शादी और लॉटरी के नाम पर नाईजीरियन्स करते थे ठगी, एसटीएफ ने दबोचा

नोएडा एसटीएफ ने नाइजीरिया के चार नागरिकों को शादी और लॉटरी के नाम पर पैसे ऐंठने के आरोप में गिरफ्तार किया है। यूपी एसटीएफ नोएडा यूनिट द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति —

*स्पेशल टास्क फोर्स, उत्तर प्रदेश, लखनऊ।*
*प्रेस नोट संख्याः 257, दिनांक 16-10-2020*

*भारतीय नागरिको से विवाह, लाटरी आदि के नाम पर करोड़ो रूपये की ठगी करने वाले अन्तर्राष्ट्रीय फ्राडस्टर्स गैंग के 04 नाइजीरियन नेशनल को एसटीएफ, उ0प्र0 ने दिल्ली से किया गिरफ्तार।*

दिनांक 15-10-2020 को एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को भारतीय नागरिको से विवाह, लाटरी आदि के नाम पर करोड़ो रूपये की ठगी करने वाले अन्तर्राष्ट्रीय फ्राडस्टर्स गैंग के 04 नाइजीरियन नेशनल को दिल्ली से गिरफ्तार करने मे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।

*गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरणः-*
1- माईकल चियागोजियमा पुत्र चियागो जियमा नि0 अवका अनम्बरा स्टेट, नइजीरिया।
2- फ्रैन्सिस इमैका उडाला पुत्र उडाला, माइस अवका, अनमबरा स्टेट, नाइजीरिया।
3- नेल्सन चियागोजियमा पुत्र चियागो जियमा नि0 अवका अनम्बरा स्टेट, नइजीरिया।
4- पैट्रिक चकोडी उडाला पुत्र उडाला, माइस अवका, अनमबरा स्टेट, नाइजीरिया।

*बरामदगीः-*
1. 34 अदद मोबाईल फोन।
2. 07 अदद लैपटाप।
3. 13 अदद इण्डियन सिम कार्ड।
4. 03 अदद नाइजीरियन सिम कार्ड।
5. 03 अदद यू0के0 सिम कार्ड।
6. 45 अदद एटीएम कार्ड। (विभिन्न इण्डियन बैंक)
7. 01 अदद एटीएम कार्ड। (नायरा बैंक नाइजीरिया)
8. 07 अदद चेक बुक।
9. 82 अदद बैंक पासबुक (मिजोरम व नागालैण्ड की बैंक शाखाओं के)
10. 10 अदद बैंक पासबुक (एन0सी0आर0 की बैंक शाखाओं के)
11. 07 अदद वाई-फाई डोंगल।
12. 10 अदद पासपोर्ट।
13. 05 अदद पेन ड्राइव।
14. 07 अदद लैपटाप चार्जर।
15. 03 अदद माउस।
16. 2200 नायरा। (नाइजीरियन करेन्सी)
17. रू0 4,790/- (इण्डियन करेन्सी)
18. 03 अदद वीजा। (जिनकी वैलीडिटी समाप्त हो चुकी है।)
19. 03 अदद येलो कार्ड।

*गिरफ्तारी का स्थान व समयः-*
दिनांक 15-10-2020 समय 14.15 बजे गोविन्दपुरी, साउथ दिल्ली।

दिनांक 30.05.2020 को थाना कोतवाली हरदोई पर मु0अ0सं0 286/2020 धारा 420 भादवि व 66डी आईटी एक्ट का अभियोग एक सहायक अध्यापिका बेसिक शिक्षा परिषद हरदोई द्वारा पंजीकृत कराया गया था। अभियोग की विवेचक श्रीमती श्वेता त्रिपाठी द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ से अभियोग के अनावरण में सहयोग प्रदान किये जाने के क्रम में पुलिस उपाधीक्षक श्री प्रमेश कुमार शुक्ला के नेतृत्व में काम करने वाली टीम को दायित्व दिया गया। प्रथम सूचना रिपोर्ट से ज्ञात हुआ कि अभियोग की वादिनी द्वारा Bharat Matrimony (Divorce Matrimony) वेब साईट पर सुटेबल मैच के लिए अपनी प्रोफाईल पोस्ट की थी, जिसके प्रत्युत्तर में एक फ्राडस्टर ने यूनाइटेड किंगडम (U.K.) के वर्चुवल नम्बर (Virtual Number) से मैसेजिंग व व्हाट्सएप चैटिंग शुरू की गयी। कुछ समय बाद वादिनी को एक गिफ्ट पार्सल भेजकर सम्बन्धित कोरियर कम्पनी का लिंक एवं ग्लोबल ट्रैकिंग नम्बर दिया गया। ट्रैक करने पर पार्सल दिल्ली एअरपोर्ट पर कस्टम फीस के लिए रोका जाना दिखा रहा था। उक्त सम्बन्ध में स्वंय को इन्दिरा गांधी इन्टरनेशनल एअरपोर्ट नई दिल्ली की कस्टम शाखा का अधिकारी बताकर एक लेडी द्वारा वादिनी से कस्टम फीस के लिए, पार्सल स्कैनिंग में विदेशी मुद्रा पाउण्ड होने के कारण अतिरिक्त कस्टम शुल्क एवं इनकम टैक्स क्लियरेन्स के लिए भिन्न-भिन्न बैंक खातों में लगभग 7.50 लाख रूपये की रकम जमा करायी गयी। पुनः विदेशी मुद्रा को भारतीय मुद्रा में कन्वर्ट करने के लिए 7.37 लाख रूपये जमा कराने की बात पर वादिनी को उसके साथ ठगी का अंदेशा होने पर अभियोग उपरोक्त उनके द्वारा पंजीकृत कराया गया। फ्राडस्टर्स द्वारा जिन खातों में पैसा जमा कराया गया वह पूर्वोत्तर भारत के नागालैण्ड व मिजोरम प्रान्तों के बैंक खाते थे, जिनके स्टेटमेन्ट से ज्ञात हुआ कि इनमें पश्चिम बंगाल, तमिलनाडू, आन्ध्रप्रदेश, तेलंगाना आदि प्रान्तों के एस0के0 स्मिती, पी0 हर्ष, सैन्थिल कुमार, साब्यसाची मजुमदार, डी अनुसुईया, प्रियंका, वन्दना गिरी, थिरूप, शकुन्तला, दीक्षा गुप्ता आदि द्वारा भी पैसे जमा कराये गये थे। रैण्डम आधार पर इनमें से कुछ व्यक्तियों यथा सैन्थिल कुमार व डी अनुसुईया से उक्त खातों में पैसा जमा कराने के औचित्य की जानकारी करने पर ज्ञात हुआ कि टी0 एस0 रमेश निवासी बालापेट बेल्योर तमिलनाडू द्वारा कोकोकोला रिलिफ फण्ड के नाम पर उनसे पैसा इस कमिटमेंट के साथ जमा कराया गया कि कुछ माह उपरान्त चार गुना रकम वापस कर दी जायेगी। यह भी ज्ञात हुआ कि टी0एस0 रमेश बेल्लोर के एक धार्मिक संस्था में कैटरिंग का काम करता है तथा स्वंय को युगाण्डा निवासी टोनी डेनिस के लिए काम करना बताता है और स्वंय युगाण्डा सहित विभिन्न देशों के वर्चुवल नम्बर (टपतजनंस छनउइमत) के माध्यम से टोनी डेनिस से कान्फ्रेसिंग कर बात कराता है।

जमीनी व इलेक्ट्रिनिक अभिसूचना से ज्ञात हुआ कि उपरोक्त घटना से सम्बन्धित फ्राडस्टर्स गैंग के तार साउथ दिल्ली के गोविन्दपुरी व तुगलकाबाद थाना क्षेत्र में रह कर आनलाईन फ्राड करने वाले नाइजीरियन गिरोह से जुड़े है। उक्त सूचना को विकसित करने हेतु एसटीएफ मुख्यालय से निरीक्षक श्री पंकज मिश्र, उ0नि0 शैलेन्द्र, आरक्षी मृत्युन्जय व मुनेन्द्र की एक टीम तथा उपरोक्त अभियोग की विवेचक श्रीमती श्वेता त्रिपाठी को दिल्ली भेजा गया। उक्त के क्रम में ज्ञात हुआ कि नाइजीरियन गिरोह का मुख्य सरगना जेम्स जिम उर्फ टोनी डेनिस थाना गोविन्दपुरी नई दिल्ली के गली नम्बर 19 स्थित श्री गुरूप्रीत सिंह ओबेराय के मकान नम्बर 266/19 से गिरोह का संचालन कर रहा है। दिनांक 15.10.2020 को एसटीएफ टीम द्वारा अभियोग के विवेचक, स्थनीय पुलिस व मकान मालिक के साथ उक्त आवास पर दबिश देकर उपरोक्त अभियुक्तों (नाइजीरियन नेशनल) को गिरफ्तार किया गया, जिनसे उपरोक्त बरामदगी की गयी।

गिरफ्तार अभियुक्तों के वीजा पासपोर्ट के अवलोकन से पाया गया कि माइकल, पैट्रिक व नेलसन के पासपोर्ट वैध है, पर वीजा की अवधि कई माह पहले ही समाप्त हो चुकी है। इसी प्रकार फ्रैन्सिस की वीजा अवधि भी समाप्त हो चुकी है, इसने अपना पासपोर्ट किसी ब्रोकर को वीजा से सम्बन्धित कार्य के लिए दिया हुआ है। चारों गिरफ्तार अभियुक्तों के भारत में अवैध रूप से निवास करने के कारण इनके विरूद्ध 14 Foreigners act 1946 के अन्तर्गत भी अलग से कार्यवाही की जा रही है। छानबीन से यह भी पता चला कि इन चारो अभियुक्तों ने वर्ष 2019 में मेडिकल ग्राउण्ड पर अपोलो अस्पताल, नई दिल्ली में हार्ट ट्रीटमेन्ट के लिए वीजा लिया था। इन्ही की तरह इस गैंग के बहुत सारे नाइजीरियन गलत तरीके से मेडिकल वीजा पर भारत आकर वीजा अवधि समाप्त होने के बाद भी लम्बे समय तक निवास करते है और आन लाइन फ्राड व ड्रग रैकेट के अपराध में संलिप्त रहते है। उक्त सम्बन्ध में सम्बन्धित एफ0आर0आर0ओ0 एवं दूतावास से अलग से पत्राचार भी किया जा रहा है।

अभियुक्तों से पूछताछ से ज्ञात हुआ कि इस गिरोह का सरगना जेम्स जिम उर्फ डेनिस टोनी है। इस गैंग द्वारा नार्थ इस्ट इण्डिया के मिजोरम, नागालैण्ड, मणिपुर आदि प्रान्तों के पुरूष/महिलाओं के नाम से बैंक खाते खुलवाये गये हैं, जिनके एटीएम कार्ड, पासबुक एवं एस0एम0एस0 एलर्ट मोबाइल नम्बर भी गैंग के लोगों ने अपने पास ही रखा है। इन्ही बैंक खातों में ठगी के शिकार व्यक्तियों से पैसे जमा कराये जाते है एवं शीघ्र ही एटीएम कार्ड के माध्यम से विदड्राल कर लिया जाता है, जिसका कुछ अंश सम्बन्धित खाता धारक को भी दिया जाता है। यह गिरोह फेसबुक, इंस्ट्राग्राम, मेट्रीमोनियल साईट्स के माध्यम से लाटरी एवं रिलीफ फण्ड आदि के नाम पर लोगो से बाते कर अपने जाल में फसाया जाता है। फर्जी कोरियर वेब पेज एवं आर0बी0आई0 (रिजर्व बैंक आफ इण्डिया) वेब पेज क्रिएट करते है जिसको ट्रैक कर कोई भी इनके झासे में आ जाता है। गिफ्ट कार्ड के माध्यम से बर्चुवल नम्बर क्रय करते है और आवश्यकता अनुसार नम्बर एडिट कर विभिन्न देशों के वर्चुवल नम्बर (Virtual Number) से ठगी के शिकार व्यक्तियों से बात करते है। पूछताछ से यह भी ज्ञात हुआ कि इस गिरोह द्वारा भारत वर्ष के विभिन्न प्रान्तों के लोगो से 100 करोड़ो रूपये से अधिक की आनलाइन ठगी की गयी है।

गिरफ्तार अभियुक्तों को दिल्ली से जनपद हरदोई लाकर उनके विरूद्ध मु0अ0सं0 286/2020 धारा 420, 467, 468, 471 भादवि व 66 डी आई0टी0 एक्ट व 14 Foreigners act 1946 थाना कोतवाली हरदोई, जनपद हरदोई में अग्रिम विधिक कार्यवाही सम्पादित की जा रही है। इस गिरोह के सम्बन्ध में विस्तृत छानबीन हेतु आई0बी0 (आसूचना ब्यूरो) फारेनर्स रीजनल रजिस्ट्रेशन आफिसर (एफ0आर0आर0ओ0), इनकम टैक्स विभाग, प्रवर्तन निदेशालय, (ई0डी0) एवं नाइजीरिया दूतावास से अलग से पत्राचार किया जा रहा है।

*स्पेशल टास्क फोर्स, उत्तर प्रदेश, लखनऊ।*
*प्रेस नोट संख्याः 257, दिनांक 16-10-2020*

*भारतीय नागरिको से विवाह, लाटरी आदि के नाम पर करोड़ो रूपये की ठगी करने वाले अन्तर्राष्ट्रीय फ्राडस्टर्स गैंग के 04 नाइजीरियन नेशनल को एसटीएफ, उ0प्र0 ने दिल्ली से किया गिरफ्तार।*

दिनांक 15-10-2020 को एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को भारतीय नागरिको से विवाह, लाटरी आदि के नाम पर करोड़ो रूपये की ठगी करने वाले अन्तर्राष्ट्रीय फ्राडस्टर्स गैंग के 04 नाइजीरियन नेशनल को दिल्ली से गिरफ्तार करने मे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।

*गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरणः-*
1- माईकल चियागोजियमा पुत्र चियागो जियमा नि0 अवका अनम्बरा स्टेट, नइजीरिया।
2- फ्रैन्सिस इमैका उडाला पुत्र उडाला, माइस अवका, अनमबरा स्टेट, नाइजीरिया।
3- नेल्सन चियागोजियमा पुत्र चियागो जियमा नि0 अवका अनम्बरा स्टेट, नइजीरिया।
4- पैट्रिक चकोडी उडाला पुत्र उडाला, माइस अवका, अनमबरा स्टेट, नाइजीरिया।

*बरामदगीः-*
1. 34 अदद मोबाईल फोन।
2. 07 अदद लैपटाप।
3. 13 अदद इण्डियन सिम कार्ड।
4. 03 अदद नाइजीरियन सिम कार्ड।
5. 03 अदद यू0के0 सिम कार्ड।
6. 45 अदद एटीएम कार्ड। (विभिन्न इण्डियन बैंक)
7. 01 अदद एटीएम कार्ड। (नायरा बैंक नाइजीरिया)
8. 07 अदद चेक बुक।
9. 82 अदद बैंक पासबुक (मिजोरम व नागालैण्ड की बैंक शाखाओं के)
10. 10 अदद बैंक पासबुक (एन0सी0आर0 की बैंक शाखाओं के)
11. 07 अदद वाई-फाई डोंगल।
12. 10 अदद पासपोर्ट।
13. 05 अदद पेन ड्राइव।
14. 07 अदद लैपटाप चार्जर।
15. 03 अदद माउस।
16. 2200 नायरा। (नाइजीरियन करेन्सी)
17. रू0 4,790/- (इण्डियन करेन्सी)
18. 03 अदद वीजा। (जिनकी वैलीडिटी समाप्त हो चुकी है।)
19. 03 अदद येलो कार्ड।

*गिरफ्तारी का स्थान व समयः-*
दिनांक 15-10-2020 समय 14.15 बजे गोविन्दपुरी, साउथ दिल्ली।

दिनांक 30.05.2020 को थाना कोतवाली हरदोई पर मु0अ0सं0 286/2020 धारा 420 भादवि व 66डी आईटी एक्ट का अभियोग एक सहायक अध्यापिका बेसिक शिक्षा परिषद हरदोई द्वारा पंजीकृत कराया गया था। अभियोग की विवेचक श्रीमती श्वेता त्रिपाठी द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एसटीएफ से अभियोग के अनावरण में सहयोग प्रदान किये जाने के क्रम में पुलिस उपाधीक्षक श्री प्रमेश कुमार शुक्ला के नेतृत्व में काम करने वाली टीम को दायित्व दिया गया। प्रथम सूचना रिपोर्ट से ज्ञात हुआ कि अभियोग की वादिनी द्वारा Bharat Matrimony (Divorce Matrimony) वेब साईट पर सुटेबल मैच के लिए अपनी प्रोफाईल पोस्ट की थी, जिसके प्रत्युत्तर में एक फ्राडस्टर ने यूनाइटेड किंगडम (U.K.) के वर्चुवल नम्बर (Virtual Number) से मैसेजिंग व व्हाट्सएप चैटिंग शुरू की गयी। कुछ समय बाद वादिनी को एक गिफ्ट पार्सल भेजकर सम्बन्धित कोरियर कम्पनी का लिंक एवं ग्लोबल ट्रैकिंग नम्बर दिया गया। ट्रैक करने पर पार्सल दिल्ली एअरपोर्ट पर कस्टम फीस के लिए रोका जाना दिखा रहा था। उक्त सम्बन्ध में स्वंय को इन्दिरा गांधी इन्टरनेशनल एअरपोर्ट नई दिल्ली की कस्टम शाखा का अधिकारी बताकर एक लेडी द्वारा वादिनी से कस्टम फीस के लिए, पार्सल स्कैनिंग में विदेशी मुद्रा पाउण्ड होने के कारण अतिरिक्त कस्टम शुल्क एवं इनकम टैक्स क्लियरेन्स के लिए भिन्न-भिन्न बैंक खातों में लगभग 7.50 लाख रूपये की रकम जमा करायी गयी। पुनः विदेशी मुद्रा को भारतीय मुद्रा में कन्वर्ट करने के लिए 7.37 लाख रूपये जमा कराने की बात पर वादिनी को उसके साथ ठगी का अंदेशा होने पर अभियोग उपरोक्त उनके द्वारा पंजीकृत कराया गया। फ्राडस्टर्स द्वारा जिन खातों में पैसा जमा कराया गया वह पूर्वोत्तर भारत के नागालैण्ड व मिजोरम प्रान्तों के बैंक खाते थे, जिनके स्टेटमेन्ट से ज्ञात हुआ कि इनमें पश्चिम बंगाल, तमिलनाडू, आन्ध्रप्रदेश, तेलंगाना आदि प्रान्तों के एस0के0 स्मिती, पी0 हर्ष, सैन्थिल कुमार, साब्यसाची मजुमदार, डी अनुसुईया, प्रियंका, वन्दना गिरी, थिरूप, शकुन्तला, दीक्षा गुप्ता आदि द्वारा भी पैसे जमा कराये गये थे। रैण्डम आधार पर इनमें से कुछ व्यक्तियों यथा सैन्थिल कुमार व डी अनुसुईया से उक्त खातों में पैसा जमा कराने के औचित्य की जानकारी करने पर ज्ञात हुआ कि टी0 एस0 रमेश निवासी बालापेट बेल्योर तमिलनाडू द्वारा कोकोकोला रिलिफ फण्ड के नाम पर उनसे पैसा इस कमिटमेंट के साथ जमा कराया गया कि कुछ माह उपरान्त चार गुना रकम वापस कर दी जायेगी। यह भी ज्ञात हुआ कि टी0एस0 रमेश बेल्लोर के एक धार्मिक संस्था में कैटरिंग का काम करता है तथा स्वंय को युगाण्डा निवासी टोनी डेनिस के लिए काम करना बताता है और स्वंय युगाण्डा सहित विभिन्न देशों के वर्चुवल नम्बर (टपतजनंस छनउइमत) के माध्यम से टोनी डेनिस से कान्फ्रेसिंग कर बात कराता है।

जमीनी व इलेक्ट्रिनिक अभिसूचना से ज्ञात हुआ कि उपरोक्त घटना से सम्बन्धित फ्राडस्टर्स गैंग के तार साउथ दिल्ली के गोविन्दपुरी व तुगलकाबाद थाना क्षेत्र में रह कर आनलाईन फ्राड करने वाले नाइजीरियन गिरोह से जुड़े है। उक्त सूचना को विकसित करने हेतु एसटीएफ मुख्यालय से निरीक्षक श्री पंकज मिश्र, उ0नि0 शैलेन्द्र, आरक्षी मृत्युन्जय व मुनेन्द्र की एक टीम तथा उपरोक्त अभियोग की विवेचक श्रीमती श्वेता त्रिपाठी को दिल्ली भेजा गया। उक्त के क्रम में ज्ञात हुआ कि नाइजीरियन गिरोह का मुख्य सरगना जेम्स जिम उर्फ टोनी डेनिस थाना गोविन्दपुरी नई दिल्ली के गली नम्बर 19 स्थित श्री गुरूप्रीत सिंह ओबेराय के मकान नम्बर 266/19 से गिरोह का संचालन कर रहा है। दिनांक 15.10.2020 को एसटीएफ टीम द्वारा अभियोग के विवेचक, स्थनीय पुलिस व मकान मालिक के साथ उक्त आवास पर दबिश देकर उपरोक्त अभियुक्तों (नाइजीरियन नेशनल) को गिरफ्तार किया गया, जिनसे उपरोक्त बरामदगी की गयी।

गिरफ्तार अभियुक्तों के वीजा पासपोर्ट के अवलोकन से पाया गया कि माइकल, पैट्रिक व नेलसन के पासपोर्ट वैध है, पर वीजा की अवधि कई माह पहले ही समाप्त हो चुकी है। इसी प्रकार फ्रैन्सिस की वीजा अवधि भी समाप्त हो चुकी है, इसने अपना पासपोर्ट किसी ब्रोकर को वीजा से सम्बन्धित कार्य के लिए दिया हुआ है। चारों गिरफ्तार अभियुक्तों के भारत में अवैध रूप से निवास करने के कारण इनके विरूद्ध 14 Foreigners act 1946 के अन्तर्गत भी अलग से कार्यवाही की जा रही है। छानबीन से यह भी पता चला कि इन चारो अभियुक्तों ने वर्ष 2019 में मेडिकल ग्राउण्ड पर अपोलो अस्पताल, नई दिल्ली में हार्ट ट्रीटमेन्ट के लिए वीजा लिया था। इन्ही की तरह इस गैंग के बहुत सारे नाइजीरियन गलत तरीके से मेडिकल वीजा पर भारत आकर वीजा अवधि समाप्त होने के बाद भी लम्बे समय तक निवास करते है और आन लाइन फ्राड व ड्रग रैकेट के अपराध में संलिप्त रहते है। उक्त सम्बन्ध में सम्बन्धित एफ0आर0आर0ओ0 एवं दूतावास से अलग से पत्राचार भी किया जा रहा है।

अभियुक्तों से पूछताछ से ज्ञात हुआ कि इस गिरोह का सरगना जेम्स जिम उर्फ डेनिस टोनी है। इस गैंग द्वारा नार्थ इस्ट इण्डिया के मिजोरम, नागालैण्ड, मणिपुर आदि प्रान्तों के पुरूष/महिलाओं के नाम से बैंक खाते खुलवाये गये हैं, जिनके एटीएम कार्ड, पासबुक एवं एस0एम0एस0 एलर्ट मोबाइल नम्बर भी गैंग के लोगों ने अपने पास ही रखा है। इन्ही बैंक खातों में ठगी के शिकार व्यक्तियों से पैसे जमा कराये जाते है एवं शीघ्र ही एटीएम कार्ड के माध्यम से विदड्राल कर लिया जाता है, जिसका कुछ अंश सम्बन्धित खाता धारक को भी दिया जाता है। यह गिरोह फेसबुक, इंस्ट्राग्राम, मेट्रीमोनियल साईट्स के माध्यम से लाटरी एवं रिलीफ फण्ड आदि के नाम पर लोगो से बाते कर अपने जाल में फसाया जाता है। फर्जी कोरियर वेब पेज एवं आर0बी0आई0 (रिजर्व बैंक आफ इण्डिया) वेब पेज क्रिएट करते है जिसको ट्रैक कर कोई भी इनके झासे में आ जाता है। गिफ्ट कार्ड के माध्यम से बर्चुवल नम्बर क्रय करते है और आवश्यकता अनुसार नम्बर एडिट कर विभिन्न देशों के वर्चुवल नम्बर (Virtual Number) से ठगी के शिकार व्यक्तियों से बात करते है। पूछताछ से यह भी ज्ञात हुआ कि इस गिरोह द्वारा भारत वर्ष के विभिन्न प्रान्तों के लोगो से 100 करोड़ो रूपये से अधिक की आनलाइन ठगी की गयी है।

गिरफ्तार अभियुक्तों को दिल्ली से जनपद हरदोई लाकर उनके विरूद्ध मु0अ0सं0 286/2020 धारा 420, 467, 468, 471 भादवि व 66 डी आई0टी0 एक्ट व 14 Foreigners act 1946 थाना कोतवाली हरदोई, जनपद हरदोई में अग्रिम विधिक कार्यवाही सम्पादित की जा रही है। इस गिरोह के सम्बन्ध में विस्तृत छानबीन हेतु आई0बी0 (आसूचना ब्यूरो) फारेनर्स रीजनल रजिस्ट्रेशन आफिसर (एफ0आर0आर0ओ0), इनकम टैक्स विभाग, प्रवर्तन निदेशालय, (ई0डी0) एवं नाइजीरिया दूतावास से अलग से पत्राचार किया जा रहा है।

यह भी देखे:-

नोएडा सेक्टर - 20 पुलिस ने ओल्ड करंसी के साथ दो को किया गिरफ्तार
Bigg Boss 11: विकास गुप्ता के फैंस ने तोड़े सारे रेकोर्ड्स
बदमाश और पुलिस के बीच मुठभेड़, बदमाश और सिपाही घायल
एटीएम कार्ड बदल हज़ारों की ठगी
रेप के आरोप में सहपाठी छात्र गिरफ्तार, अन्य की तलाश जारी
अगर  फेसबुक मेसेंजर पर आपका साथी मांग रहा है रूपये , तो हों जाएँ सावधान , पढ़ें पूरी खबर 
शातिर बदमाश गिरफ्तार, पांच सौ से ज्यादा की लूट की वारदात
चोरी के आरोप में मां बेटा गिरफ्तार
ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे का काम रोक किसानों ने रखी ये मांगे 
आज का पंचांग , 6 जुलाई 2020 , जानिए शुभ अशुभ मुहूर्त 
बढ़ते अपराध को लेकर कोतवाल प्रभारियों में फेरबदल
ग्रेनो वेस्ट में चल रही माँ सीता रसोई का समापन
कासना पुलिस के हत्थे चढ़ा शातिर बदमाशों का गिरोह, चोरी के मोबाईल बरामद
बड़ी कार्यवाही, ज्यादा फीस लेने वाले इन 17 स्कूल पर लगा भारी जुर्माना
नोएडा गैंगरेप में वांटेड दोनों आरोपी गिरफ्तार , 25 हज़ार का था ईनाम
ग्रेटर नोएडा के मुबारकपुर में तीन मंजिला इमारत गिरी