हौंडा कार इंडिया लिमिटेड के  खिलाफ आंदोलन करेंगे  कर्मचारी , हौंडा कार्स लिमिटेड ने रखाअपना पक्ष

ग्रेटर नोएडा : आज होंडा एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन  का गठन किया गया है।  जिसके बाद एसोसिएशन ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की. प्रेस विज्ञप्ति में  लिखा है अवगत होना चाहे की होंडा कार इंडिया लिमिटेड ग्रेटर नोएडा के द्वारा लगभग 900 कर्मचारियों को बिना किसी कारण नौकरी से निकाल दिए जाने के विरुद्ध आज दिनांक 24-12-2020 को बीटा-2, G-232 ऑफिस पर कृष्ण भाटी की अध्यक्षता में मीटिंग आहूत की गई। मीटिंग में कर्मचारियों द्वारा सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि आगे की लड़ाई के लिए होंडा एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन (हेवा) नाम का संगठन बनाते हुए लड़ी जाएगी।

संगठन के प्रवक्ता प्रो अरविंद कुमार सिंह ने बताया कि होंडा कंपनी अरबों के मुनाफे पर चल रही है तथा कर्मचारियों की सेवा शर्तों के विरुद्ध उनको निकाला गया है । इस अन्याय के विरोध में कर्मचारी शासन प्रशासन मे न्याय की गुहार लगा चुके हैं परंतु कोई सुनवाई नहीं हो रही है। लोग दर-दर भटक रहे है कोई सुनने वाला नहीं है।  शासन प्रशासन के उदासीन रवैया से नाराज़ होकर इस संगठन को बनाया है जिससे सड़क की लड़ाई लड़ी जाएगी। सभी कर्मचारियों को पुन: नौकरी पर रखा जाए यही मांग है। इस अवसर पर कई कर्मचारी मीटिंग में उपस्थित रहे।

 

इस मामले में हौंडा कार्स लिमिटेड ने अपना पक्ष रखा – कंपनी के बारे में जो आरोप लगाए जा रहे हैं वे पूर्णतः असत्यआधारहीन और तथ्यों से परे हैं एवं संस्थान की छवि को खराब करने के उद्देश्य से लगाए गए हैंहम इनका खंडन करते हैंहम आपको विश्वास दिलाते हैं की हौंडा कार्स ब्रांड विश्वास पर आधारित हैकंपनी ने वी आर एस (VRS) प्रोग्राम को निष्पादित करते हुए नैतिकता, Corporate Governance एवं कानूनी अनुपालन का पूरा ध्यान रखा हैहमारा हमेशा से लक्ष्य सभी साथी कर्मचारियों के स्वास्थ्य कल्याण और भलाई पर केंद्रित रहा हैहम पूरे विश्वास के साथ ये कह सकते हैं की हमारी वी आर एस स्कीम (VRS) पूरी इंडस्ट्री में सर्वोत्तम थी और ऐसे में असंतोष का कोई कारण नहीं होना चाहिएवी आर एस (VRS) प्राप्तकर्ता पूर्व श्रमिकों ने जिला प्रशासन के समक्ष अपनी शिकायत रखी है और हम प्रशासन के साथ इस मामले में पूर्ण सहयोग कर रहे हैं!

इधर सूत्र बताते हैं  जनवरी व फरवरी 2020 में 278 कर्मचारियों  को को वीआरएस दिया गया। साथ ही उन्हें 40 से 50 लाख रुपये दिए गए। इसके बाद लॉक डाउन हो गया। अक्टूबर माह में दूसरे चरण में कुछ कर्मचारियों को वीआरएस दिया गया। उन्हें 50 से 60 लाख रुपये के अलावा 7 लाख रुपये बोनस भी दिया गया।

यह भी देखे:-

पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कोविड-19 प्रोटोकॉल का अनुपालन करने करने का निर्देश द...
गांव की समस्याओं के विरोध में करप्शन फ्री इंडिया संगठन का प्राधिकरण पर हल्ला बोल प्रदर्शन
मांगों को मनवाने शिक्षामित्रों का उग्र प्रदर्शन
विभिन्न संगठनों ने किया एनपीसीएल के बिजली मूल्य वृद्धि प्रस्ताव का विरोध
ग्रेटर नोएडा : श्री राजपूत करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष गिरफ्तार
दर्दनाक : ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर बेलगाम कार ने ली युवक की जान
ग्रेटर नोएडा : एडब्लूएचओ सोसाइटी में दिवाली मेला 3 नवम्बर को
अनियंत्रित ट्रक ने मारी कार में टक्कर
नवरत्न फाउंडेशन्स का वार्षिकोत्सव समर्पण धूमधाम से सम्पन्न, सम्मानित हुये समाजसेवी
बिना मास्क वालों के खिलाफ पुलिस की बड़ी कार्यवाही
जूते पाकर खिले बच्चों के चेहरे
सेक्टर समस्या को लेकर सीईओ ग्रेनो से मिले गोल्डन फेडरेशन के पदाधिकारी
यमुना प्राधिकरण बनेगा पेपरलेस कार्यालय, जीआईएस पोर्टल का लोकार्पण
नेगेटिव आने के बाद दो मरीज निकले कोरोना पॉजिटिव,  उपचार के लिए भर्ती
दिल्ली-गाजियाबाद के कई मार्गों पर भारी ट्रैफिक, एनएच-9 और एनएच 24 के सभी छह लेन बंद
दनकौर पुलिस ने चलाया एंटी रोमियो अभियान