Bihar election 2020:कांग्रेस को 70 सीटें देने का भुगतना पड़ा खामियाजा,RJD को हुआ नुकसान

Patna:कांग्रेस ने बिहार विधानसभा चुनाव में 70 सीटों पर चुनाव लड़ा, लेकिन वह केवल 19 सीटें ही जीत सकी. यही वजह रही कि महागठबंधन 122 के जादुई आंकड़े तक नहीं पहुंच सका. पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने ये बात कही है. कांग्रेस के अंदरूनी सूत्रों का मानना है कि 70 सीटों पर उम्मीदवारों को मैदान में उतारने के बजाय पार्टी कम संख्या में चुनाव लड़ सकती थी, खास कर ऐसी जगहों पर जहां उसकी उपस्थिति मजबूत थी. स्थानीय कांग्रेस नेताओं का कहना है कि वे पार्टी के केंद्रीय नेताओं को सीधे भाजपा के खिलाफ चुनाव लड़ने के बारे में आगाह करते रहे हैं.

छोटी पार्टियां देती ज्यादा फायदा
पार्टी के नेताओं का कहना है कि कांग्रेस के लिए ज्यादा सीटों पर लड़ने के बजाय छोटी पार्टियों के साथ गठबंधन करना ज्यादा बेहतर होता. आखिरकार छोटी पार्टियों — हम और वीआईपी ने एनडीए को जादुई आंकड़े तक पहुंचने में मदद की. कांग्रेस, हालांकि, हार के लिए और वोट काटने के लिए एआईएमआईएम को जिम्मेदार ठहराती है.

कांग्रेस ने एआईएमआईम पर फोड़ा ठीकरा
पार्टी के नेता अधीर चौधरी ने कहा, “वो ओवैसी हैं जो धर्मनिरपेक्ष दलों को हराने में भाजपा की मदद कर रहे हैं.” सीमांचल में, जहां महागठबंधन अपने प्रदर्शन को दोहरा नहीं सका, एआईएमआईएम ने पांच सीटें जीतीं और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता – अब्दुल जलील मस्तान और तौसीफ आलम – एआईएमआईएम उम्मीदवारों से हार गए.

जमीनी स्तर पर काम नहीं
कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री शकीलउजमान अंसारी ने कहा, “हमने स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडे को सही उम्मीदवारों को टिकट देने के लिए कहा था, लेकिन उन्होंने ध्यान नहीं दिया.” अंदरूनी सूत्रों का मानना है कि कांग्रेस नेताओं ने पार्टी को मजबूत करने के लिए जमीनी स्तर पर काम नहीं किया और कोविड के कारण भी पार्टी समय पर लोगों तक पहुंच नहीं बना सकी.

हम-वीआईपी के जाने का हुआ नुकसान
कांग्रेस अगर अपने पिछले प्रदर्शन 27 सीटें जीतने को दोहरा लेती तो महागठबंधन को सत्ता में पहुंचाने में अहम भूमिका निभा सकती थी. लेकिन महागठबंधन से आरएलएसपी, वीआईपी और हम के बाहर जाने का इतना बड़ा नुकसान होगा ये किसी ने नहीं सोचा था. जबकि हम और वीआईपी ने एनडीए की झोली में आठ सीटें डाली हैं

यह भी देखे:-

देखें LIVE, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राम मंदिर भूमि पूजन 
सबसे बड़ा हमला, देश मांगे बदला - चन्द्रपाल प्रजापति
"Nigerian Attacked" के आरोपियों पर नाइजीरियन सरकार की सख्त कार्यवाही की मांग , भारतीय राजदूत तलब...
ELECTION RESULT 2019 : गौतमबुद्ध नगर में @ 1:35 बजे दोपहर तक का रुझान /परिणाम
क्या कांग्रेस में है,वरुण गांधी के लिए बेहतर संभावना?
चीन के इन 42 APP को रक्षा मंत्रालय ने देश की सुरक्षा के लिए बताया खतरा
ऑटो एक्सपो 2018 को लेकर डी.एम बी.एन. सिंह ने की बैठक, दिए आवश्यक दिशा -निर्देश
वर्ल्ड डेयरी समिट में श्रीजा, आशा, सखी, बालिनी, माही और पायस ने लांच किए अपने उत्पाद
मायावती के घर पर भाजपा का कब्जा
यूपी चुनाव 2022: सपा के वरिष्ठ नेता गांवों को लेंगे गोद, मोहल्ले में जाकर करेंगे विकास योजनाओं का प्...
जानिए, आज चंद्रग्रहण के साथ क्या होगी दुर्लभ खगोलीय घटना
पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार दुनिया भर में सबसे ज्यादा भरोसेमंद- OECD REPORT
ब्रिटिश विश्वविद्यालय से कॉस्मेटोलॉजी में डॉक्टरेट अर्जित करने वाले भारत के पहले कॉस्मेटोलॉजिस्ट बने...
आज किसानों का रेल रोको अभियान
बिहार चुनाव: तेजस्वी यादव होंगे महागठबंधन के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार
12 अक्टूबर को शुरू होगा दुनिया का नंबर-1 होम़ सोर्सिंग शोः ईपीसीएच