स्टेबल निभा रह...