यमुना प्राधिकरण ओएसडी शैलेन्द्र भाटिया की कविता संग्रह “सफ़ेद कागज़” का लोकार्पण

ग्रेटर नोएडा : पीसीएस अधिकारी यमुना प्राधिकरण ओएसडी शैलेन्द्र कुमार भाटिया के प्रथम हिंदी कविता संग्रह “सफ़ेद कागज” का लोकार्पण यमुना विकास प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने प्राधिकरण के सभागार में किया। इस अवसर पर डॉ. अरुणवीर सिंह ने कहा “सफ़ेद कागज” कविता संग्रह में सफ़ेद कागज,मेरा बजट, फाइलें, निर्भया, कचहरी, पेड़ तुम नि:शब्द खड़े हो, किसान अन्नदाता, ये बूंदे बदला ले रही हैं, स्त्री आदि कविताएं उच्च कोटि की हैं जो हमें चिंतन के लिए विवश करती हैं। यह ऐसा तभी ही सकता है, जब कोई समाज की गहरी समझ रखता हो एवं स्वयं उससे रूबरू हो।

इस कविता संग्रह में व्यक्ति एवं उसके आस-पास घटित होने वाली घटनाओं के विषयों को अच्छे ढंग से श्री भाटिया ने कवितायेँ रची हैं, वह प्रशंसनीय है। स्त्री विमर्श व उसके उत्थान पर लिखी गयी कवितायेँ विशेष रूप से उल्लेखनीय है। मुझे पूरा विश्वाश है है कि ‘सफ़ेद कागज” कविता संग्रह व्यापक स्तर पर पढ़ी जाएँगी एवं पाठक द्वारा प्रशंसित होगी। सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने कहा मैं शैलेन्द्र को उनकी इस रचना के लिए बधाई और भविष्य की शुभकामनायें देता हूँ।

बता दें शैलेन्द्र भाटिया द्वारा रचित इस कविता संग्रह “सफ़ेद कागज” में कुल 152 कवितायेँ सम्मलित हैं। इसका प्रकाशन पी.एम. पब्लिकेशंस नई दिल्ली ने किया है। रोजमर्रा की जिंदगी से प्राप्त अनुभवों के आधार पर कविताएं लिखी गई हैं।

डॉ. विद्याकान्त तिवारी ने इसकी भूमिका लिखते हुए कहा है कि ” गाँव शहर, यथार्थ के विविध रूप, सत्तालोलुपता, भ्रष्टाचार, अराजकता, श्रमिक की दुर्दशा, मूल्यह्वास, जातीय अहंकार, न्याय एवं प्रशासनिक व्यवस्था की विसंगति, कलाकारों का शोषण, शिक्षा क्षेत्र में पतन, स्त्री की मानसिकता, शोषण एवं पराधीनता का यथार्थ, वर्ग विषमता की विविध रूपात्मक अभिव्यक्ति एवं चित्रण की कलात्मक अभिव्यक्ति, में “सफ़ेद कागज” दूसरा “रागदरबारी” प्रतीत होता है।.

डॉ. कुश चतुर्वेदी ने लिखा है “बापू गांव, पेड़ गंगा, किसान, कचहरी, बेटियां, नारी, स्त्री, माँ, पिता अन्नदाता, अइलें जैसे नाम हमारी जिंदगी का हिस्सा हैं। इन्हे भावों में पिरोकर कविता बनाया है भाई शैलेन्द्र जी ने। सफ़ेद कागज शीर्षक भी अपने आप में बहुत कुछ कह जाता है।

ज्ञातव्य हो कि शैलेन्द्र भाटिया को लोकसेवा में उत्कृष्ट योगदान के लिए “शोभना सम्मान” से सम्मानित किया जा चूका है। लोकार्पण के अवसर पर प्राधिकरण के अधिकारीयों द्वारा शैलेन्द्र भाटिया को उनकी इस रचना के लिए बधाई दी गई।

यह भी देखे:-

वैभव एसोसिएट्स ने की वेब साईट की शुरुआत, टैक्स से संबधित मिलेंगी जानकारी
किसानों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के विरोध में हुई पंचायत
गौतमबुद्ध नगर पुलिस के दो कोतवाल लाइन हाज़िर
यमुना प्राधिकरण की 61 वीं बोर्ड बैठक
प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर सपा ने दिया धरना
आरपीएस पब्लिक स्कूल की छात्रा शिवानी देशवाल ने मारी बाजी
अचार संहिता उल्लंघन कर रहे तीन प्रत्याशियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज
केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए जेवर एमएलए धीरेन्द्र सिंह ने की अपील , एक माह का वेतन भेजा
बिजली विभाग की लापरवाही, तार टूटा , एक की मौत, तीन झुलसे
द्रोण मेले में सजी कवियों की महफ़िल , देशभक्ति की कविताएं सुनाकर युवाओं में भरा जोश
शन्हा दीवान ने लंदन विश्वविद्यालय में पाया दूसरा स्थान , करप्शन फ्री इंडिया ने किया सम्मानित
"एक अध्यापक ही अच्छे राष्ट्र का निर्माण करता है" : दीप चंद्रा
गंदगी से भरा नाला बना परेशानी का सबब
विकास भवन में बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर नुक्कड़ नाटक
छात्रा को जिंदा जलाने की घटना को लेकर सिटी मजिस्ट्रेट को दिया ज्ञापन
सारिका गोयल ने किया समाज का नाम रोशन