Bihar election 2020: तेजस्वी के रिकांउटिंग की मांग को चुनाव आयोग ने किया खारिज

Patna: बिहार निर्वाचन आयोग ने महागठबंधन की ओर से वोटों की गिनती फिर से कराने(रिकाउंटिंग) की मांग को खारिज करते हुए बहुमत पर एनडीए को क्लीन चिट दे दी है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एचआर श्रीनिवासन ने देर रात मीडिया को जानकारी देते हुए कहा कि निर्वाचन आयोग ने राज्यपाल को नवनिर्वाचित सदस्यों की लिस्ट सौंप दी है। चुनाव में धांधली के विपक्ष के आरोपों पर उन्होंने कहा कि 11 ऐसे विधानसभा जिसमें जीत का मार्जिन 1 हजार से कम था। उनमें से शिकायत के बाद सिर्फ हिलसा में दोबारा से मतों की गिनती की गई। बाकी जगहों पर पोस्टल बैलेट के आधार पर सही करार दिया गया और रिकाउंटिंग नहीं हुई।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि इन सीटों में चार पर जेडीयू, तीन पर आरजेडी, एक पर एलजेपी, एक पर बीजेपी, एक पर सीपीआई और एक पर निर्दलीय प्रत्याशी की जीत हुई है. इस प्रकार इनमें सभी प्रमुख दल शामिल हैं. इनमें एकमात्र हिलसा में 12 वोटों के अंतर से हार-जीत हुई, जहां प्रत्याशी की मांग पर पुनर्मतगणना कराई गई।उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग के निर्देशानुसार वोटों का अंतर रद्द किए गए पोस्टल बैलेट से कम होने पर ही रद्द किए गए पोस्टल बैलेट की पुनर्मतगणना कराने का प्रावधान है. हिलसा में रद्द किए गए वोटों से वोटों का अंतर कम होने के कारण निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा सभी पोस्टल बैलेट की पुनर्मतगणना करायी गयी और इसके बाद भी नतीजा वही आया।

श्रीनिवासन ने बताया कि 11 में छह विधानसभा क्षेत्रों में पुनर्मतगणना की मांग की गयी थी। इनमें हिलसा को छोड़कर अन्य पांच निर्वाचन क्षेत्रों रामगढ़, मटिहानी, भोरे, डेहरी एवं परबत्ता में रद्द किए गए पोस्टल वोट से जीत-हार के वोटों का अंतर अधिक होने के कारण पुनर्मतगणना की मांग को निर्वाची पदाधिकारी द्वारा अस्वीकृत कर दिया गया।

गोपालगंज के जेडीयू सांसद आलोक कुमार सुमन को भी निर्वाचन आयोग ने क्लीन चिट देते हुए कहा कि जांच कराई गई, जिसमें पाया गया कि काउंटिंग सेंटर पर प्रवेश का आरोप गलत है। शिकायतकर्ता से निर्वाचन आयोग ने अपील की है कि अगर जरूरत हो तो उन्हें आयोग वीडियोग्राफी और डॉक्यूमेंट्स मुहैया कराने को तैयार है। निर्वाची पदाधिकारी द्वारा आरोपों को तथ्यहीन एवं अतार्किक करार दिया।

श्रीनिवास ने पोस्टल बैलेट की गिनती पहले नहीं शुरू होने से जुड़े प्रश्न पर कहा कि सभी निर्वाचन क्षेत्रों की मतगणना के दौरान पहले पोस्टल बैलेट की जांच शुरू हुई। उन्होंने बताया कि पोस्टल बैलेट की गिनती शुरू होने के आधे घंटे बाद नियमानुसार ईवीएम वोटों की भी गिनती शुरू की गयी। कई क्षेत्रों में पोस्टल बैलेट की गिनती व ईवीएम वोटों की गिनती साथ-साथ जारी रही। दोनों की गणना की वीडियोग्राफी करायी गयी है और पूरी प्रक्रिया पर माइक्रो ऑब्जर्बर व प्रत्याशियों के अभिकर्ताओं की नजर थी।

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए की जीत और महागठबंधन की हार हुई है। एनडीए जहां 125 सीटों के साथ सरकार बनाने जा रही है तो महागठबंधन 110 सीटों के साथ बहुमत से 12 सीटें दूर रह गया। इस बार के चुनाव में पहले की तरह इलेक्टॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से छेड़छाड़ का मुद्दा नहीं उठा है। पहले हर चुनावों में एनडीए पर ईवीएम को लेकर आरोप लगाए जाते रहे हैं। हालांकि बिहार में इस बार पोस्टल बैलेट का नया आरोप सामने आया है जिसे आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने जोर-शोर से उठाया है।

यह भी देखे:-

इलेक्रामा-2020 की शानदार शुरुआत - 1300 से अधिक प्रदर्शकों ने किया दुनिया को ऊर्जा देने वाले इनोवेशंस...
केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन, बेटे  चिराग ने ट्वीट कर दी जानकारी 
COVID-19:निजामुद्दीन में जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए 6 लोगों की मौत
इनकम टैक्स रिटर्न पर बड़ी अपडेट, जानिए , पढ़ें पूरी खबर 
सीबीआई कोर्ट : गुरमीत राम रहीम ने करवाई थी पत्रकार की हत्या, क्या है पूरा मामला पढ़ें पूरी खबर
CORONA के साथ जंग में सरकार के साथ खड़ा हुआ युवा गोल्फर अर्जुन भाटी, कुछ ऐसा किया PM MODI ने भी की ता...
बीजेपी की वेबसाइट हैक,सर्च करने पर लिखा 'वी विल बैक सून'
ग्रेटर नोएडा : नाले में गिरी कार, दो विदेशी घायल
Auto Expo 2020: ऑटो एक्सपो में इन पांच गाड़ियों को जरूर देखें
UP की इस लोकसभा सीट से चुनाव लड़ सकते हैं असदुद्दीन ओवैसी
नहीं रहे भारत के मशहूर वैज्ञानिक प्रो. यशपाल
Live updates: MLC शिक्षक मेरठ सहारनपुर क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार श्रीचंद शर्मा का बढ़त बरकरार
नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चल रहे विकास कार्यों का ...
नियमों का हवाला देकर मैच में जो हुआ उसपर हंसा जाए या नाराज़ हुआ जाए
मसूद अजहर का भाई गिरफ्तार, अब्दुर रऊफ ने ही IC-814 विमान को किया था हाईजैक
राज्यसभा में तीन तलाक बिल पास सरकार ने बनाया फुलप्रूफ प्लान